राजस्थान विधानसभा उपचुनाव : राजसमंद में सहानुभूति की लहर जीतेगी या फिर बदलाव का मंत्र आएगा काम

Rajasthan ByPoll Results Live: राजसमंद में सहानुभूति की लहर जीतेगी या फिर बदलाव का मंत्र आएगा काम

Rajasthan ByPoll Results Live: राजसमंद में सहानुभूति की लहर जीतेगी या फिर बदलाव का मंत्र आएगा काम

Rajasthan Assembly by-election: आज यह साफ हो जायेगा कि बीजेपी के गढ़ माने जाने वाले राजसमंद में कांग्रेस सेंधमारी कर पायेगी या नहीं. यहां बीजेपी और कांग्रेस दोनों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश की राजसमंद (Rajsamand) वह विधानसभा सीट है, जिस पर कांग्रेस की नजर है. दो दशक से बीजीपी (BJP) का गढ़ रही इस सीट पर इस बार मुकाबला बीजेपी की दीप्ति माहेश्वरी और कांग्रेस (Congress) के तनसुख बोहरा के बीच है. मतगणना के बाद आज यह स्पष्ट हो जाएगा कि मतदाता सहानुभूति लहर के साथ गए या उन्होंने बदलाव का मूलमंत्र चुनकर सत्ता पक्ष के साथ जाना उचित समझा.

राजसमंद सीट पर दस प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला बीजेपी और कांग्रेस के बीच है. इस सीट पर पिछले तीन विधानसभा चुनाव से बीजेपी की किरण माहेश्वरी विजयश्री का ​वरण करती रही हैं. इस बार उनकी बेटी ने चुनाव लड़ा है. चुनाव से ऐन पहले नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया का महाराणा प्रताप को लेकर दिया गया बयान राजपूतों को नाराज कर गया. इसके लिए उन्हें दो बार माफी भी मांगनी पड़ी. राजपूतों का असंतोष यदि चुनाव में बीजेपी के खिलाफ गया तो उसे इसका नुकसान उठाना पड़ सकता है.

9.41 प्रतिशत कम हुआ मतदान

इस उपचुनाव में सर्वाधिक 67.18 फीसदी मतदान राजसमंद विधानसभा क्षेत्र में ही हुआ. लेकिन यहां पिछले विधानसभा चुनाव में 76.59 फीसदी वोट पड़े थे. इस तरह इस बार 9.41 प्रतिशत कम मतदान हुआ है.
राजसमंद का राजनीतिक इतिहास

राजसमंद विधानसभा सीट अब तक सात बार कांग्रेस और छह बार बीजेपी जीती है. 2003 से ही यह बीजेपी की परंपरागत सीट बनी हुई है. 2008 में आरक्षित सीट समाप्त होने के बाद से यहां से किरण माहेश्वरी जीतती आ रही हैं. सीट को बरकरार रखने के लिए जातिगत समीकरण काफी कुछ मायने रखता है. इस सीट पर राजपूत और महाजन वर्ग के प्रत्याशियों को टिकट मिलता रहा है. लेकिन राजपूतों के ज्यादा मतदाता होते हुए भी महाजन वर्ग का पलड़ा भारी रहा है. ऐसे में गत 2008 और 2013 में कांग्रेस प्रत्याशी हरिसिंह राठौड़ की हार हुई. पिछले चुनाव में कांग्रेस ने प्रत्याशी बदला और नारायण सिंह भाटी को चुनाव लड़वाया, लेकिन जीत नसीब नहीं हुई.

विधानसभा क्षेत्र में मतदाता



कुल मतदाता - 221610

पुरुष - 112718

महिला - 108892
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज