टोंक में बीजेपी के कद्दावर नेता युनूस खान का पीसीसी चीफ से कड़ा मुकाबला

प्रदेश की दूसरी बड़ी हाई प्रोफाइल सीट के तौर पर लोगों की निगाहें टोंक विधानसभा सीट पर लगी है. यहां पीसीसी चीफ सचिन पायलट और बीजेपी के कद्दावर मंत्री युनूस खान मैदान में हैं.

News18 Rajasthan
Updated: December 6, 2018, 7:37 PM IST
टोंक में बीजेपी के कद्दावर नेता युनूस खान का पीसीसी चीफ से कड़ा मुकाबला
सचिन पायलट। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
News18 Rajasthan
Updated: December 6, 2018, 7:37 PM IST
प्रदेश की दूसरी बड़ी हाई प्रोफाइल सीट के तौर पर लोगों की निगाहें टोंक विधानसभा सीट पर लगी है. यहां गत करीब पांच साल से प्रदेश कांग्रेस की कमान संभाल रहे पीसीसी चीफ सचिन पायलट चुनाव मैदान में हैं. पायलट के यहां से चुनाव मैदान में आने के बाद बीजेपी ने भी अपनी रणनीति को बदलते हुए पूर्व घोषित प्रत्याशी अजीत मेहता को हटाकर अपने अल्पसंख्यक चेहरे युनूस खान को चुनाव मैदान में उतारा है.

दोनों ही प्रत्याशियों के लिए यह नया क्षेत्र है, लिहाजा दोनों तरफ से जबर्दस्त जोर आजमाइश चल रही है. राजनीतिक कद के लिहाज से भी दोनों नेताओं की अपनी-अपनी एक अलग पहचान है. पायलट पीसीसी चीफ होने के साथ ही दौसा व अजमेर से सांसद और केन्द्र में मंत्री रह चुके हैं. वे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भी करीबी माने जाते हैं. वहीं बीजेपी प्रत्याशी युनूस खान का भी लंबा राजनैतिक अनुभव है. वे नागौर के डीडवाना से चुनाव लड़ते रहे हैं. प्रदेश बीजेपी में बड़ा अल्पसंख्यक चेहरा होने के साथ ही वे सीएम राजे के खास सिपाहसालर भी हैं. बीजेपी ने प्रदेश में एकमात्र अल्पसंख्यक युनूस खान पर दांव खेला है.

ये भी पढ़ें- वसुंधरा राजे को उन्हीं के 'गढ़' में चुनाैती देने वाले, कौन हैं मानवेंद्र सिंह? 

5 बार सांसद, 4 बार विधायक और 2 बार CM बन चुकी हैं वसुंधरा राजे, पढ़ें- पूरी प्रोफाइल

दोनों उम्मीदवार पैराशूटर हैं
टोंक की जनता के लिए दोनों प्रत्याशी बाहरी हैं, लिहाजा बीजेपी और कांग्रेस दोनों की खेमों के लिए स्थानीय प्रत्याशी मुद्दा अब मायने नहीं रख रहा है. अल्पसंख्यक मतों की बहुलता वाले इस विधानसभा क्षेत्र में स्थानीय जनता किस पैराशूटर यानी बाहरी प्रत्याशी को अपना विधायक चुनेगी यह तो मतगणना के बाद ही साफ हो पाएगा. लेकिन यहां मुकाबला काफी दिलचस्प हो गया है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->