होम /न्यूज /राजस्थान /

अशोक गहलोत को मिली राजस्थान की कमान, सचिन होंगे को-पायलट

अशोक गहलोत को मिली राजस्थान की कमान, सचिन होंगे को-पायलट

केसी वेणुगोपाल (बाएं से दूसरे) के साथ सचिन पायलट और अशोक गहलोत

केसी वेणुगोपाल (बाएं से दूसरे) के साथ सचिन पायलट और अशोक गहलोत

अशोक गहलोत राजस्थान के अगले मुख्यमंत्री होंगे. गहलोत तीसरी बार प्रदेश की कमान संभालेंगे. तीन दिन तक चली लंबी कशमकश के बाद आखिरकार दिल्ली में कांग्रेस आलाकमान राहुल गांधी ने शुक्रवार को अशोक गहलोत के नाम पर मुहर लगा दी.

    कई दिनों के इंतजार के बाद आखिरकार राजस्‍थान को नया सीएम मिल गया. लंबे सस्पेंस के बाद आखिरकार अशोक गहलोत को राज्य की कमान संभालने की जिम्मेदारी देने का फैसला कांग्रेस आलाकमान ने किया है. वहीं, सचिन पायलट डिप्टी सीएम होंगे. इसके साथ ही पायलट राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमिटी के चीफ भी बने रहेंगे.

    नए सीएम और डिप्टी सीएम के नाम का ऐलान होने के बाद अशोक गहलोत ने कहा, 'राजस्थान में सुशासन पर काम करेंगे और जनता से किए गए वादों को पूरा करेंगे.' वहीं, पायलट ने कहा, 'मेरा और अशोक गहलोत का जादू पूरी तरह चल गया है. हम अब सरकार बनाने जा रहे हैं.'

    17 दिसंबर को कांग्रेस डे! MP-राजस्‍थान और छत्‍तीसगढ़ के नए CM एक ही दिन लेंगे शपथ: सूत्र

    राजनीति के जादूगर कहे जाने वाले अशोक गहलोत का जादू आखिरकार इस बार भी चल गया. मंगलवार को चुनाव परिणाम कांग्रेस के पक्ष में आने के बाद सीएम का नाम तय करने के लिए पार्टी की ओर से पर्यवेक्षक केसी वेणुगोपाल जयपुर पहुंच गए थे. बुधवार को पर्यवेक्षक वेणुगोपाल ने कांग्रेस के नवनिर्वाचित विधायकों के साथ बैठक कर उनका मत जानने का प्रयास किया, लेकिन सीएम पद के दावेदार अशोक गहलोत और पीसीसी चीफ सचिन पायलट के नामों में से किसी एक के नाम पर सहमति नहीं बन पाई थी.

    मुख्यमंत्री की रेस में सबसे आगे क्यों रहे अशोक गहलोत? पढ़ें, वो सबकुछ जो आप जानना चाहते हैं

    उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट।फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।


    आलाकमान ने दिल्ली बुलाकर की बात
    इस पर बैठक में सीएम का नाम तय करने का फैसला आलाकमान पर छोड़ने का प्रस्ताव पास किया गया था. उसके बाद वेणुगोपाल ने विधायकों से वन-टू-वन फीडबैक भी लिया था. पर्यवेक्षक वेणुगोपाल ने गुरुवार को दिल्ली में अपनी रिपोर्ट पार्टी आलाकमान को सौंप दी. सीएम फेस के विवाद को देखते हुए आलाकमान ने गहलोत व पायलट को दिल्ली बुलाया, लेकिन गुरुवार को भी दिल्ली में दिनभर चले सियासी ड्रामे के बावजूद देर रात तक सहमति नहीं बन पाई.

    शुक्रवार को दोपहर में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने दोनों के साथ फिर बैठक की. बैठक में बतौर मुख्यमंत्री गहलोत और उप मुख्यमंत्री के लिए पायलट के नाम पर मुहर लगा दी गई. उसके बाद शाम सवा चार बजे दिल्ली स्थित एआईसीसी कार्यालय में पयवेक्षक केसी वेणुगोपाल ने मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री के नामों की औपचारिक घोषणा की.

    गहलोत दो बार पहले संभाल चुके हैं प्रदेश की बागडोर
    अशोक गहलोत का जन्‍म 3 मई 1951 को जोधपुर में हुआ. गहलोत के पिता स्‍व. लक्ष्‍मण सिंह गहलोत जादूगर थे. अशोक गहलोत ने विज्ञान और कानून में स्‍नातक डिग्री और अर्थशास्‍त्र में स्‍नातकोत्‍तर की डिग्री हासिल की. गहलोत का विवाह 27 नवंबर, 1977 को सुनीता गहलोत के साथ हुआ. गहलोत के एक पुत्र (वैभव गहलोत) और एक पुत्री (सोनिया गहलोत) हैं. गहलोत को जादू करना और घूमना-फिरना पसंद है. गहलोत इससे पूर्व दो बार राजस्थान के सीएम रह चुके हैं.

    Tags: Ashok gehlot, Assembly Election 2018, Assembly Elections 2018, Congress, Rahul gandhi, Rajasthan Assembly Election 2018, Rajasthan news, Rajasthan Polls

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर