राजस्थान विधानसभा का सत्र 31 अक्तूबर से, कृषि बिल के खिलाफ संशोधन विधेयक लाने की संभावना

उल्लेखनीय है कि राज्य मंत्री परिषद की इसी सप्ताह हुई बैठक में इस बारे में फैसला किया गया था. (फाइल फोटो)
उल्लेखनीय है कि राज्य मंत्री परिषद की इसी सप्ताह हुई बैठक में इस बारे में फैसला किया गया था. (फाइल फोटो)

अधिसूचना के अनुसार राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी (Dr. CP Joshi) ने विधानसभा की यह बैठक राज्य सरकार द्वारा अति आवश्यक शासकीय विधाई कार्य संपादित किए जाने हेतु की गई अनुशंसा पर बुलाई है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान विधानसभा (Rajasthan Legislative Assembly) की बैठक 31 अक्तूबर से फिर होगी जिसमें केंद्र द्वारा हाल ही में पारित कृषि संबंधी कानूनों (Agricultural laws) के खिलाफ पंजाब सरकार की तर्ज पर संशोधन विधेयक (Amendment Bill) लाए जाने की संभावना है. राजस्थान विधानसभा सचिवालय द्वारा शनिवार को इस बारे में अधिसूचना जारी की गई. इसके अनुसार राजस्थान विधानसभा के पांचवें सत्र की बैठक 24 अगस्त को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दी गई थी, वह अब 31 अक्टूबर हो पुनः होगी.

 'निष्प्रभावी' करने के लिए संशोधन विधेयक ला सकती है
अधिसूचना के अनुसार राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने विधानसभा की यह बैठक राज्य सरकार द्वारा अति आवश्यक शासकीय विधाई कार्य संपादित किए जाने हेतु की गई अनुशंसा पर बुलाई है. सूत्रों के अनुसार कांग्रेस सरकार इस दौरान केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में पारित कृषि संबंधी विधेयकों का राज्य में प्रभाव 'निष्प्रभावी' करने के लिए संशोधन विधेयक ला सकती है.

ये भी पढ़ें- राजस्थान : नगर निगम चुनाव में सियासत तेज, कांग्रेस के खिलाफ BJP का ब्लैक पेपर
 कानूनों के विरुद्ध में राजस्थान सरकार भी शीघ्र ऐसा ही करेगा


उल्लेखनीय है कि राज्य मंत्री परिषद की इसी सप्ताह हुई बैठक में इस बारे में फैसला किया गया था. बैठक के बाद जारी बयान में कहा गया था, “मंत्री परिषद ने राज्य के किसानों के हित में यह निर्णय किया कि किसानों के हितों को संरक्षित करने के लिए शीघ्र ही विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाए. इस सत्र में भारत सरकार द्वारा लागू किए गए कानूनों के प्रभाव पर विचार-विमर्श किया जाकर राज्य के किसानों के हित में वांछित संशोधन विधेयक लाए जाएं.” मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी ट्वीट कर कहा था, “आज पंजाब की कांग्रेस सरकार ने इन कानूनों के विरुद्ध बिल पारित किये हैं और राजस्थान भी शीघ्र ऐसा ही करेगा.”
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज