अपना शहर चुनें

States

Rajasthan Budget 2021-22: CM अशोक गहलोत पेश करेंगे बजट; जानिए इस बार क्या है खास

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज अपने तीसरे कार्यकाल का तीसरा बजट पेश करेंगे.
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज अपने तीसरे कार्यकाल का तीसरा बजट पेश करेंगे.

Rajasthan Budget 2021-22: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज प्रदेश का बजट विधानसभा में पेश करेंगे. कोविड के चलते यह बजट चुनौतीपूर्ण रहने वाला है. कोरोना के चलते लगभग 25 हजार करोड़ का राजस्व सरकार को नहीं मिला. पिछले बजट में राजकोषीय घाटा 37हजार 922 करोड़ था. कोरोना कालखंड में घाटा 40 हजार करोड़ पार करने का अनुमान है.

  • Share this:
जयपुर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज अपने तीसरे कार्यकाल का तीसरा बजट पेश करेंगे. मुख्यमंत्री गहलोत आज सुबह 11 बजे विधानसभा में साल 2021- 22 का बजट पेश करेंगे. मौजूदा कार्यकाल का यह सबसे चुनौती पूर्ण बजट रहने वाला है जिसकी वजह साफ है कि साल 2020-21 का कालखंड कोरोना वायरस के चपेट में रहा. लगभग 25 हजार करोड़ रुपये का राजस्व भी सरकार को नहीं मिल सका. एक अनुमान के तौर पर राजकोषीय घाटा बढ़कर 40 हजार करोड़ के पार हो चुका है. घाटे के बावजूद सरकार अपना डिजिटल बजट सदन में पेश करेगी. विधायकों को ब्रीफकेस के साथ में टैब दिए जाएंगे. वित्त वर्ष पूरा होने तक राजकोषीय घाटा 45 हजार करोड़ होने का अनुमान है. सदन में आज प्रश्नकाल-शून्यकाल नहीं होगा. बजट के बाद सीएम गहलोत की प्रेसवार्ता होगी.

बजट से संबंधित तमाम तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा चुका है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से केंद्र सरकार की तर्ज पर यह बजट डिजिटल बजट के रूप में पेश किया जाएगा. विधायकों को ब्रीफकेस के साथ में टैब दिया जाएगा ताकि वे हार्ड कॉपी के स्थान पर डिजिटल कॉपी का उपयोग कर सकें. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने साल 2020-21 के बजट करते हुए सदन में जानकारी दी थी कि राजस्व प्राप्तियां 1लाख 73 हजार 404 करोड़ 42 लाख रुपये थी. राजस्व व्यय 1 लाख 85 हजार, 750 करोड़ 3 लाख था और राजस्व घाटा 12 हजार, 345 करोड़, 61 लाख का अनुमान बताया था. वहीं राजकोषीय घाटा 33 हजार 922 करोड़ 77 लाख रुपए अनुमानित किया गया था. जानकारी के मुताबिक यह घाटा वित्तीय वर्ष पूरा होने तक 45 हजार करोड रुपये पार कर जाएगा.

प्रदेश का बजट होने के कारण आज सुबह प्रश्नकाल और शून्यकाल नहीं होगा. सदन में बजट पेश होने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रेस कॉन्फ्रेंस होगी तो वहीं दूसरी ओर प्रतिपक्ष के तौर पर भाजपा की ओर से भी प्रेस कॉन्फ्रेंस होगी. इसके अलावा कार्य सलाहकार समिति में 24 फरवरी तक का ही काम तय किया हुआ था. लिहाजा बजट पेश होने के बाद कार्य सलाहकार समिति की बैठक भी होगी जिसमें सदन में आगामी दिनों में होने वाले कामकाज तय किए जाएंगे. इसके अंदर आगामी 4 दिनों तक बजट अभिभाषण पर सदन में बहस होगी और राज्य सरकार की ओर से सदन में जवाब पेश होगा. अगले 8 दिन तक अनुदान की मांगों पर चर्चा होगी. इसके बाद वित्त विधेयक और विनियोग विधेयक सदन से पारित होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज