होम /न्यूज /राजस्थान /सोनिया गांधी से मिलने दिल्ली पहुंचे अशोक गहलोत, राजस्थान संकट पर कहा- घर की बातें हैं, सब मिलकर सुलझा लेंगे

सोनिया गांधी से मिलने दिल्ली पहुंचे अशोक गहलोत, राजस्थान संकट पर कहा- घर की बातें हैं, सब मिलकर सुलझा लेंगे

राजस्थान में मची सियासी खींचतान के बीच अशोक गहलोत की इस दिल्ली यात्रा पर सबकी निगाहें टिकी हैं.

राजस्थान में मची सियासी खींचतान के बीच अशोक गहलोत की इस दिल्ली यात्रा पर सबकी निगाहें टिकी हैं.

राजस्थान में मची सियासी खींचतान और कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने को लेकर सस्पेंस के बीच अशोक ग ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने के लिए दिल्ली पहुंच गए हैं.
गहलोत गुट के मंत्री खाचरियावास ने बताया कि सीएम 102 विधायकों की भावना व्यक्त करने के लिए दिल्ली जा रहे हैं.
उधर कांग्रेस अध्यक्ष के सलाहकार वेणुगोपाल ने राजस्थान संकट पर कहा कि एक-दो दिन में सब कुछ साफ हो जाएगा.

जयपुर/दिल्ली. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने के लिए दिल्ली पहुंच गए हैं. राज्य में मची सियासी खींचतान और पार्टी अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल करने को लेकर सस्पेंस के बीच उनकी इस यात्रा पर सबकी निगाहें टिकी हैं. वहीं राजस्थान संकट को लेकर दिल्ली एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि ‘यह सब घर की बातें हैं, हम सब मिलकर इसका हल कर लेंगे.’

अशोक गहलोत ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘हम कांग्रेस अध्यक्ष के अधीन काम करते हैं. आने वाले समय में उन्हीं के हिसाब से निर्णय लिया जाएगा. मीडिया को देश के मुद्दों को समझना चाहिए. लेखकों, पत्रकारों को देशद्रोही कहा जा रहा है और जेल में डाला जा रहा है. हमें उनकी चिंता है और राहुल गांधी उनके लिए यात्रा पर हैं.’

गहलोत ने कहा, ‘देश में महंगाई हो, बेरोजगारी हो या तानाशाही प्रवृत्ति, राहुल गांधी को इसकी चिंता है. कांग्रेस में हम सभी को इस बात की चिंता है कि देश किस दिशा में जा रहा है. इससे निपटना हमारे लिए ज्यादा जरूरी है. आंतरिक राजनीति चलती रहती है, हम इसे सुलझा लेंगे.’

‘एक-दो दिन में सब हो जाएगा साफ’
वहीं कांग्रेस अध्यक्ष के सलाहकार केसी वेणुगोपाल ने राजस्थान में मौजूदा राजनीतिक संकट को लेकर कहा है कि एक दो दिन में सब कुछ साफ हो जाएगा. वेणुगोपाल ने समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा, ‘राजस्थान में कोई ड्रामा नहीं चल रहा है. एक-दो दिन में सब साफ हो जाएगा. मीडिया इसे एक नाटक के रूप में देख सकता है, लेकिन आप यहां कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव पर बात कर रहे हैं. हम इसे बहुत लोकतांत्रिक तरीके से कर रहे हैं, यह दो दिनों में आसानी से खत्म हो जाएगा.’

गहलोत के दिल्ली दौरे से पहले कुछ मंत्री और विधायक उनसे मिलने मुख्यमंत्री आवास पहुंचे थे. राजस्थान सरकार में कैबिनेट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, विधानसभा अध्यक्ष सी.पी. जोशी, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, मंत्री शांति धारीवाल और महेश जोशी ने भी मुख्यमंत्री से मुलाकात की थी.

‘102 विधायकों की भावना व्यक्त करने दिल्ली आए गहलोत’
खाचरियावास ने मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा था, ‘मुख्यमंत्री आज नेतृत्व और संगठन के रूप में एक अभिभावक के तौर पर 102 विधायकों की भावना को व्यक्त करने के लिए दिल्ली जा रहे हैं. मुख्यमंत्री अभी इस्तीफा नहीं दे रहे हैं.’ उन्होंने कहा कि गहलोत पार्टी अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल करेंगे या नहीं, यह आलाकमान के साथ बैठक के बाद ही स्पष्ट होगा.

दरअसल अशोक गहलोत ने पहले कहा था कि वह कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल करेंगे. हालांकि राज्य के ताजा राजनीतिक घटनाक्रम से उनकी दावेदारी धूमिल होती दिखी. गहलोत के समर्थक व‍िधायकों ने राज्‍य में मुख्‍यमंत्री बदले जाने पर आपत्ति जताई है.

गहलोत का दिल्ली दौरा कांग्रेस द्वारा उनके तीन वफादार मंत्रियों शांति धारीवाल और महेश जोशी, और धर्मेंद्र राठौड को उनके ‘गंभीर अनुशासनहीनता’ के लिए ‘कारण बताओ नोटिस’ जारी करने के एक दिन बाद हो रहा है.

कांग्रेस की अनुशासनात्मक समिति ने मंगलवार रात को मंत्री शांति धारीवाल और महेश जोशी तथा पार्टी के नेता धर्मेंद्र राठौड़ को उनकी ‘घोर अनुशासनहीनता’ के लिए ‘कारण बताओ नोटिस’ जारी किया और उनसे 10 दिन के भीतर यह बताने के लिए कहा कि उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों न की जाए. (भाषा इनपुट के साथ)

Tags: Ashok gehlot, Congress President Election, Rajasthan Congress, Sonia Gandhi

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें