लाइव टीवी

कोटा में बच्चों की मौत पर सोनिया गांधी ने जताई चिंता, CM गहलोत बोले- न हो राजनीति

News18Hindi
Updated: January 2, 2020, 3:36 PM IST
कोटा में बच्चों की मौत पर सोनिया गांधी ने जताई चिंता, CM गहलोत बोले- न हो राजनीति
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि इस मसले पर राजनीति नहीं होनी चाहिए.

कोटा के जेके लोन अस्पताल (JK Lone Hospital Kota) में मासूम बच्चों की मौत पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कहा है कि इस मसले पर राजनीति नहीं होनी चाहिए

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 2, 2020, 3:36 PM IST
  • Share this:
जयपुर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कोटा के जेके लोन अस्पताल (JK Lone Hospital Kota) बच्चों की मौत पर राजनीति नहीं करने की अपील की. गुरुवार को बयान जारी कर सीएम अशोक गहलोत ने कहा है कि इस मसले पर राजनीति नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा है कि अस्पताल में बीमार बच्चों की मौत पर सरकार संवेदनशील है. कोटा के अस्पताल में शिशुओं की मृत्यु दर लगातार कम हो रही है. उन्होंने कहा कि हम आगे इसे और भी कम करने के लिए प्रयास करेंगे. मां और बच्चे स्वस्थ रहें यह हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है.




उधर, एक महीने में 100 बच्चों की मौत का मामला तूल पकड़ते देख कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे ने दिल्ली में पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास जाकर उनसे मुलाकात की है. समझा जा रहा है कि उन्होंने सोनिया गांधी को इस मामले में सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदम की जानकारी दी.



सीएम ने कहा- निरोगी राजस्थान हमारी प्राथमिकता

मुख्यमंत्री गहलोत ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट के जरिए कहा, 'राजस्थान में सर्वप्रथम बच्चों के ICU की स्थापना हमारी सरकार ने 2003 में की थी. कोटा में भी बच्चों के ICU की स्थापना हमने 2011 में की थी. स्वास्थ्य सेवाओं में और सुधार के लिए भारत सरकार के विशेषज्ञ दल का भी स्वागत है. हम उनसे विचार विमर्श और सहयोग से प्रदेश में चिकित्सा सेवाओं में इंप्रूवमेंट (सुधार) के लिए तैयार हैं और निरोगी राजस्थान हमारी प्राथमिकता है.

कोटा में बच्चों की मौत पर अशोक गहलोत ने ट्विटर पर ये कहा...









कोटा के अस्पताल में अब तक 102 बच्चों की हुई मौत

बता दें कि कोटा के जेके लोन अस्पताल (JK Lone Hospital) में बच्चों की मौत (Children Death) का सिलसिला थम नहीं रहा है. नए साल (2020) के पहले दो दिन में भी यहां दो बच्चों की मौत हो गई है. इन्हें मिलाकर बच्चों की हुई मौत का कुल आंकड़ा 102 हो गया है. बच्चों के इलाज में लापरवाही के आरोपों से चर्चा में आए जेके लोन अस्पताल में पिछले साल कुल 963 बच्चों ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था. बीते दिसंबर महीने में मौत का आंकड़ा अचानक बढ़ने से हड़कंप मच गया. विपक्ष ने अशोक गहलोत सरकार को इस मुद्दे पर घेरा, लेकिन जांच रिपोर्ट में इलाज में लापरवाही नहीं बल्कि ऑक्सीजन पाइप लाइन नहीं होना और ठंड को मौत की वजह बताया गया.

ये भी पढ़ें- 

कोटा में थम नहीं रहा बच्चों की मौत का सिलसिला, अब तक 102 मासूमों ने तोड़ा दम

आग से झुलसी बच्ची की मौत मामले में सरकार का एक्शन, 2 डॉक्टरों समेत 6 सस्पेंड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कोटा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 2, 2020, 2:31 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर