राजस्थान: SOG की जांच में राज्यसभा चुनाव से पहले तख्तापलट का खुलासा, पढ़ें हॉर्स ट्रेडिंग की पूरी कहानी
Jaipur News in Hindi

राजस्थान: SOG की जांच में राज्यसभा चुनाव से पहले तख्तापलट का खुलासा, पढ़ें हॉर्स ट्रेडिंग की पूरी कहानी
इन वार्ताओं से स्पष्ट है कि वार्ताकार सरकार गिराने की कोशिश में अन्य लोग भी सम्मिलित हैं और उसके पश्चात पैसा कमाने की भी सोच रहे हैं. (फाइल फोटो)

मोबाइल नंबर (mobile Number) पर की गई वार्ताओं में वर्तमान सरकार को गिराने के प्रयास किए जा रहे हैं. कांग्रेस विधायकों एवं निर्दलीय विधायकों को 20-25 करोड़ रुपए के प्रलोभन की जानकारी सूत्रों से मिली थी.

  • Share this:
जयपुर. स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप राजस्थान (Special Operation Group Rajasthan) ने राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Elections) में राज्य सरकार का तख्तापलट (Coup) कर धनबल के आधार पर बड़े राजनैतिक बदलाव करने के प्रयासों का खुलासा किया है. एसओजी ने राज्यसभा चुनाव के दौरान कई संदिग्ध मोबाइल फोन नंबर को सर्विलांस पर लिया था. इसमें अवैध हथियारों की तस्करी के लिए मोबाइल नंबर 9929229909 सर्विलांस पर लगाया गया था.  इसके साथ- साथ एसओजी ने अवैध विस्फोटक पदार्थों की रोकथाम के लिए 8949065878 मोबाइल नंबर को सर्विलांस पर लगाया था. इन दोनों मोबाइल नंबर पर 13 जून को हुई वार्ता में कई सनसनीखेज तथ्य सामने आए हैं.

मोबाइल नंबर पर की गई वार्ताओं में वर्तमान सरकार को गिराने के प्रयास किए जा रहे हैं. एसओजी को सूत्र सूचना से यह भी जानकारी मिली कि सुजानगढ़ विधायक रमीला खड़िया को एक भाजपा नेता द्वारा धन का प्रलोभन देकर अपने पक्ष में करने का प्रयास किया जा रहा है. महेन्द्रजीत सिंह मालवीय के संबंध में भी वार्ता की जाती है. कहा जाता है कि महेन्द्रजीत सिंह मालवीय ने पाला बदल लिया है. कांग्रेस विधायकों एवं निर्दलीय विधायकों को 20-25 करोड़ रुपए के प्रलोभन की जानकारी सूत्रों से मिली थी. इन दोनों नंबरों पर हुई वार्ता में सामने आया है कि वर्तमान सरकार को गिराकर नया मुख्यमंत्री बनाया जाएगा.

वार्ता के आधार पर दर्ज मुकदमे में खुलासा हुआ है
एसओजी के मोबाइल सर्विलांस वार्ता के आधार पर दर्ज मुकदमे में खुलासा हुआ है कि राज्यसभा चुनावों से पहले सभी विधायकों को इकठ्ठा किए जाने पर वार्ता करते हैं कि 25-25 करोड़ रुपए वाला मामला अब टांय टांय फिस्स हो गया है. यह भी बातचीत से ज्ञात हुआ है कि राज्यसभा चुनाव से पहले राज्य सरकार को गिराने की पूरी तैयारी हो गई थी. उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री राजस्थान ने भी राज्यसभा चुनाव से पहले ही भाजपा द्वारा विधायकों को 25-25 करोड़ रुपए प्रलोभन देकर खरीदने की बात कही थी.
महेश जोशी मुख्य सचेतक कांग्रेस का भी परिवाद प्राप्त हुआ था


इस संबंध में महेश जोशी मुख्य सचेतक कांग्रेस का भी परिवाद प्राप्त हुआ था कि वर्तमान कांग्रेस सरकार के विधायकों व इसको समर्थन दे रहे विधायकों को प्रलोभन देकर राज्यसभा चुनावों में वोटिंग को प्रभावित करने व सरकार को अस्थिर करने का प्रयास कर रहे हैं.  उपमुख्यमंत्री के दिल्ली दौरे के संबंध में वार्ता करते हैं कि बड़े-बड़े राजनैतिक फैसले दिल्ली में हो रहे हैं. और 30 जून के बाद घटनाक्रम तेजी से बढ़ेगा. वार्ता में यह प्रकट हुआ है कि इस तरह वर्तमान सरकार को गिराकर नई सरकार का गठन करवाकर ये लोग 1000 से 2000 करोड़ रुपए कमा सकते हैं.

पूरे मामले की एसओजी गहनता से जांच कर रही है
यह भी कहते हैं कि गत 2-3 दिनों में विधायकों और खासतौर पर निर्दलीय विधायकों के पास धनराशिलेकर उनसे संपर्क साधने की सूचना भी सूत्रों से प्राप्त हुई है. इन वार्ताओं से स्पष्ट है कि वार्ताकार सरकार गिराने की कोशिश में अन्य लोगों के साथ सम्मिलित हैं और उसके पश्चात पैसा कमाने की भी सोच रहे हैं. एसओजी ने मामले में भारतीय दंड संहिता की धारा 124 ए और 120बी के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है. एसओजी के अधिकारी मोबाइल वार्ताओं के आधार पर दोनों वार्ताकारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है. राज्यसभा चुनावों एवं सत्ता हांसिल कर धन कमाने की लालसा रखने वाले अन्य लोगों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है. पूरे मामले की एसओजी गहनता से जांच कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading