लाइव टीवी

Locust Terror: राजस्थान में इस बार खतरा 2 से 3 गुना ज्यादा, ड्रोन से किया जाएगा मुकाबला
Jaipur News in Hindi

Dinesh Sharma | News18 Rajasthan
Updated: May 19, 2020, 10:12 AM IST
Locust Terror: राजस्थान में इस बार खतरा 2 से 3 गुना ज्यादा, ड्रोन से किया जाएगा मुकाबला
दुनिया के कई हिस्सों मं टिड्डों को सैकड़ों सालों से खाया जाता रहा है और इसे पोषक भी मानते हैं

राजस्थान में टिड्डियों (Locust) का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है. इस बार ज्यादा जिलों में टिड्डी प्रकोप की आशंका है. इसको लेकर संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन ने भी चेताया है. लिहाजा राज्य सरकार भी उसी स्तर पर तैयारियां करने में जुटी है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में टिड्डियों (Locust) का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है. इस बार ज्यादा जिलों में टिड्डी प्रकोप की आशंका है. इसको लेकर संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन ने भी चेताया है. लिहाजा राज्य सरकार भी उसी स्तर पर तैयारियां करने में जुटी है. इस बार टिड्डियों से मुकाबला करने के लिए ड्रोन (Drone) की मदद ली जाएगी. अभी तक करीब 10 जिलों के 37 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डियों का प्रकोप हो चुका है.

कृषि मंत्री ने की हालात की समीक्षा
कृषि मंत्री लालचन्द कटारिया ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हालात की समीक्षा की. कटारिया के मुताबिक संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन ने इस बार टिड्डियों का प्रकोप पिछले साल के मुकाबले दो से तीन गुना ज्यादा रहने की चेतावनी दी है. लिहाजा ज्यादा सतर्क रहने और नियंत्रण के प्रभावी उपाय करने की जरूरत है. कृषि मंत्री ने कोरोना महामारी के बीच टिड्डी प्रकोप को बड़ी चुनौती बताते हुए इसका मुकाबला बेहतर समन्वय के साथ करने के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिए हैं.

किसानों का सक्रिय सहयोग लेने के निर्देश



उन्होंने कहा कि व्हाट्स एप ग्रुप बनाकर पंचायत प्रतिनिधियों से लेकर सांसद तक सभी को आपस में जोड़ा जाए ताकि समय पर टिड्डी की सूचना मिल सके. इसके साथ ही उन्होंने किसानों का पूरा सक्रिय सहयोग लेने के भी निर्देश दिए. उन्होंने कहा कर्मचारियों की कमी ना हो इसके लिए टिड्डी प्रभावित जिलों में रिक्त पदों पर अन्य जिलों से कर्मचारी नियुक्त किए गए हैं. नई भर्ती से चयनित सहायक कृषि अधिकारी और कृषि पर्यवेक्षकों को भी जल्द नियुक्ति दे दी जाएगी.



ज्यादा जिलों में हो सकता प्रकोप
पिछले साल प्रदेश के 12 जिले टिड्डियों के प्रकोप से प्रभावित हुए थे. इस बार यह खतरा इन 12 जिलों के अलावा ज्यादा जिलों में फैलने की भी आशंका है. अभी तक करीब 10 जिलों में 37 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डियों का प्रकोप हो चुका है. कृषि मंत्री ने कहा कि पिछले साल बहुत ही बढ़िया तरीके से टिड्डी पर नियंत्रण किया था लेकिन इस साल और ज्यादा प्रभावी नियंत्रण की जरूरत है.

ड्रोन से किया जाएगा कंट्रोल
कृषि विभाग के प्रमुख सचिव नरेशपाल गंगवार के मुताबिक टिड्डी नियंत्रण के लिए जहां गाड़ियां पहुंचने में मुश्किल होती है वहां इस बार ड्रोन से कीटनाशक का छिड़काव किया जाएगा. इसके लिए टेंडर प्रक्रिया जल्द ही पूरी कर ली जाएगी. वहीं सभी जिले इस बार कंटीजेंसी प्लान बनाएंगे और जिला कलेक्टर से स्वीकृत करवाकर मुख्यालय भिजवाएंगे. पिछले साल जो 12 जिले टिड्डी से प्रभावित हुए थे वहां के लिए पहले ही कंटीनजेंसी प्लान तैयार कर लिया गया है.

राजस्‍थान में सिर्फ एक ग्रीन जोन, यहां देखें रेड और ऑरेंज जोन की लिस्‍ट

Weather Update:जैसलमेर में उठा रेतीला तूफान, 850 साल पुराना सोनार किला थर्राया
First published: May 19, 2020, 10:07 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading