LIVE NOW

Rajasthan News Live Updates: पीलीबंगा में बोले राहुल-तीनों केन्द्रीय कृषि कानून देश के लिये घातक

Rajasthan News, 12 February-2021: राहुल गांधी ने शुक्रवार को पीलीबंगा के किसान सम्मेलन में केन्द्र सरकार पर जमकर हमला बोला. राहुल (Rahul Gandhi ) ने कहा कि कांग्रेस बरसों से किसानों के लिये लड़ रही है. लेकिन केन्द्र सरकार किसानों (Farmers) का हक छीनने में लगी है.

Hindi.news18.com | February 12, 2021, 3:52 PM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated February 12, 2021
2:02 pm (IST)
राहुल ने पीएम नरेन्द्र मोदी पर हमला बोलते हुये कहा कि वे किसान की जमीन और भविष्य छीन रहे हैं. राहुल ने कहा कि मोदी देश के किसान और मजदूर की शक्ति को नहीं पहचानते हैं. यह उनकी बड़ी कमी है. लेकिन अब ये दोनों मोदी को अपनी ताकत दिखाने जा रहे हैं. अपने संबोधन में राहुल ने जीएसटी, नोटबंदी, कोरोना, कृषि कानूनों समेत चीन के मुद्दे पर भी केन्द्र को घेरा. 

 

1:57 pm (IST)
पीलीबंगा में किसान सम्मेलन को संबोधित करते राहुल ने कृषि को दुनिया का सबसे बड़ा बिजनेस बताया. राहुल ने कहा कि देश के 40 प्रतिशत लोग कृषि से जुड़े हैं. राहुल गांधी ने केन्द्रीय कृषि बिलों के किसान विरोधी बताते हुये सवाल किया कि आज किसान दिल्ली के बॉर्डर पर क्यों खड़ा है ? उन्होंने केन्द्र सरकार की ओर से लाई गई नोटबंदी और जीएसटी के बाद नये तीन कृषि कानूनों को देश के लिये घातक बताया.

1:52 pm (IST)
राहुल गांधी ने शुक्रवार को  पीलीबंगा के किसान सम्मेलन में केन्द्र सरकार पर जमकर हमला बोला. राहुल ने कहा कि कांग्रेस बरसों से किसानों के लिये लड़ रही है. लेकिन केन्द्र सरकार किसानों का हक छीनने में लगी है. नये केन्द्रीय कृषि कानूनों से किसान बर्बाद हो जायेगा. उन्होंने नये कानूनों को कृषि मंडियों को समाप्त करने की साजिश बताया. 

12:49 pm (IST)
राजस्थान में किसान आंदोलन को गति देने के लिये कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी सूरतगढ़ पहुंच चुके हैं. वे कुछ देर बाद पीलीबंगा के लिये रवाना होंगे. सूरतगढ़ से रैली स्थल 25 मिनट दूर है. लेकिन सूत्रों के मुताबिक राहुल गांधी को फिलहाल एयरपोर्ट पर ही कांग्रेसी नेताओं ने रोक रखा है. क्योंकि रैली स्थल पर फिलहाल भीड़ नहीं जुट पाई है. राहुल आज दो किसान सभाओं को संबोधित करेंगे. वे पहले हनुमानगढ़ के पीलीबंगा जायेंगे और उसके बाद श्रीगंगानगर के पदमपुर में किसान सम्मेलन को संबोधित करेंगे.

11:17 am (IST)
जयपुर. पूर्वी राजस्थान के दो अहम जिले दौसा और सवाई माधोपुर में आधे दर्जन से अधिक बड़े अधिकारी भ्रष्टाचार के मामलों में गिरफ्तार हो चुके हैं. भ्रष्टाचार के अड्डे बने दोनों जिलों में पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, थानेदार, एसडीएम और डीटीओ स्तर के अधिकारी दबोचे जा चुके हैं. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को इन जिलों से परिवहन, बिजली, खनन और पुलिस सहित अन्य महत्वपूर्ण विभागों के खिलाफ आये दिन भ्रष्टाचार की शिकायतें मिलती रहती हैं. 

 

एसीबी इन दिनों इन दोनों जिलों में भ्रष्टाचार की जड़ें खोदने में लगी है. रिश्वत के मामले में पकड़े गये अधिकारियों की गिरफ्तारी के बाद उन्हें पद से हटा दिया गया है. फिलहाल इनके स्थान पर किसी भी अधिकारी को नई नियुक्तियां नहीं दी गई है. ये सभी अधिकारी या तो रिश्वत लेते पकड़े गये हैं या फिर भ्रष्ट तंत्र के अहम किरदार होने के कारण एसीबी की गिरफ्त में आये हैं. 


विधानसभा चुनाव में पूर्वी राजस्थान में कांग्रेस को बड़ी सफलता मिली थी. कांग्रेस के सबसे ज्यादा अधिक विधायक दौसा, सवाई माधोपुर, अलवर और भरतपुर से ही निर्वाचित हुये थे. पूर्वी राजस्थान में विधानसभा की 46 सीट हैं. इनमें से कांग्रेस ने 43 सीट जीती थी. इन जिलों के विधायकों की सत्ता में पकड़ बेहद मजबूत है. राज्य सरकार ने जनप्रतिनिधियों की डिजायर के आधार पर ही जिलों में अफसर तैनात किये हैं. पायलट और गहलोत के बीच चल रही सियासी उठापटक के कारण पूर्वी राजस्थान के विधायकों को राज्य सरकार नाराज भी करना नहीं चाहती है.

10:49 am (IST)
बीकानेर. पश्चिमी राजस्थान के प्रमुख शहर बीकानेर (Bikaner) में शुक्रवार सुबह भूकंप (Earthquake) के झटके महसूस किए गये. नेशनल सीस्‍मोलॉजी सेंटर के अनुसार सुबह 8 बजकर 01 मिनट पर आये भूकंप की तीव्रता (Intensity) रिक्‍टर स्‍केल पर 4.3 मापी गई है. सुबह-सुबह भूकंप के झटके आने से लोग परेशान हो उठे थे. 

 

नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार इस भूकंप का केन्द्र बीकानेर से 420 किमी उत्तर पश्चिम में था. सुबह-सुबह जब लोगों ने भूकंप के हल्क झटके महसूस किये तो उन्हें घबराहट हुई. कुछ लोग घरों से बाहर भी निकल आये. उन्होंने आसपास के लोगों से इस बात की पुष्टि भी करनी चाही. लेकिन भूकंप के झटके हल्के होने के कारण सभी को इसका अहसास नहीं हो पाया. भूकंप से किसी तरह के नुकसान की कोई बात सामने नहीं आ पाई है.

8:16 am (IST)
जयपुर. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी आज से दो दिन के दौरे पर राजस्थान आ रहे हैं. किसान आन्दोलन (Kisan Andonal) को मजबूती देने के लिए आ रहे राहुल गांधी के इस दौरे के कई सियासी मायने भी निकाले जा रहे हैं. इस दौरे के जरिये जहां राहुल गांधी सॉफ्ट हिन्दूत्व के एजेण्डे को आगे बढ़ाएंगे वहीं जाटलैंड को साधने की भी कोशिश करेंगे. 

 

अपने दो दिन के दौरे में राहुल गांधी यहां पांच जगहों पर किसान सभाओं को सम्बोधित करेंगे. यहां राहुल का ट्रेक्टर रैली और तेजाजी महाराज के मंदिर में दर्शन का भी कार्यक्रम है. जिन क्षेत्रों में राहुल गांधी के कार्यक्रम में रखे गए हैं वो किसान बाहुल्य होने के साथ ही जाट बाहुल्य भी हैं. कांग्रेस राजस्थान के साथ ही दूसरे राज्यों के जाट वोट बैंक को साधने की कोशिश इस दौरे के जरिये करेगी. 


राजनीति के विशेषज्ञ राहुल गांधी के इस दौरे को एग्रो-स्प्रिचुअल पॉलीटिक्स की संज्ञा दे रहे हैं. देश में इन दिनों किसान आन्दोलन का मुद्दा गर्माया हुआ है. ऐसे में राजस्थान में राहुल गांधी अपनी रैलियों के जरिये किसान जातियों को साधने का प्रयास करेंगे. कांग्रेस इन दिनों सॉफ्ट हिन्दुत्व के एजेंडे को भी आगे बढ़ा रही है. राजस्थान में राहुल गांधी तेजाजी महाराज के मंदिर में दर्शन कर कई तरह के समीकरण साधेंगे. यानि किसान आन्दोलन को मजबूती देने के बहाने कांग्रेस अपने इस दौरे के जरिये अपना किला मजबूत करने की भी कवायद करेगी.


8:06 am (IST)
जयपुर. किसान आंदोलन को लेकर देशभर में गरमायी राजनीति के बीच आज का दिन राजस्थान कांग्रेस के लिये भी काफी अहम है. सीएम अशोक गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के लंबे सियासी संग्राम के बाद आज दोनों एक मंच पर होंगे. दोनों के साथ मौजूद होंगे कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी. गहलोत और पायलट के बीच गहरी हुई मत और मनभेद की खाई को एक बार फिर राहुल के दौरे के बहाने दूर करने का प्रयास किये जाने की संभावना है. यह बात दीगर है कि ये दूरियां मिट पायेगी या नहीं. 

 

राहुल गांधी दो दिन के दौरे पर आज राजस्थान आ रहे हैं. यहां वे श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, नागौर और अजमेर के दौरे पर रहेंगे. इस दौरान राहुल कई किसान सभाओं को संबोधित करेंगे. प्रदेश में गहलोत और पायलट खेमे में बंटी कांग्रेस इस दौरान एकजुटता दिखाने की कोशिश करेगी. राहुल सुबह दिल्ली से चार्टर प्लने से सीधे श्रीगंगगानगर के सूरतगढ़ पहुंचेंगे. राहुल के दौरे में शामिल होने के लिये सीएम अशोक गहलोत सुबह 9 बजे जयपुर से सूरतगढ़ के लिये रवाना होंगे. वे सूरतगढ़ में राहुल गांधी का स्वागत करेंगे. 

LOAD MORE
जयपुर. किसान आंदोलन (Kisan Andonal,) को लेकर देशभर में गरमायी राजनीति के बीच आज का दिन राजस्थान कांग्रेस (Rajasthan Congress) के लिये भी काफी अहम है. सीएम अशोक गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Ashok Gehlot Vs Sachin Pilot) के लंबे सियासी संग्राम के बाद आज दोनों एक मंच पर होंगे. दोनों के साथ मौजूद होंगे कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi). गहलोत और पायलट के बीच गहरी हुई मत और मनभेद की खाई को एक बार फिर राहुल के दौरे के बहाने दूर करने का प्रयास किये जाने की संभावना है. यह बात दीगर है कि ये दूरियां मिट पायेगी या नहीं.

राहुल गांधी दो दिन के दौरे पर आज राजस्थान आ रहे हैं. यहां वे श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, नागौर और अजमेर के दौरे पर रहेंगे. इस दौरान राहुल कई किसान सभाओं को संबोधित करेंगे. प्रदेश में गहलोत और पायलट खेमे में बंटी कांग्रेस इस दौरान एकजुटता दिखाने की कोशिश करेगी. राहुल सुबह दिल्ली से चार्टर प्लने से सीधे श्रीगंगगानगर के सूरतगढ़ पहुंचेंगे. राहुल के दौरे में शामिल होने के लिये सीएम अशोक गहलोत सुबह 9 बजे जयपुर से सूरतगढ़ के लिये रवाना होंगे. वे सूरतगढ़ में राहुल गांधी का स्वागत करेंगे.

पायलट पहले से ही हनुमानगढ़ में हैं
उसके बाद राहुल गांधी के साथ सूरतगढ़ से हनुमानगढ़ के पीलीबंगा जायेंगे. पीलीबंगा के बाद पदमपुर में राहुल गांधी की किसान रैली होगी. सीएम गहलोत राहुल गांधी के पूरे दौरे में उनके साथ रहेंगे. राहुल गांधी के साथ अशोक गहलोत भी श्रीगंगानगर में ही रात्रि विश्राम करेंगे. वहीं पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट पहले से ही हनुमानगढ़ गये हुये हैं. वे वहां किसान सम्मेलनों की तैयारियां में जुटे हैं.

किसान महापंचायतों को लेकर पायलट काफी चर्चा में हैं
गहलोत और पायलट के दरम्यिान आई दूरियों के बीच हाल ही में किसान महापंचायतों को लेकर पायलट काफी चर्चा में हैं. पायलट इन दिनों एक बार फिर से किसान महापंचायतों के बहाने प्रदेश में सक्रिय हो रहे हैं. पायलट अपने प्रभाव वाले पूर्वी राजस्थान में महापंचायतों के जरिये किसानों के बीच में जा रहे हैं. पायलट की इन महापंचायतों को लेकर भी सियासी चर्चाओं का दौर गरम है. गहलोत खेमा इन महापंचायतों की गहराई से समीक्षा कर रहा है. ऐसे हालात में राहुल के दौरे के दौरान वे किसे ज्यादा तवज्जो देते हैं इस पर राजनीति विशेलेषकों की नजरें गड़ी हैं.

फोटो

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज