अपना शहर चुनें

States

LIVE NOW

Rajasthan News Live Updates: गहलोत कैबिनेट की अहम बैठक कल, तय हो सकती है बजट सत्र की तारीख

Rajasthan News, 19-January-2021: बैठक में चिकित्सा सेवा नियम महाविद्यालय शाखा संशोधन नियम पर मुहर लगेगी. वहीं वन निगम की स्थापना, स्वच्छ भारत मिशन के लिये सोसायटी और अम्बेडकर पीठ को उच्च शिक्षा विभाग से सामाजिक न्याय विभाग को सौंपने पर चर्चा प्रस्तावित है.

Hindi.news18.com | January 19, 2021, 1:18 PM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated January 19, 2021
1:15 pm (IST)
जयपुर. गहलोत कैबिनेट की कल अहम बैठक होगी. इसमें विधानसभा बजट-सत्र की तारीख तय की जायेगी. फरवरी के दूसरे या तीसरे सप्ताह से बजट सत्र शुरू हो सकता है. बैठक के बाद कैबिनेट नोट राजभवन भेजा जा सकता है. बैठक में विभिन्न विभागों के प्रस्तावों पर मुहर लगने की भी संभावना है. वहीं इसमें सरकार की नई आयुष नीति पर भी चर्चा होगी. बैठक में चिकित्सा सेवा नियम महाविद्यालय शाखा संशोधन नियम पर मुहर लगेगी. इसके अलावा वन निगम की स्थापना, स्वच्छ भारत मिशन के लिये सोसायटी और अम्बेडकर पीठ को उच्च शिक्षा विभाग से सामाजिक न्याय विभाग को सौंपने पर चर्चा प्रस्तावित है. 

11:12 am (IST)
11:11 am (IST)
जयपुर. गुजरात के सूरत में हुए हादसे पर सीएम अशोक गहलोत ने गहरा दुख जताया है. सीएम ने मृतकों के परिवारजनों के प्रति शोक संवेदना की व्यक्त की है. वहीं घायलों के जल्द स्वास्थ्य लाभ की कामना की है. सूरत में ट्रक से कुचलने से बांसवाड़ा के कुशलगढ़ के 15 मजदूरों की मौत हो गई थी. ट्रक संतुलन खोकर फुटपाथ पर सो रहे मजदूरों पर चढ़ गया था.

10:42 am (IST)
जयपुर. राजस्थान में 30 जनवरी से आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना के नए चरण की लॉन्चिंग की जायेगी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर 30 जनवरी को प्रदेश के 1 करोड़ 10 लाख परिवारों की स्वास्थ्य सुरक्षा की दृष्टि से इस महत्वाकांक्षी योजना का शुभारंभ करेंगे. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वित्त विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. 

 

सरकार ने आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना के पैकेज की सूची में कोविड-19 और हीमोडायलिसिस रोगों को भी शामिल करने का निर्णय लिया है. इन दो बीमारियों के मरीजों के लिये भी स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार प्रतिवर्ष लगभग 41 करोड़ रुपए अतिरिक्त वहन करेगी. 

8:55 am (IST)
जयपुर. कोरोना महामारी के बीच पंचायत चुनाव में सबसे ज्यादा मतदान प्रतिशत का रिकॉर्ड बनाने वाले आदिवासी डूंगरपुर जिले ने एक बार फिर चौंकाया है. राज्य में पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान डूंगरपुर जिले में सबसे ज्यादा 3.26 प्रतिशत मतदाताओं की संख्या में वृद्धि हुई है. राज्य में पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान 1.44 प्रतिशत मतदाताओं की संख्या में वृद्धि हुई है. इनमें से 1.49 प्रतिशत पुरुष और 1.39 प्रतिशत महिला मतदाताओं की संख्या में वृद्धि हुई है. 

 

इनमें डूंगरपुर जिले में सर्वाधिक 3.26 प्रतिशत मतदाताओं की वृद्धि हुई है. वहीं  सिरोही में 2.76 प्रतिशत, धौलपुर में 2.36, बाड़मेर में 1.92, कोटा में 1.84, बीकानेर में 1.80, बून्दी में 1.74 और अजमेर में 1.73 प्रतिशत मतदाताओं की वृद्धि हुई है.


अंतिम रूप से प्रकाशित मतदाता सूचियों में कुल 49580319 मतदाता पंजीकृत हैं. इनमें से 25847752 पुरुष और 23732567 महिला मतदाता हैं. जबकि पिछले साल 21 नवम्बर को प्रकाशित प्रारूप मतदाता सूची में कुल 48874722 मतदाता थे. राज्य निर्वाचन विभाग ने राज्य के सभी 200 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की मतदाता सूचियों का अन्तिम प्रकाशन कर दिया है. 

8:06 am (IST)
जोधपुर: प्रदेश के भरतपुर जिले के रूपवास इलाके के गांव चक सामरी में जहरीली शराब से 8 लोगों की मौत के बाद पुलिस-प्रशासन और आबकारी विभाग की नींद टूटी है. इस दुखांतिका के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर जोधपुर पुलिस और आबकारी विभाग लगातार एक्शन में नजर आ रहा है. आबकारी ने शराब का अवैध कारोबार करने वाले माफियाओं के खिलाफ सोमवार को बड़ी कार्रवाई की है. 

 

अतिरिक्त आबकारी आयुक्त जोधपुर जोन और जिला आबकारी के निर्देशन में सोमवार को फलोदी तथा इसके आसपास के क्षेत्रों में संयुक्त ट्रेड गश्त के दौरान अवैध शराब का कारोबार करने वाले एक आरोपी को दबोचा गया है. टीम ने देचू पुलिस थाना इलाके के अभयगढ़ निवासी करण सिंह के रिहायशी मकान में बनी किराने की दुकान के अंदर ग्राउंड में रखे 50 कार्टन देसी शराब के और 30 कार्टन अंग्रेजी शराब के बरामद किये हैं. टीम ने आरोपी के खिलाफ आबकारी अधिनियम में मामला दर्ज किया है. आबकारी निरोधक दल के अधिकारी शेर सिंह द्वारा इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया. 

7:27 am (IST)
कोटा. तीन बालिकाओं को अपनी हैवानियत का शिकार बनाने वाले एक दरिंदे को कोर्ट ने अंतिम सांस तक जेल की चारदीवारी में रहने की सजा सुनाई है. कोर्ट ने अपने फैसले ने साफ संदेश दिया कि ऐसे दरिंदे की समाज में कोई जगह नहीं है. उसे अब ताउम्र जेल में गुजारनी पड़ेगी यानी जब तक वह जिंदा रहेगा तब तक जेल की सलाखों में रहेगा. 

 

विशिष्ट लोक अभियोजक सुरेंद्र वर्मा ने बताया कि मामला कोटा ग्रामीण के सिमलिया थाना इलाके का है. मिथुन उर्फ गजेन्द्र ने तीन बालिकाओं को अपनी हैवानियत का शिकार बनाया था. साल 2017 में 9 साल की एक बालिका से रेप के मामले में जब वह पकड़ा गया तो दो अन्य पीड़िताएं भी सामने आई थी. सिमलिया थाना क्षेत्र में चल रहे एक भंडारे में 9 साल की बालिका गई थी. वह जब वहां से वापस लौट रही थी तो मिथुन बालिका को पकड़कर खंडहरनुमा जगह पर ले गया. वहां ले जाकर उसके साथ हैवानियत की. इस मामले में वह गिरफ्तार कर लिया गया था. 

 

कोर्ट ने प्रकरण को रेयर ऑफ रेयर माना
बकौल वर्मा ने इस मामले में 21 गवाहों के बयान पूरे होने के बाद सोमवार को कोटा की पोक्सो कोर्ट संख्या 5 ने आरोपी को दोषी करार देते हुए प्रकरण को रेयर ऑफ रेयर  केस माना. कोर्ट ने अभियुक्त मिथुन को मरते दम जेल में रखने के आदेश दिये हैं. इसके साथ ही उस पर 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.

6:49 am (IST)

राजस्थान सीएम अशोक गहलोत ने अपने ट्विटर अकाउंट पर जानकारी देते हुए लिखा कि निवास पर कोविड-19 समीक्षा बैठक में प्रदेश में रात्रिकालीन कर्फ्यू समाप्त करने एवं कुछ छूट चरणबद्ध रूप में देने का निर्णय लिया है परन्तु हेल्थ प्रोटोकॉल्स को अपनाना आवश्यक होगा अन्यथा पुनः संक्रमित संख्या बढ़ सकती है. यह नौबत नहीं आनी चाहिए कि पुनः सख्ती करनी पड़े. 


6:47 am (IST)

प्रदेश में कोरोना संक्रमण के ग्राफ में गिरावट आने के बाद भी जयपुर समेत 13 शहरों में रात्रिकालीन कर्फ्यू लागू था. हाल में इसकी अवधि की बढ़ाया गया था. लेकिन इससे व्यापारी वर्ग काफी परेशान था. व्यापारियों के प्रतिनिधिमंडल लगातार सरकार से मांग कर रहे थे कि रात्रिकालीन कर्फ्यू को हटाया जाये. क्योंकि कर्फ्यू के कारण व्यापारियों को दुकानें शाम आठ बजे ही बंद करनी पड़ रही हैं. इससे उन्हें रोजना जबर्दस्त घाटा उठाना पड़ रहा है.

6:28 am (IST)
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाइट कर्फ्यू खत्म करने पर सहमति देने के बाद गृह विभाग ने 18 जनवरी की देर रात 31 जनवरी तक के लिए कोरोना गाइडलाइन जारी कर दी गईं. राज्य सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए 30 नवंबर को 13 जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाया था.

LOAD MORE
जयपुर. गहलोत सरकार ने प्रदेश के सभी जिलों से नाइट कर्फ्यू (Night curfew) हटा दिया है. इस संबंध में गृह विभाग ने सोमवार देर रात औपचारिक आदेश भी जारी कर दिए हैं. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाइट कर्फ्यू खत्म करने पर सहमति देने के बाद गृह विभाग ने 31 जनवरी तक के लिए कोरोना गाइडलाइन (Corona Guideline) जारी कर दी है. राज्य सरकार ने कोरोना के बढ़ते केसों के मध्यनजर 30 नवंबर को 13 जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाया था.

13 जिलों की शहरी सीमाओं के भीतर रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लगाया गया था. सोमवार को सीएम निवास पर हुई कोरोना समीक्षा बैठक में नाइट कर्फ्यू हटाने और अन्य पांबदियों पर चरणबद्ध तरीके से छूट देने का फैसला किया गया था.

बाजार पहले की तरह देर तक खुल सकेंगे
नाइट कर्फ्यू हटाने के फैसले से बाजारों में रौनक लौट आएगी. बाजार पहले की तरह देर तक खुल सकेंगे. दुकानों और रेस्टोरेंट के अब तक 7 बजे बंद करने की बाध्यता थी. वह अब हट गई है. गृह विभाग ने इस मामले में एसओपी जारी कर दी है. अब 19 जनवरी से ही बाजार देर तक खुलने की स्थिति स्पष्ट हो गई है.

कई व्यापार संगठन कर्फ्यू हटाने की मांग कर रहे थे
कई व्यापार संगठनों ने कोरोना के मामले कम होने के बाद नाइट कर्फ्यू हटाने की मांग की थी. कारोबारियों ने यहां तक कह दिया था कि अगर सरकार नाइट कर्फ्यू नहीं हटाती है तो फिर वे आंदोलन करेंगे. इस फैसले का सभी व्यापार मंडलों ने स्वागत किया है. कारोबार की स्थिति बेहद कमजोर हो गई थी. नाइट कर्फ्यू हटने के बार अब इससे व्यापार बढ़ सकेगा.

इन जिलों में था नाइट कर्फ्यू
जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, कोटा, भीलवाड़ा, नागौर, पाली, टोंक, सीकर, अजमेर, अलवर, श्रीगंगानगर व उदयपुर में रात्रि कर्फ्यू था।. इसके तहत बाजार में मेडिकल की दुकानों को छोड़कर शेष दुकानें शाम सात बजे बंद करना जरूरी था. रात्रि कर्फ्यू रात आठ बजे से सुबह छह बजे तक लागू था. प्रदेश में दिवाली के बाद कोरोना के मामले बढ़ने के बाद पहले 8 और फिर 13 जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाया गया था.

फोटो

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज