राजस्थान: अब PWD की सड़क टूटने पर 5 साल तक निर्माणकर्ता ठेकेदार को ही करनी होगी मरम्मत

मुख्यमंत्री ने बजट घोषणाओं पर प्राथमिकता से कार्य करने के निर्देश दिए है. (फाइल फोटो)
मुख्यमंत्री ने बजट घोषणाओं पर प्राथमिकता से कार्य करने के निर्देश दिए है. (फाइल फोटो)

समीक्षा बैठक में सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने अफसरों को निर्देश दिए कि सड़कों के निर्माण में क्वालिटी से किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) में अब अगर पीडब्ल्यूडी (PWD) की सड़क बनाने के बाद 5 साल तक खराब होती है या टूटती है तो उसे ठीक करने की जिम्मेदारी निर्माणकर्ता  ठेकेदार की होगी. निर्माणकर्ता ठेकेदार को अब 5 साल तक सड़क का रखरखाव करना होगा. पीडब्ल्यूडी की सड़कों की फिलहाल 3 साल तक रखरखाव की जिम्मेदारी निर्माणकर्ता ठेकेदार की है, लेकिन अब इसे 5 साल तक किया जाएगा. सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने पीडब्ल्यूडी की समीक्षा बैठक में पीडब्ल्यूडी द्वारा बनवाई गई सड़कों के रख-रखाव की जिम्मेदारी पांच साल तक सम्बन्धित ठेकेदार की रखने का प्रावधान करने के निर्देश दिए हैं. सीएम ने समीक्षा बैठक में कहा कि कुछ सड़कों की काफी लम्बे समय तक मरम्मत की जरूरत नहीं पड़ती और कुछ सड़कें जल्दी खराब हो जाती हैं. ऐसे में गुणवत्ता बनाए रखने की जिम्मेदारी ठेकेदार (Contractor) की होनी चाहिए.

जरूरतों के हिसाब से गांवों में सड़कें बनेंगी
समीक्षा बैठक में सीएम जनप्रतिनिधियों के सुझाव और स्थानीय जरूरतों को देखते हुए ग्राम पंचायतों में ग्रामीण विकास पथ, मिसिंग लिंक, सड़क नवीनीकरण और मरम्मत के काम कराने के निर्देश दिए हैं. सीएम ने कहा कि कई बार जनप्रतिनिधि गांवों को जोड़ने वाली सड़क की मांग करते हैं. ऐसे में उनकी मांग और क्षेत्र विशेष की जरूरत के अनुसार ग्रामीण विकास पथ या मिसिंग लिंक का कार्य कराया जा सकता है.

सड़क निर्माण के कामों का होगा थर्ड पार्टी इंस्पेक्शन
समीक्षा बैठक में सीएम ने अफसरों को निर्देश दिए कि सड़कों के निर्माण में क्वालिटी से किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. विश्व बैंक और एशियाई विकास बैंक द्वारा वित्त पोषित सड़कों और  राष्ट्रीय राजमार्ग की सड़कों की गुणवत्ता जांच स्वतंत्र इंजीनियर द्वारा किए जाने का प्रावधान है. ऐसी ही व्यवस्था आरआईडीएफ के तहत नाबार्ड के माध्यम से बनी हुई सड़कों की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए भी लागू करते हुए सड़क निर्माण कार्य का थर्ड पार्टी इंस्पेक्शन कराया जाए.



खराब सड़कों की सूची तैयार करने के निर्देश
मुख्यमंत्री ने बजट घोषणाओं पर प्राथमिकता से कार्य करने के निर्देश दिए है. उन्होनें सर्वाधिक खराब सड़कों की सूची तैयार करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि ऐसा सिस्टम तैयार किया जाए कि सर्वे कर ऐसी सड़कों की सूची बने, जिनकी मरम्मत की तत्काल आवश्यकता हो और उन कार्यों को प्राथमिकता से किया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज