Rajasthan: कोरोना पॉजिटिव प्रत्याशी के लिए नया दिशा-निर्देश, पर्चा भरने से पहले जान लें ये बातें

खर्च का आंकलन चिकित्सा अधिकारी करेगा.
खर्च का आंकलन चिकित्सा अधिकारी करेगा.

Rajasthan Panchayat Election: राज्य चुनाव आयोग ने पंच-सरपंच का चुनाव लड़ने के इच्छुक कोरोना पॉजिटिव (COVID-19) लोगों के लिये नई गाइडलाइन जारी की है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्‍थान में ग्राम पंचायत (Rajasthan Panchayat Election) के पहले चरण के लिए लोक सूचना जारी हो चुकी है. अब 19 सितंबर से नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. राज्य निर्वाचन आयोग ने पंच-सरपंच का चुनाव लड़ने वाले कोविड-19 (COVID-19) से संक्रमिकत उम्‍मीदवारों के लिए नए दिशा निर्देश (New guidelines) जारी किये हैं. इसके अनुसार, कोविड-19 पॉजिटिव रिपोर्ट वाले प्रत्‍याशी को नामांकन दाखिल करने से 1 दिन पहले प्रार्थना पत्र देना होगा.

यह प्रार्थना पत्र जिला निर्वाचन अधिकारी को देना होगा. इसके बाद ही पंच-सरपंच के इच्छुक उम्‍मीदवार अपना नामांकन दाखिल कर सकेंगे. जिला निर्वाचन अधिकारी चिकित्सा अधिकारी की रिपोर्ट के आधार पर नामांकन-पत्र दाखिल करने की अनुमति देंगे. रिटर्निंग अधिकारी पीपीई किट पहनकर अलग कमरे में नामांकन-पत्र स्वीकार करेगा. इस प्रक्रिया में जो भी खर्चा आएगा वह प्रत्याशी को वहन करना होगा. खर्च का आकलन चिकित्सा अधिकारी करेगा.

Rajasthan: गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, नई परियोजनाओं में अब केवल ड्रिप और स्प्रिंकलर सिस्टम से ही होगी सिंचाई



28 सितंबर को प्रथम चरण का मतदान
प्रदेश की 3848 ग्राम पंचायतों में 4 चरणों में चुनाव होने हैं. पहला चरण का चुनाव 28 सितंबर को होगा. दूसरे चरण का चुनाव 3 अक्टूबर को होगा. तीसरे चरण का चुनाव 6 अक्टूबर और चौथे चरण का चुनाव 10 अक्टूबर को होगा. मतगणना पंचायत मुख्यालय पर होगी. प्रथम चरण के लिए उपसरपंच का चुनाव 29 सितंबर को होगा. प्रथम चरण में प्रदेश की 1003 ग्राम पंचायतों के लिए चुनाव होंगे.

Jaisalmer: रसोई में छिपकर बैठी थी काली नागिन, स्नेक कैचर ने बिना औजार के पकड़कर उड़ाये होश, देखें हैरान कर देने वाला VIDEO

इस बार बाहर से नहीं बुलाया जायेगा सुरक्षाबल
पंचायत चुनाव में इस बार पड़ोसी राज्यों और केन्द्र सरकार से सुरक्षा बल नहीं मांगा जायेगा. चुनाव कराने की इस बड़ी चुनौती को राजस्थान पुलिस ही हैंडल करेगी. चुनाव में करीब 40 हजार पुलिसकर्मी तैनात किये जायेंगे. वहीं आयोग के निर्देशानुसार उम्रदराज कर्मचारियों को चुनाव ड्यूटी में नहीं लगाया जायेगा. चुनावी प्रक्रिया शुरू होते ही ग्रामीण इलाकों में चुनावी सरगर्मियां बढ़ गई हैं. हालांकि ये चुनाव पार्टी सिंबल पर नहीं होते हैं, लेकिन अपने-अपने समर्थकों को जीताने लिये बीजेपी और कांग्रेस समेत अन्य पार्टियां क्षेत्र में सक्रिय हो गई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज