होम /न्यूज /राजस्थान /'मैं CM रहूं या ना रहूं 102 MLA को नहीं भूल सकता...' बोल गहलोत ने BJP को फिर घेरा

'मैं CM रहूं या ना रहूं 102 MLA को नहीं भूल सकता...' बोल गहलोत ने BJP को फिर घेरा

अशोक गहलोत ने कहा कि कांग्रेस के लिए आगामी विधानसभा चुनाव जीतना जरूरी है.

अशोक गहलोत ने कहा कि कांग्रेस के लिए आगामी विधानसभा चुनाव जीतना जरूरी है.

Ashok Gehlot latest news: राजस्थान में सीएम की कुर्सी के लिए चल रहे राजनीतिक घमासान और कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर अशोक गहलोत का बड़ा बयान
गहलोत ने कहा कि सहयोगी विधायकों का विश्वास नहीं तोडूंगा
राजनीतिक संकट के बीच गहलोत ने एक फिर बीजेपी पर हमला बोला

राकेश शर्मा.

जयपुर. कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव और राजस्थान में सीएम की कुर्सी के लिए मचे घमासान के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने बीजेपी पर बड़ा आरोप लगाया है. गहलोत ने कहा बीजेपी (BJP) ने 10 करोड़ से अधिक में विधायक खरीदने की कोशिश. उन्होंने बीजेपी पर हॉर्स ट्रेडिंग का लगाते हुए कहा कि वह सरकार गिराना चाहती थी. गहलोत ने कहा है कि 50 साल के इतिहास में पहली बार कांग्रेस में ऐसी स्थिति पैदा हुई है. पार्टी के लिए 2 साल पहले गंभीर संकट आया था. उस समय जिन 102 विधायकों ने सरकार के साथ-साथ पार्टी की इज्जत बचाई थी उन सहयोगी विधायकों का विश्वास नहीं तोडूंगा. गहलोत ने कहा कि मैं अगर कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनता तो यह 102 विधायक के साथ नाइंसाफी होती.

एक सप्ताह पहले राजस्थान में पैदा हुए राजनीतिक हालात और कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस से बाहर होने के बाद रविवार को गांधी जयंती पर अशोक गहलोत ने खुलकर मीडिया से बाचतीत की. गहलोत ने कहा कि कांग्रेस के लिए आगामी विधानसभा चुनाव जीतना जरूरी है. राजस्थान के विधानसभा चुनाव का देशभर में पार्टी के लिए खास महत्व है. इस दौरान सीएम गहलोत ने बीजेपी पर भी हमला बोला. उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी तुष्टीकरण की राजनीति और देश में विभाजन का माहौल पैदा कर रही है.

जयपुर में जमकर मचा था राजनीतिक बवाल
गौरतलब है कि बीते 25 सितंबर को राजस्थान में कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई गई थी. इस बैठक में शामिल होने के लिए पार्टी आलाकमान ने मल्लिकार्जुन खड़गे और प्रदेश प्रभारी अजय माकन को भेजा था. लेकिन गहलोत खेमे के विधायक सीएम बदले जाने के प्रस्ताव की आशंका के कारण इस बैठक में नहीं पहुंचे. वे सभी गहलोत के करीब मंत्री शांति धारीवाल के बंगले जुटे थे. वहां उन्होंने बैठक कर सामूहिक रूप से विधानसभा अध्यक्ष को अपने इस्तीफे सौंप दिए थे. इस मामले को लेकर जयपुर में खासा राजनीतिक बवाल मचा था और कांग्रेस की देशभर में जमकर किरकिरी हुई थी.

गहलोत ने सोनिया गांधी से माफी भी मांगी
राजस्थान में हुए इस घटनाक्रम से कांग्रेस आलाकमान खासा नाराज हो गए. बाद में इस मामले को लेकर गहलोत ने सोनिया गांधी से माफी भी मांगी. यह पूरा प्रकरण देशभर में खासा चर्चित रहा. उसके बाद जो गहलोत पहले कांग्रेस अध्यक्ष की पद की रेस में सबसे आगे चल रहे थे वे पिछड़ गए. हालांकि गहलोत ने दिल्ली में कहा था कि वे खुद ही इस रेस से हट रहे हैं. लेकिन अंदरखाने इस मसले को लेकर कई तरह चर्चाएं हुईं. बहरहाल राजस्थान में सीएम की कुर्सी का किस्सा अभी खत्म नहीं हुआ है. राजस्थान के सीएम क्या गहलोत ही रहेंगे या फिर कोई होगा इसका फैसला जल्द होने की संभावना जताई जा रही है.

Tags: Jaipur news, Rajasthan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें