डैमेज कंट्रोल में जुटे गहलोत, रात 8 बजे CM आवास पर बुलाई विधायक दल की बैठक
Jaipur News in Hindi

डैमेज कंट्रोल में जुटे गहलोत, रात 8 बजे CM आवास पर बुलाई विधायक दल की बैठक
राजस्थान सरकार पर गहराए सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रात आठ बजे विधायक दल की बैठक बुलाई है

CM आवास (CM House) पर बुलाई गई बैठक में कांग्रेस (Congress) के सभी विधायकों को बुलाया गया है. इसमें ताजा सियासी घटनाक्रम पर चर्चा होगी, जिसमें सभी विधायकों को एकजुटता का संदेश दिया जाएगा

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) डैमेज कंट्रोल की कोशिशों में जुट गए हैं. उन्होंने उपजे ताजा राजनीतिक संकट (Political Crisis) के बीच रविवार रात आठ बजे सीएम आवास (CM House) पर कांग्रेस विधायक दल (CLP) की बैठक बुलाई है. बैठक में कांग्रेस (Congress) के सभी विधायकों को बुलाया गया है. इसमें ताजा सियासी घटनाक्रम पर चर्चा होगी, विधायकों को एकजुटता का मैसेज दिया जाएगा. बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) से कांग्रेस में आए विधायक राजेंद्र गुढ़ा और जोगिंदर अवाना ने रविवार को कहा, शाम आठ बजे मुख्यमंत्री ने सभी विधायकों को बुलाया है.
इस बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बीजेपी पर अपनी सरकार गिराने की कोशिश करने के आरोप लगाने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि वो पार्टी को लेकर चिंतित हैं. सिब्बल ने इस 'संकट' से तुरंत निपटने की अपील करते हुए कहा कि पार्टी नेतृत्व कब 'जागेगा'. रविवार को उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'पार्टी को लेकर चिंतित हूं. क्या हम तब जागेंगे जब हमारे हाथ से सब कुछ निकल जाएगा.'


गहलोत और पायलट में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा!
सूत्रों के मुताबिक राजस्थान कांग्रेस संकट और गुटबाजी में घिरी है. डिप्टी सीएम सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से रिश्ते अच्छे नहीं हैं. दोनों दिग्गज नेताओं के बीच तकरार की वजह पुलिस द्वारा विधायकों की 'खरीद-फरोख्त' मामले की जांच का आदेश देना और सचिन पायलट को नोटिस भेजना है, जिसे लेकर उपमुख्यमंत्री नाराज हैं.



बता दें कि अशोक गहलोत ने शनिवार को यह आरोप लगाया था कि बीजेपी उनके (कांग्रेस) विधायकों को 15-15 करोड़ रुपए ऑफर कर सरकार गिराने का षडयंत्र रच रही है. उन्होंने कहा था कि उनकी सरकार स्थिर है और अपना पांच साल का कार्यकाल भी पूरा करेगी. इस पर विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने पलटवार करते हुए सीएम गहलोत और कांग्रेस को इन आरोपों को साबित करने की चुनौती दी थी. कटारिया ने कहा था कि यदि बीजेपी पर आरोप साबित हो गए तो वो सक्रिय राजनीति से संन्यास ले लेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading