होम /न्यूज /राजस्थान /Rajasthan political crisis: विधायक दिव्या मदेरणा भड़की, कहा-1998 में हमने जहर का घूंट पिया था

Rajasthan political crisis: विधायक दिव्या मदेरणा भड़की, कहा-1998 में हमने जहर का घूंट पिया था

कांग्रेस विधायक दिव्या मदेरणा अपनी बेबाक बयानबाजी को लेकर पहले भी चर्चाओं में रह चुकी हैं.

कांग्रेस विधायक दिव्या मदेरणा अपनी बेबाक बयानबाजी को लेकर पहले भी चर्चाओं में रह चुकी हैं.

Divya Maderna supported Sachin Pilot: राजस्थान में सीएम पद के लिए चल रहे महासंग्राम को लेकर कांग्रेस की युवा एवं तेजतर् ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

दिव्या मदेरणा जोधपुर जिले की ओसियां विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं
दिव्या इससे पहले भी गहलोत के करीब मंत्री महेश जोशी पर निशाने साध चुकी हैं

जयपुर. राजस्थान में चल रही सियासी उठापटक (Rajasthan political crisis) के बीच कांग्रेस की युवा विधायक दिव्या मदेरणा (Divya Maderna) ने पूरे घटनाक्रम पर बरसते हुए कहा कि वे किसी गुट का हिस्सा नहीं हैं. वे परसराम मदेरणा की राजनीति का हिस्सा हैं. दिव्या ने कहा कि 1998 में हमने जहर का घूंट पिया था. दिव्या ने गहलोत के करीबी मंत्रियों महेश जोशी और शांति धारीवाल पर हमला बोलते हुये कहा कि वे स्वार्थ के साथ राजनीति कर रहे हैं. उन्होंने चेताया कि राजस्थान की पुलिस उनको रोक नहीं सकती है. दिव्या मदेरणा अक्सर अपनी तीखी बयानबाजी को लेकर सुर्खियों में रहती हैं.

दिव्या मदेरणा यहीं नहीं रुकी और कहा कि सचिन पायलट एक युवा चेहरा हैं. जनता में उनकी लोकप्रियता है. आलाकमान जो निर्णय करेंगे मैं उनके साथ हूं. कांग्रेस के प्रति मेरी निष्ठा पर कोई सवाल खड़ा नहीं कर सकता. कांग्रेस का कार्यकर्ता जमीन पर है. उसे धक्का लगा है. अगले साल चुनाव हैं. दिव्या ने कहा कि जो लोग बीस बीस साल मंत्री रह गए हैं वे आलाकमान को धत्ता बता रहे हैं.

गहलोत और पायलट खेमे के समर्थकों की जारी है बयानबाजी
राजस्थान में तीन दिन पहले रविवार रात को सीएम पद के लिये मचे राजनीतिक गदर के बाद कांग्रेस की राजनीति में चल रही कलह चरम पर आ गई थी. उसके बाद गहलोत और पायलट खेमों के विधायक और मंत्री मीडिया में लगातार अपने-अपने नेताओं के पक्ष में बयानबाजी कर रहे हैं. दिव्या मदेरणा राजस्थान की राजनीति के कद्दावर नेता रहे परसराम मदेरणा की पौत्री हैं. 1998 में मदेरणा सीएम बनते-बनते रह गए थे और अशोक गहलोत फ्रंट में आ गए थे. उस समय अशोक गहलोत पहली बार सीएम बने थे.

गहलोत के करीब दो मंत्रियों और धर्मेन्द्र राठौड़ को मिले हैं नोटिस
राजस्थान में हुए इस राजनीतिक हंगामे को आलाकमान ने विधायकों की अनुशासनहीनता माना है. इसके कारण गहलोत की करीबी मंत्री शांति धारीवाल और महेश जोशी समेत आरटीडीसी चेयरमैन धर्मेन्द्र राठौड़ को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है. इस नोटिस पर भी इन तीनों नेताओं समेत कई अन्य नेताओं ने सवाल उठाए हैं. बहरहाल राजस्थान की राजनीति चरम पर आई हुई है. देशभर नजरें राजस्थान के राजनीतिक घटनाक्रम पर टिकी हैं.

Tags: Ashok Gehlot Vs Sachin Pilot, Jaipur news, Rajasthan Congress, Rajasthan news, Rajasthan Politics

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें