होम /न्यूज /राजस्थान /राजस्थान कांग्रेस में 'गद्दारी' पर गदर, गहलोत और पायलट गुट पेश रहे एक दूसरे के खिलाफ सबूत

राजस्थान कांग्रेस में 'गद्दारी' पर गदर, गहलोत और पायलट गुट पेश रहे एक दूसरे के खिलाफ सबूत

गहलोत और पायलट गुट के नेताओं में जुबानी जंग तेज हो गई है.

गहलोत और पायलट गुट के नेताओं में जुबानी जंग तेज हो गई है.

Ashok Gehlot Vs Sachin Pilot factions showing evidence: राजस्थान कांग्रेस में चल रहा सियासी घमासान कम होने के बजाय दिन- ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

गहलोत खेमे के धर्मेन्द्र राठौड़ और गोविंदराम मेघवाल बरसे
पायलट खेमे के विधायक वेदप्रकाश ने कल लगाए थे गंभीर आरोप
दोनों खेमे हमलावर को सबूत दिखाकर एक दूसरे को बता रहे हैं धोखेबाज

जयपुर. राजस्थान में मचे सियासी घमासान के बीच अब अशोक गहलोत और सचिन पायलट गुट (Ashok Gehlot Vs Sachin Pilot faction) एक-दूसरे पर हमलावर हो रहे हैं. एक बार फिर गद्दार (Traitor) शब्द की गूंज कांग्रेस की अंदरुनी सियासत सुनाई दे रही है. दोनों खेमों की ओर से अब मीडिया के सामने सबूत पेश कर एक दूसरे को गद्दार साबित करने की कोशिश की जा रही है. आरटीडीसी चेयरमैन एवं गहलोत के बेहद करीबी धर्मेंद्र राठौड़ और आपदा राहत मंत्री गोविंद राम मेघवाल ने पायलट गुट के विधायक वेदप्रकाश सोलंकी पर बीजेपी से सांठगांठ कर जयपुर में जिला प्रमुख बनवाने की गंभीर आरोप लगाए हैं. इसको लेकर सीसीटीवी फुटेज मीडिया में जारी किए गए हैं. वहीं अब राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अजय माकन पर भी गंभीर आरोप लगाए गए हैं.

गहलोत खेमे की ओर से आरोप लगाया गया है कि एक होटल में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया से वेद प्रकाश सोलंकी ने मुलाकात की थी. उसके बाद उनके 2 सदस्यों ने बीजेपी के पक्ष में वोट डाला और उनका जिला प्रमुख बनवा दिया. यह रिपोर्ट अजय माकन को भेज दी गई लेकिन आज तक उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई. दोनों नेताओं ने अजय माकन पर गंभीर आरोप लगाए हैं. वही पायलट के सीएम बनाने को लेकर कहा यह मंजूर नहीं है. चाहे मंत्री पद छोड़ना पड़े. एक साल पहले चुनाव लड़ना पड़े.

सोलंकी ने जिला परिषद के 2 सदस्य बेचे
दरअसल बुधवार को धर्मेंद्र राठौड़ ने सचिन पायलट गुट पर गद्दारी का आरोप लगाया था. धर्मेंद्र राठौड़ के आरोप पर पायलट गुट के वेदप्रकाश सोलंकी ने पलटवार किया था. सोलंकी ने धर्मेंद्र राठौड़ को रजिस्टर्ड दलाल बताया था. अब एक बार फिर धर्मेंद्र राठौड़ ने गुरुवार को पीसी के जरिए उन पर पलटवार किया. धर्मेंद्र राठौड़ में कहा कि कौन गद्दार है और कौन वफादार इसका मैं सबूत दूंगा. जिला प्रमुख चुनाव में सतीश पूनिया और वेद प्रकाश सोलंकी होटल में मिले थे. सोलंकी ने चाकसू विधानसभा क्षेत्र से जीते दो सदस्यों को बीजेपी को बेचा था.

चाकसू के सदस्यों ने रमा चोपड़ा को वोट दिया था
उन्होंने आरोप लगाया कि जयपुर के मानसरोवर के एक होटल में सतीश पूनिया और वेद सोलंकी की मुलाकात हुई थी. 10 मिनट की मुलाकात के बाद वेदसोलंकी और सतीश पूनिया अलग-अलग निकले. बहुमत के बावजूद कांग्रेस को जिला प्रमुख चुनाव में हार मिली. चाकसू के जिला परिषद सदस्य ने रमा चोपड़ा को वोट किया. इससे रमा चौपड़ा बीजेपी के समर्थन से जिला प्रमुख बन गईं.

राठौड़ बोले घटना की रिपोर्ट के बाद कार्रवाई क्यों नहीं की?
प्रदेश कांग्रेस की ओर से इस घटना की रिपोर्ट गोविंद मेघवाल ने भेजी थी. लेकिन आज तक अनुशासनहीनता पर कोई कार्रवाई नहीं हुई. उन्होंने सवाल उठाया कि अजय माकन ने इस घटना की रिपोर्ट के बाद कार्रवाई क्यों नहीं की? मानेसर गैंग के पापों को अजय माकन भी नहीं छिपा सकते. धर्मेंद्र राठौड़ ने सबूत के तौर दिखाई होटल की वीडियो क्लिप दिखाई.

Tags: Ashok Gehlot Vs Sachin Pilot, Jaipur news, Rajasthan Congress, Rajasthan news, Rajasthan Politics

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें