• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • Rajasthan Politics: फंसा पेंच, CM गहलोत की एक इच्छा ने अटका दिया कैबिनेट पुर्नगठन, जानें क्या है मामला

Rajasthan Politics: फंसा पेंच, CM गहलोत की एक इच्छा ने अटका दिया कैबिनेट पुर्नगठन, जानें क्या है मामला

सीएम अशोक गहलोत ने पार्टी आलाकमान को स्पष्‍ट कर दिया कि वे कैबिनेट विस्तार चाहते हैं वो भी दो बार में. (फाइल फोटो)

सीएम अशोक गहलोत ने पार्टी आलाकमान को स्पष्‍ट कर दिया कि वे कैबिनेट विस्तार चाहते हैं वो भी दो बार में. (फाइल फोटो)

CM अशोक गहलोत किसी भी हाल में मंत्रिमंडल पुर्नगठन के पक्ष में नहीं हैं. वे मंत्रिमंडल विस्तार चाहते हैं और वो भी दो बार में. पार्टी आलाकमान का संदेश लेकर आईं कुमारी शैलजा को भी सीएम ने अपनी मंशा साफ कर दी है.

  • Share this:

जयपुर. राजस्‍थान सरकार में चल रहा विवाद सुलझता नहीं दिख रहा है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की एक इच्छा ने अब मंत्रिमंडल पुर्नगठन की राह में रोड़ा अटका दिया है. सीएम गहलोत मंत्रिमंडल पुर्नगठन नहीं चाहते हैं. सूत्रों के अनुसार वे सिर्फ मंत्रिमंडल का विस्तार करना चाहते हैं. वहीं पार्टी अलाकमान की इच्छा कुछ और है. वे खराब परफॉर्मेंस वाले मंत्रियों की छुट्टी कर फिर एक बार मंत्रिमंडल पुनर्गठन के पक्ष में हैं.
अब इस विवाद को सुलझाने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हरियाणा कांग्रेस की अध्यक्ष कुमारी शैलैजा को अपने विशेष दूत के रुप में जयपुर भेजा. कुमारी शैलेजा रविवार शाम को जयपुर पहुंची. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से एक गोपनीय मुलाकात के बाद सोमवार को दिल्ली लौट गई. दरअसल कुमारी शैलैजा को इसलिए भेजा गया क्योंकि राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी अजय माकन और संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल को गहलोत को मंत्रिमंडल पुनर्गठन के लिए मनाने में कामयाबी नहीं मिली.

पायलट कोटे का भी खयाल
कुमारी शैलेजा सोनिया गाधी के नजदीकी हैं. वे सोनिया गांधी का विशेष संदेश लेकर आईं. माना जा रहा है कि सोनिया गांधी चाहती हैं कि पांच अगस्त को उनके विदेश दौरे से पहले गहलोत मंत्रीमडंल का पुनर्गठन कर दें. पायलट कोटे से तय विधायको को मंत्री बना दें. लेकिन कांग्रेस के सूत्रों का दावा है कि गहलोत ने शैलेजा से भी साफ कहा कि पुनर्गठन के बजाय वे मंत्रिमंडल का विस्तार करना चाहते हैं यानी मंत्रीमडंल में 9 सीटों पर नए मंत्री बनाना चाहते हैं, किसी को हटाना नहीं. वो भी एक साथ नहीं दो टुकड़ों में यानी एक विस्तार अभी और एक बाद में करना चाह रहे हैं. वहीं इसके विपरीत पार्टी हाईकमान का संदेश था कि विस्तार नहीं पुर्नगठन हो वो भी जल्दी.

पायलट को भेजो राजस्‍थान से बाहर
वहीं एक बड़ी बात भी सामने आई है.सूत्रों के अनुसार सीएम गहलोत ने कुमारी शैलेजा के सामने विस्तार के लिए एक शर्त रखी कि सचिन पायलट को पहले राजस्थान से बाहर भेजा जाए और उन्हें किसी दूसरे राज्य की जिम्मेदारी दी जाए, उनका सीधा दखल कहीं न हो. वहीं दूसरी तरफ खबर है कि सचिन पायलट ने पुनर्गठन जल्दी कराने के लिए कोशिशें तेज कर दी हैं.

बताया जा रहा है कि सीएम ने कुमारी शैलजा से ये भी कहा कि पार्टी विधायकों में से किसी ने भी उनको लेकर नाराजगी नहीं जताई है. सिर्फ कुछ मंत्रियो की शिकायतें थीं. वहीं उन्होंने कहा कि जब सरकार अच्छा काम कर रही है तो मंत्रिमंडल का पुर्नगठन की जरूरत क्यों है. वहीं कुछ मंत्री जिनका नाम सामने आ रहा है उन्होंने अनौपचारिक तौर पर कहा कि सीएम ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि किसी को नहीं हटाया जाएगा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज