Home /News /rajasthan /

रूप कंवर सती प्रकरण : आज नहीं आएगा फैसला, सुनवाई टली, 32 साल पहले हुआ था मामला

रूप कंवर सती प्रकरण : आज नहीं आएगा फैसला, सुनवाई टली, 32 साल पहले हुआ था मामला

राजस्थान के सीकर जिले के दिवराला गांव में करीब 32 साल पहले हुए रूप कंवर सती प्रकरण में मंगलवार को होने वाली सुनवाई टल गई है. जयपुर की सती निवारण कोर्ट आज अपना फैसला सुनाने वाली थी, लेकिन इस पर सुनवाई टल गई है. फाइल फोटो

राजस्थान के सीकर जिले के दिवराला गांव में करीब 32 साल पहले हुए रूप कंवर सती प्रकरण में मंगलवार को होने वाली सुनवाई टल गई है. जयपुर की सती निवारण कोर्ट आज अपना फैसला सुनाने वाली थी, लेकिन इस पर सुनवाई टल गई है. फाइल फोटो

राजस्थान (Rajasthan) के सीकर (Sikar) जिले के दिवराला गांव में करीब 32 साल पहले हुए रूप कंवर सती प्रकरण (Roop kanwar Sati Case) में मंगलवार को होने वाली सुनवाई टल (hearing postponed) गई है. जयपुर की सती निवारण कोर्ट (Sati Prevention Court) आज अपना फैसला सुनाने वाली थी, लेकिन इस पर सुनवाई टल गई है.

अधिक पढ़ें ...
    जयपुर : राजस्थान (Rajasthan) के सीकर (Sikar) जिले के दिवराला गांव में करीब 32 साल पहले हुए रूप कंवर सती प्रकरण (Roop kanwar Sati Case) में मंगलवार को होने वाली सुनवाई टल (hearing postponed) गई है. जयपुर की सती निवारण कोर्ट (Sati Prevention Court) आज अपना फैसला सुनाने वाली थी, लेकिन इस पर सुनवाई टल गई है. जज पुरुषोत्तम लाल सैनी मामले से जुड़े 8 आरोपियों को लेकर फैसला सुनाने वाले थे. लेकिन अब सुनवाई टल जाने से फैसला आज नहीं आएगा (The verdict will not come today). इस मामले में 25 लोग पहले बरी (Acquitted) हो चुके हैं. कुछ लोगों की ट्रायल के दौरान मौत (death) हो चुकी है.

    1987 को सीकर के दिवराला गांव में हुई थी घटना
    जयपुर जिले की रूप कंवर की दिवराला निवासी माल सिंह शेखावत के साथ 1987 में शादी हुई थी. शादी के 7 माह बाद गंभीर बीमारी से माल सिंह की मौत हो गई थी. बताया जाता है कि पति के निधन के बाद रूप कंवर (18) ने सती होने की इच्छा जताई. लेकिन पुलिस जांच में यह बात सही नहीं बताई जा रही है. उसके बाद 4 सितंबर, 1987 को रूप कंवर पति के साथ सती हो गई थी. इस घटना के बाद स्थानीय लोगों ने रूप कंवर को सती मां का दर्जा दिया और वहां मंदिर बनवाया.

    प्रदेशभर में काफी बवाल मचा था
    यह भी बताया जाता है कि मायके वालों को इसकी खबर उनके सती होने के बाद दी गई थी. मामला सार्वजनिक होने के बाद उस समय इस पर प्रदेशभर में काफी बवाल मचा था. राष्ट्रीय स्तर पर यह मुद्दा गरमाया था. तत्कालीन मुख्यमंत्री हरिदेव जोशी के निर्देश पर पुलिस ने जांच करते हुए 45 लोगों को इस मामले में आरोपी बनाया था. उन सभी पर आरोप था कि वो घटना के समय वहां मौजूद थे और उन्होंने सती माता के जयकारे भी लगाए थे.

    8 आरोपियों को लेकर आने वाला था फैसला
    हालांकि सबूतों के अभाव में इस मामले में अब तक 25 लोग बरी हो चुके हैं. वहीं कई लोगों की ट्रायल के दौरान मौत हो चुकी है. शेष सभी आरोपी जमानत पर जेल से बाहर हैं. इनमें से 8 आरोपियों को लेकर अदालत मंगलवार को अपना फैसला सुनाने वाली थी, लेकिन सुनवाई टल गई.

    यह भी पढ़ें-

    कलराज मिश्र बने राजस्थान के नए राज्यपाल
    जस्टिस इंद्रजीत महांती होंगे राजस्थान हाई कोर्ट के नए CJR

    Tags: Court, Jaipur news, Rajasthan news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर