पंचायती राज चुनाव: रालोपा के कारण त्रिकोणीय मुकाबले की संभावना, BJP-कांग्रेस की बढ़ी मुश्किलें

रविवार को प्रत्याशी घोषित होंगे और सोमवार को नामांकन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी. इसके साथ ही चुनावी तस्वीर साफ हो जाएगी. (सांकेतिक फोटो)
रविवार को प्रत्याशी घोषित होंगे और सोमवार को नामांकन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी. इसके साथ ही चुनावी तस्वीर साफ हो जाएगी. (सांकेतिक फोटो)

Rajasthan: शनिवार को जिला परिषद के 37 वार्डों से 35 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया. वहीं, 21 पंचायत समितियों के लिए 415 प्रत्याशियों के आवेदन जमा हुए हैं.

  • Share this:
जयपुर. पंचायती राज चुनाव (Panchayat raj election) में टिकटों के बंटवारे को लेकर भाजपा और (BJP And Congress) कांग्रेस में अंदरुनी घमासान चल रहा है. सोमवार को नामांकन का अंतिम दिन है, लेकिन अभी तक दोनों दलों ने जिला परिषद व पंचायत समिति के प्रत्याशी घोषित नहीं किए हैं. हालांकि पैनल तैयार कर भेजा जा चुका है. रविवार को भाजपा और कांग्रेस द्वारा प्रत्याशियों की सूचियां जारी करने की अटकलें लगाई जा रही हैं. शनिवार को जिला परिषद (District Council) के 37 वार्डों से 35 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया. वहीं 21 पंचायत समितियों के लिए 415 प्रत्याशियों के आवेदन जमा हुए हैं.

शनिवार को कलेक्ट्रेट परिसर में भाजपा व कांग्रेस प्रत्याशी अपने समर्थकों के साथ नामांकन के लिए पहुंचे थे. दिनभर लोगों की भीड़ जमा रही. आज  रविवार के अवकाश के चलते नामांकन जमा नही होंगे. ऐसे में सोमवार को नामांकन का अंतिम दिन है. भाजपा व कांग्रेस ने जिला परिषद व पंचायत समिति सदस्यों के संभावित दावेदारों का पैनल तैयार कर भेज दिया था. स्थानीय विधायक, जिलाध्यक्ष व प्रभारी समेत अन्य पदाधिकारियों से विचार-विमर्श के बाद ही पैनल भेजा गया है, लेकिन कुछ नामों पर सहमति नहीं बनी है. भाजपा के 30 फीसदी टिकटों पर खींचतान चल रही है. वहीं कांग्रेस की 20 फीसदी सीटों पर सहमति नहीं बनी है.

भाजपा-कांग्रेस को रालोपा सीधी टक्कर दे रही है
रविवार को पहले कांग्रेस और फिर भाजपा द्वारा अपने प्रत्याशियों की सूचियां जारी करने की भी सम्भावनाएं जताई जा रही हैं. भाजपा-कांग्रेस को रालोपा सीधी टक्कर दे रही है. रालोपा ने जिले भर में जिला परिषद व पंचायत समिति सदस्य के प्रत्याशी उतारने का फैसला किया है. पार्टी के पदाधिकारी प्रत्याशियों के चयन में जुटे हैं. ऐसे में भाजपा व कांग्रेस को डर है कि उनके असंतुष्ट नेता रालोपा के साथ नहीं चले जाएं. टिकटों की घोषणा होने के बाद असंतुष्ट लोग खिलाफत कर सकते हैं. इस स्थिति में दोनों पार्टियां प्रत्याशी घोषित करने में देर कर रही हैं. वहीं, रालोपा को भाजपा व कांग्रेस से बागी प्रत्याशियों का अपने पक्ष में आने का इंतजार है. हालांकि, रविवार को प्रत्याशी घोषित होंगे और सोमवार को नामांकन ही प्रक्रिया पूरी हो जाएगी. इसके साथ ही चुनावी तस्वीर साफ हो जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज