राजस्थान: Work From Home कर्मचारियों की आपदा में ली जाएंगी सेवाएं, मुख्य सचिव ने जारी किया आदेश

राजस्थान सरकार ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें वर्क फ्राम होम कर रहे कर्मचारियों को कोविड रोकथाम में सहयोग करना पड़ेगा.

राजस्थान सरकार ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें वर्क फ्राम होम कर रहे कर्मचारियों को कोविड रोकथाम में सहयोग करना पड़ेगा.

Rajasthan News: रविवार को प्रदेश के मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने आपदा प्रबंधन सहायता तथा नागरिक सुरक्षा विभाग की ओर से एक आदेश में कहा गया है कि 'वर्क फ्रॉम होम कर रहे सरकारी कर्मचारियों की सेवाएं ली जा सकेंगी.

  • Last Updated: May 10, 2021, 12:09 AM IST
  • Share this:

जयपुर. राजस्थान में वर्क फ्राम होम कर रहे कर्मचारियों की आपदा में सेवाएं ली जाएंगी. इस संबंध में रविवार को प्रदेश के मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने आपदा प्रबंधन सहायता तथा नागरिक सुरक्षा विभाग की ओर से एक आदेश जारी कर दिया है. जिसमें कहा गया है कि 'वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) कर रहे सरकारी कर्मचारियों की सेवाएं ली जा सकेंगी. वे कर्मचारी जिनका पदस्थापन अन्यत्र जिले में है, लेकिन अपने जिले में वे वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं, उनकी सेवाएं निवास स्थान के जिला कलेक्टर कोविड संक्रमण (Covid 19 Infection) की रोकथाम के कार्य के लिए अधिग्रहीत कर सकेंगे. उपखंड स्तरीय एवं ग्राम स्तरीय कोर ग्रुप के माध्यम से इन कार्मिकों की सेवाएं कोविड प्रबंधन में ली जा सकेंगी.

वर्क फ्रॉम होम पर कार्यरत सभी सरकारी कर्मचारी कोविड अनुशासन के प्रति आमजन मानस में जागरूकता फैलाने का प्रयास करेंगे, इसके लिए वे सोशल मीडिया एवं पब्लिक एड्रेस सिस्टम का अधिकाधिक उपयोग करेंगे. ये कार्मिक यह भी सुनिश्चित करेंगे कि कोविड संक्रमित कोई व्यक्ति जानकारी एवं संसाधनों के अभाव में उपचार से वंचित न रहे. ऐसा प्रकरण ध्यान आने पर वे संबंधित एएनएम या स्वास्थ्य केन्द्र को सूचित करेंगे. साथ ही ऐसे व्यक्तियों की सूचना इनके सम्पर्क नम्बरों के साथ अविलम्ब उपखण्ड स्तरीय समितियों को उपलब्ध कराएं.

खाद्य सामग्री के वितरण में भी सहयोग करेंगे

वर्क फ्रॉम होम कार्मिक लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंद एवं अभावग्रस्त परिवारों को फूड पैकेट और खाद्य सामग्री बांटने में सहयोग करेंगे. वह स्थानीय पंचायत जनप्रतिनिधियों एवं दानदाताओं के सहयोग से ग्राम स्तरीय कोर कमेटी का इस काम में सहयोग करेंगे. सभी कर्मचारी ग्राम स्तरीय कोर कमेटी के नियमित सम्पर्क में रहेंगे तथा आवश्यकता पड़ने पर जिला कलेक्टर एवं उपखण्ड अधिकारी के निर्देशानुसार कोविड नियंत्रण के कार्यों में सहयोग करेंगे. ये कर्मचारी इस बात का भी ध्यान रखेंगे कि लॉकडाउन के दौरान गांव में कोई भीड़ भरा आयोजन न हो.
लॉकडाउन का उल्लंघन की देंगे सूचना

कोई व्यक्ति अतिआवश्यक काम के बिना इधर-उधर नहीं घूमें लॉकडाउन का उल्लंघन पाए जाने पर वे तत्काल इसकी सूचना ग्राम स्तरीय कोर कमेटी नजदीकी पुलिस थाने एवं उपखण्ड मजिस्ट्रेट को देंगे. इसके अतिरिक्त ये कर्मचारी विभिन्न प्रचार-प्रसार माध्यमों से मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना की जानकारी लोगों तक पहुंचाने के साथ ही पंजीकरण से वंचित परिवारों को 31 मई, 2021 से पूर्व योजना से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित करेंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज