Rajasthan Crisis: केंद्रीय मंत्री ने राजस्‍थान के नए कांग्रेस अध्‍यक्ष गोविंद डोटासरा पर कसा तंज, मिला ये जवाब
Jaipur News in Hindi

Rajasthan Crisis: केंद्रीय मंत्री ने राजस्‍थान के नए कांग्रेस अध्‍यक्ष गोविंद डोटासरा पर कसा तंज, मिला ये जवाब
राजस्‍थान के कांग्रेस अध्‍यक्ष गोविंद डोटासरा.(फाइल फोटो)

गोविंद डोटासरा ने पलटवार करते हुए कहा कि गजेंद्र जी, महाराणा प्रताप की वीरता और शौर्य हम सब जानते और मानते हैं, आपसे सर्टिफिकेट नहीं चाहिए. राजस्थान में आपकी पार्टी के मनसूबे कामयाब नहीं हुए तो ओछी राजनीति पर उतर आये हैं. खिसयानी बिल्ली खंबा नोचे वाली कहावत चरितार्थ हो गई'.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान के सियासी संकट (political crisis in Rajasthan) और राजनीतिक उठा-पटक के बीच अब भाजपा सरकार (BJP Government) में केंद्रीय मंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव गजेंद्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh Shekhawat) और कांग्रेस के नए प्रदेश अध्यक्ष गोविंद डोटासरा (Govind Singh Dotasra) के बीच घमासान मच गया है. दरअसल गोविंद डोटासरा को अध्यक्ष बनाए जाने के बाद केंद्रीय मंत्री ने उन पर तंज कसते हुए कहा कि 'वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप के इतिहास को अपमानित करने वाले गोविंद डोटासरा को कांग्रेस ने अपना अध्यक्ष बना कर हर स्वाभिमानी राजस्थानी का तिरस्कार किया है!!
शेखावत पर डोटासरा का पलटवारजिसके बाद आग बबूला हुए डोटासरा ने गजेंद्र सिंह शेखावत और भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए पलटवार किया और गजेंद्र सिंह को सीधे संबोधित करते हुए tweet किया 'गजेंद्र जी, महाराणा प्रताप की वीरता और शौर्य हम सब जानते और मानते हैं, आपसे सर्टिफिकेट नहीं चाहिए. राजस्थान में आपकी पार्टी के मनसूबे कामयाब नहीं हुए तो ओछी राजनीति पर उतर आये हैं. खिसयानी बिल्ली खंबा नोचे वाली कहावत चरितार्थ हो गई.


ये भी पढ़ें- CM अशोक गहलोत बोले- वो नई पीढ़ी को प्यार करते हैं, इनकी रगड़ाई हुई होती तो ये ठीक काम करते...

इससे पहले मरुधरा के सियासी बवाल में सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने बीजेपी (BJP) को भी कसूरवार ठहराते हुए केंद्र सरकार (Central Government) को जमकर खरी-खोटी सुनाई थी. सीएम अशोक गहलोत ने भाजपा की केंद्र सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि 'आज़ादी के बाद में पहली बार ऐसी गवर्नमेंट आई है जो धनबल के आधार पर देश के अंदर सरकारों को तोड़ रही है, मरोड़ रही है और टॉपल कर रही है. आज तक कभी ऐसा नहीं हुआ, पहली बार डेमोक्रेसी खतरे में है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज