वसुंधरा ने गहलोत को पत्र लिखकर लगाई हादसे में मारे गए शख्स की सहायता की गुहार, जानें पूरा मामला

राजे ने अपने पत्र में लिखा कि माडाराम के परिजनों की माली हालत ठीक नहीं. उनकी मदद की जाए. (फाइल फोटो)
राजे ने अपने पत्र में लिखा कि माडाराम के परिजनों की माली हालत ठीक नहीं. उनकी मदद की जाए. (फाइल फोटो)

सोडाला एलिवेटेड सड़क हादसे में मारे गए शख्स के परिजनों की मदद के लिए वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ने सीएम गहलोत को पत्र लिखा पत्र. परिजनों को आर्थिक सहायता और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की मांग की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2020, 4:35 PM IST
  • Share this:
जयपुर. सोडाला एलिवेटेड पर हुए सड़क हादसे (Road accident) के मामले में अब पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) को पत्र लिखकर मृतक के परिजनों को सहायता देने की मांग की है. राजे ने सीएम गहलोत को पत्र लिखकर मृतक के परिजनों को आर्थिक सहायता और एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की भी मांग की है.

पारिवारिक स्थिति से अवगत कराया

वसुंधरा राजे ने सीएम अशोक गहलोत को पत्र लिखकर माडाराम देवासी (Madaram Dewasi) की पारिवारिक स्थिति का हाल बताया है. राजे ने कहा कि मृतक माडाराम देवासी के परिवार की आजीविका केवल पशुपालन है. परिवार की दयनीय हालात होने के बावजूद बड़े भाइयों ने जमीन बेचकर उसे पढ़ाया जबकि मां ने उसकी कोचिंग के लिए अपने गहने तक गिरवी रख दिए. इस दुखद हादसे ने उन सभी के सपनों पर पानी फेर दिया. इस हृदय विदायक घटना ने परिवार की खुशियों के साथ-साथ उनकी उम्मीदें भी छीन लीं.



सड़क हादसों पर चले जनजागृति अभियान
पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने बढ़ती हुई सड़क दुर्घटनाओं को देखते हुए प्रदेश में सड़क सुरक्षा के प्रति सघन जनजागृति अभियान चलाने का भी सुझाव दिया है.

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का वह पत्र जो उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को लिखा है.
पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का वह पत्र जो उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को लिखा है.


6 नवंबर को हुआ था हादसा

आपको बता दें कि पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में शामिल होने पाली से जयपुर आए माडाराम की मौत 6 नवंबर को सोडाला एलिवेटेड रोड पर हुए हादसे में हो गई थी. हादसा इतना भयानक था कि ऑडी कार की टक्कर से उछलकर माडाराम एक मकान की छत पर जा गिरा था. इस भीषण हादसे में मौके पर ही उसकी मौत हो गई थी. गौरतलब है कि यह तेज रफ्तार कार नेहा सोनी नाम की एक महिला चला रही थी. इस हादसे के बाद दो दिनों तक परिजनों ने माडाराम का शव नहीं लिया था. बाद में लोगों के समझाने पर रविवार को परिजन शव लेकर अपने गांव गए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज