Rajya Sabha Elections: माकपा के 2 वोटों पर असमंजस, क्या है पार्टी की रणनीति? पढ़ें इनसाइड स्टोरी
Jaipur News in Hindi

Rajya Sabha Elections: माकपा के 2 वोटों पर असमंजस, क्या है पार्टी की रणनीति? पढ़ें इनसाइड स्टोरी
पार्टी नेताओं ने बताया कि माकपा आमतौर पर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव में भागीदारी नहीं करती है क्योंकि उसके प्रत्याशी चुनाव मैदान में नहीं होते हैं. राज्य सचिव अमराराम.

राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Elections) के मतदान के लिए अब केवल एक दिन ही बचा है, माकपा अपने 2 विधायकों के वोटों को लेकर अभी तक अंतिम फैसला नहीं कर पाई है.

  • Share this:
जयपुर. राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Elections) के मतदान के लिए अब केवल एक दिन ही बचा है. लेकिन, कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) अपने 2 विधायकों के वोटों को लेकर अभी तक अंतिम फैसला नहीं कर पाई है. पार्टी की राज्य सचिव मंडल की बुधवार को हुई बैठक के बाद प्रेस वक्तव्य जारी किया गया है. इसमें केवल बीजेपी (BJP) पर निशाना साधा गया और अपनी पार्टी के वोटों (Vote) का जिक्र नहीं किया गया है.

पार्टी के राज्य सचिव अमराराम से जब इस बारे में बात करने की कोशिश की गई तो वे इसका जवाब देने से कतराते रहे. हालांकि, माकपा के दूसरे नेताओं ने अनौपचारिक बातचीत में कहा है कि पार्टी के दोनों विधायक राज्यसभा चुनाव में वोट नहीं डालेंगे. अभी तक पार्टी का यही निर्णय है, क्योंकि पार्टी बीजेपी और कांग्रेस दोनों की ही नीतियों का विरोध करती है. पार्टी का कोई प्रत्याशी भी मैदान में नहीं है.

कांग्रेस अपने खेमे में मान रही
माकपा के राज्य में दो विधायक श्रीडूंगरगढ़ से गिरधारीलाल महिया और भादरा से बलवान पूनिया हैं. कांग्रेस की ओर से पूर्व में दावा किया गया था कि ये विधायक कांग्रेस के पक्ष में वोट करेंगे और इसके लिए पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व से बातचीत की जा रही है. लेकिन, पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों ने अभी इस संबंध में कोई बयान नहीं दिया है. अनौपचारिक बातचीत में पार्टी नेताओं ने बताया कि माकपा आमतौर पर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव में भागीदारी नहीं करती है, क्योंकि उसके प्रत्याशी चुनाव मैदान में नहीं होते हैं.
पार्टी अपने हाथ नहीं जलाएगी


इस बार भी वोटिंग की उम्मीद इसलिए कम है, क्योंकि कांग्रेस के पास दो सीटें जीतने के लिए पर्याप्त संख्या है. ऐसे कांग्रेस की नीतियों का विरोध करती रही पार्टी राज्यसभा चुनाव में उसके पक्ष में वोटिंग कर अपने हाथ नहीं जलाएगी. फिर भी पार्टी के शीर्ष स्तर पर कोई फैसला होता है तो वोटिंग की जा सकती है.

बीजेपी पर तीखा हमला
माकपा विधायक भले ही कांग्रेस को वोट करे या ना करें, लेकिन इतना तय हो चुका है कि वो बीजेपी को अपना वोट नहीं देंगे. पार्टी के राज्य सचिव अमराराम ने कहा कि चुनाव में बीजेपी की करारी हार होगी. बीजेपी इस कड़वी सच्चाई को जानते हुए भी कि उनके पास दूसरे उम्मीदवार के लिए पर्याप्त मत नहीं हैं, उसने दूसरा उम्मीदवार खड़ा करके राज्यसभा चुनाव को जोड़-तोड़ और खरीद-फरोख्त की राजनीति का अखाड़ा बना दिया है.

भारत-चीन झड़प में घायल राजस्थान का जाबांज सुरेन्द्र 15 घंटे बाद आया होश में 

Rajya Sabha Election: अब बसपा के विधायकों पर मचा घमासान, कांग्रेस को लग सकता है बड़ा झटका ! फंसा ये पेंच
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज