Home /News /rajasthan /

rajya sabha elections rajasthan congress claims to win 3 seats but displeasure of legislators can break dream rjsr

राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस का 3 सीटें जीतने का दावा, विधायकों की नाराजगी सपनों पर फेर सकती है पानी

विधानसभा में कांग्रेस के पास 108 विधायक हैं जबकि बीजेपी के पास 71 हैं.

विधानसभा में कांग्रेस के पास 108 विधायक हैं जबकि बीजेपी के पास 71 हैं.

राज्यसभा चुनाव की राजनीति: राज्यसभा की राजस्थान की चार सीटों के लिये होने वाले चुनाव (Rajya Sabha elections) में बीजेपी और कांग्रेस में मुकाबला रोचक होने जा रहा है. कांग्रेस (Congress) ने तीन सीटों पर जीत का दावा किया है लेकिन उसे तीसरी सीट के लिये जमकर पसीना बहाना पड़ेगा. क्योंकि खुद कांग्रेस के और कुछ निर्दलीय विधायकों की नाराजगी के कारण तीसरी सीट के लिये वोटों का पूरा गणित उलझा हुआ है. बीजेपी अगर इस सीट के लिये प्रत्याशी उतारती है तो सत्ता पक्ष की ओर से विधायकों की बाड़ेबंदी फिर से तय मानी जा रही है. पढ़ें राज्यसभा चुनाव की ताजा अपडेट.

अधिक पढ़ें ...

जयपुर. राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha elections) के रण के लिए अधिसूचना जारी हो गई है. नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है. राजस्थान में मुकाबला चार सीटों के लिए है. कांग्रेस (Congress) दावा कर रही है कि हर हाल में 3 सीटें उसके खाते में आएगी. कांग्रेस के इस दावे को मजबूत तो कहा जा सकता है लेकिन हर हाल में ऐसा होगा ही यह तय नहीं माना जा सकता. तीसरी सीट जीतने में कांग्रेस को अच्छा खासा जोर लगाना पड़ेगा. विधायकों की नाराजगी की खबरों के बीच यह टास्क और भी ज्यादा मुश्किल हो जाएगा. बीजेपी यह तीसरी सीट आसानी से कांग्रेस के पाले में नहीं जाने देगी. बीजेपी की ओर से दो उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारते ही मुकाबला कड़ा हो जाएगा. कांग्रेस को तीसरी सीट जीतने में पसीना आएगा.

फॉर्मूले के अनुसार प्रत्येक सीट के लिए प्रथम वरीयता के 41 वोट चाहिए. विधानसभा में कांग्रेस के पास 108 विधायक हैं जबकि बीजेपी के पास 71 हैं. विधानसभा में निर्दलीयों की संख्या 13 है. इनके अलावा राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के 3, माकपा के 2 और बीटीपी के 2 विधायक हैं. राष्ट्रीय लोकदल का विधानसभा में एक सदस्य है.

कांग्रेस को तीन सीटें जीतने के लिए 123 वोटों की जरुरत है
राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी अगर बीजेपी का साथ देती है तो उसकी संख्या 74 हो जाती है. ऐसे में अगर बीजेपी को दूसरी सीट जीतनी है तो उसे 8 अन्य विधायकों की जरुरत पड़ेगी. वहीं कांग्रेस को तीन सीटें जीतने के लिए 123 वोटों की जरुरत है. ऐसे में उसे निर्दलीयों के साथ ही अन्य दलों का साथ चाहिए. लेकिन बीटीपी के साथ ही कुछ निर्दलीय विधायक नाराज बताए जा रहे हैं. अगर पार्टी इन्हें नहीं मना पाती है तो कांग्रेस के हाथ से तीसरी सीट छिटक सकती है.

जल्दी शुरू होगी बाड़ेबंदी!
बीटीपी और निर्दलीयों के साथ ही कांग्रेस के खुद के भी कुछ विधायक नाराज चल रहे हैं. वे पार्टी की मुश्किलें बढ़ा रहे हैं. हाल ही में डूंगरपुर विधायक गणेश घोघरा ने अपना इस्तीफा भेजकर नाराजगी जाहिर की थी. वे पार्टी के आला नेताओं से मिलकर भी अपनी नाराजगी जता चुके हैं. वहीं पार्टी में गहलोत-पायलट खेमे के बीच का कोल्ड वार भी अभी खत्म नहीं हुआ है. ऐसे में तीसरी सीट कांग्रेस के पाले में तय नहीं कही जा सकती है.

दो नाम राज्य से बाहर के हो सकते हैं
अगले कुछ दिनों में पार्टी टिकट भी घोषित करेगी. उसके बाद ज्यादा असंतोष देखने को मिल सकता है. हालांकि तीन में से दो नाम राज्य से बाहर के हो सकते हैं. गुलाम नबी आजाद, प्रियंका गांधी, रणदीप सुरजेवाला, भंवर जितेन्द्र सिंह, डीजीपी एमएल लाठर, राजीव शुक्ला और दिनेश खोडनिया समेत कई नाम चर्चा में हैं. कांग्रेस विधायकों की नाराजगी से इनकार कर रही है लेकिन दूसरी ओर विधायकों को साधने के प्रयास भी जारी हैं.

कांग्रेस की वर्कशॉप के साथ ही बाड़ेबंदी की हो सकती है बाड़ाबंदी
हाल ही में मुख्यमंत्री सलाहकार समिति का गठन कर सलाहकार बनाए गए विधायकों को वैधानिक दर्जा दिया गया है ताकि उनकी नाराजगी दूर की जा सके. बीजेपी अगर दूसरा प्रत्याशी उतारती है तो सत्ता पक्ष की ओर से बाड़ेबंदी फिर से तय मानी जा रही है. चर्चा यह भी है कि 1 और 2 जून को होने जा रही कांग्रेस की वर्कशॉप के साथ ही बाड़ेबंदी की भी शुरुआत हो जाएगी. कुल मिलाकर तीसरी सीट पर पेंच जोरदार फंसा हुआ है. इसकी वजह से राज्यसभा का रण इस बार ज्यादा रोमांचक होने जा रहा है.

Tags: BJP Congress, Jaipur news, Rajasthan news, Rajasthan Politics, Rajya Sabha Elections

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर