Home /News /rajasthan /

rajya sabha elections tribal vs non tribal battle started in rajasthan congress read latest political scenario rjsr

राज्यसभा चुनाव: राजस्थान कांग्रेस में शुरू हुई आदिवासी बनाम गैर आदिवासी की जंग, पढे़ं ताजा अपडेट

सीएम अशोक गहलोत के करीबी डूंगरपुर के जिलाध्यक्ष दिनेश खोडनिया का नाम कांग्रेस से राज्यसभा के लिए दावेदारों में आना इसकी बड़ी वजह माना जा रहा है.

सीएम अशोक गहलोत के करीबी डूंगरपुर के जिलाध्यक्ष दिनेश खोडनिया का नाम कांग्रेस से राज्यसभा के लिए दावेदारों में आना इसकी बड़ी वजह माना जा रहा है.

राज्यसभा चुनाव में दावेदारी को लेकर कांग्रेस में कलह: राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha election) की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आती जा रही है वैसे-वैसे कांग्रेस में कलह बढ़ती जा रही है. अब राजस्थान कांग्रेस में राज्यसभा चुनाव के लिये आदिवासी बनाम गैर आदिवासी की जंग (Tribal Vs non tribal battle) शुरू हो गई है. पढ़ें क्या है इसकी असली वजह.

अधिक पढ़ें ...

जयपुर. राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha election) को लेकर राजस्थान कांग्रेस में कलह (Discord in Congress) शुरू हो गई है. राजस्थान में चार सीटों पर राज्यसभा चुनाव है. इनमें से तीन पर कांग्रेस को जीत को उम्मीद है. कांग्रेस में विवाद की बड़ी वजह बनी है मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के करीबी डूंगरपुर के जिलाध्यक्ष दिनेश खोडनिया का नाम कांग्रेस से राज्यसभा के लिए दावेदारों में आना. डूंगरपुर से कांग्रेस विधायक गणेश घोघरा ने दिल्ली में पार्टी के संगठन महासचिव वेणुगोपाल से न सिर्फ खोडनिया की शिकायत की बल्कि गैर आदिवासी को आदिवासी इलाके से राज्यसभा उम्मीदवार नहीं बनाने की मांग भी की है.

पार्टी सूत्रों का दावा है कि घोघरा ने एक सीट से किसी आदिवासी को ही राज्यसभा भेजने की मांग की है. खोडनिया आदिवासी इलाके से हैं लेकिन जैन समुदाय से है आदिवासी नहीं. सिर्फ घोघरा ही नहीं राजस्थान में कांग्रेस के दूसरे आदिवासी नेता भी गैर आदिवासी को टिकट देने के खिलाफ एकजुट हो गए हैं. इससे कांग्रेस की परेशानी बढ़ गई है.

कांग्रेस विधायक का ट्वीट डूंगरपुर में कांग्रेस का बिखराव शुरू
प्रतापगढ़ से कांग्रेस विधायक रामलाल मीणा ने ट्वीट कर कहा कि डूंगरपुर में कांग्रेस का बिखराव शुरू हो चुका है. कांग्रेस नेतृत्व इस पर ध्यान दे. दूसरी तरफ खोडनिया के समर्थकों का कहना है कि आदिवासियों को पंचायत से लेकर संसद तक आरक्षण मिला हुआ है. इस क्षेत्र से गैर आदिवासी को राज्यसभा भेजकर उनकी भागीदारी तय होनी चाहिए.

घोघरा और खोडनिया के बीच यह है लड़ाई की वजह
घोघरा और खोडनिया के बीच जंग की एक वजह है घोघरा के खिलाफ डूंगरपुर पुलिस का केस दर्ज करना है. कुछ दिन पहले ‘प्रशासन गांवों के संग अभियान’ के फॉलोअप कैंप के दौरान पट्टे नहीं देने पर ग्रामीणों ने प्रशासन के अधिकारियों-कर्मचारियों को पंचायत भवन में बंधक बनाकर ताला जड़ दिया था. उस वक्त ग्रामीणों के साथ घोघरा भी तालाबंदी के बाहर धरने पर बैठे थे. इस मामले में घोघरा के खिलाफ केस दर्ज होने पर उसके लिए वे खोडनिया को जिम्मेदार मानते हैं.

राज्यसभा सीट की दावेदारी तक पहुंची लड़ाई
दोनों के बीच की राजनीतिक लड़ाई अब राज्यसभा सीट की दावेदारी तक पहुंच गई है. खोडनिया की खिलाफत से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सामने अपने करीबी को राज्यसभा भेजना की कोशिश खटाई में पड़ सकती है. राजस्थान में चार सीटों पर हो रहे राज्यसभा चुनावों में दो पर कांग्रेस का जीतना तय माना जा रहा है. एक सीट बीजेपी की तय मानी जा रही है. संख्या बल के लिहाज से चौथी सीट पर भी कांग्रेस का पलड़ा भारी है.

सीएम गहलोत भेजना चाहते हैं स्थानीय नेताओं जायें राज्यसभा
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तीनों सीटों पर स्थानीय यानी राजस्थान के किसी कांग्रेस नेता को राज्यसभा भेजना चाहते हैं. इससे पार्टी हाईकमान के सामने गुलाम नबी आजाद को राजस्थान से राज्यसभा भेजने पर भी विवाद खड़ा हो गया है. गहलोत के करीबी पार्टी के नेताओं ने कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन तक अपनी मांग पहुंचा दी है. गहलोत राजस्थान में अगले साल होने जा रहे हैं विधानसभा चुनाव को देखते हुए जातीय समीकरण साधने के लिए राज्यसभा में स्थानीय नेताओं को भेजने की मांग कर रहे हैं.

राज्यसभा के लिये यह गणित बिठाया जा रहा है
पार्टी सूत्रों का दावा है कि गहलोत तीन में से एक सीट पर राजस्थान के डीजीपी एम एल लाठर को जाट कोटे से दूसरी सीट पर राजपूत कोटे से अपने करीबी धर्मेंद्र राठौड़ को राज्यसभा भेजना चाहते हैं. तीसरी सीट पर आदिवासी इलाके से दिनेश खोडनिया को भेजने की मंशा है. लेकिन खोडनिया को लेकर आदिवासी बनाम गैर आदिवासी विवाद के बाद उनकी दावेदारी अब खटाई में पड़ सकती है. कांग्रेस में इस कलह के बाद बीजेपी ने दूसरी सीट पर भी अपना प्रत्याशी उतारने की योजना बना ली है. बीजेपी के पास दूसरी सीट के लिए 30 अतिरिक्त वोट है. बीजेपी ने दूसरी प्रत्याशी उतारा तो एक बार फिर से विधायकों की बाड़ाबंदी तय है.

Tags: Jaipur news, Rajasthan Congress, Rajasthan news, Rajasthan Politics, Rajya Sabha Elections

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर