लाइव टीवी

जयपुर ग्रामीण लोकसभा नतीजे: राजनीति में आते समय नर्वस राठौड़ फिर चैंपियन, बोले 'मोदी है तो मुमकिन है'

News18 Rajasthan
Updated: May 23, 2019, 5:01 PM IST
जयपुर ग्रामीण लोकसभा नतीजे: राजनीति में आते समय नर्वस राठौड़ फिर चैंपियन, बोले 'मोदी है तो मुमकिन है'
राज्यवर्धन सिंह राठौड़। फोटो एफबी।

प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज हैं राज्यवर्धन सिंह राठौड़ | Rajyavardhan Singh Rathore, Profile Key Candidate, Jaipur Rural Lok Sabha Election Result 2019, rajastahan

  • Share this:
लोकसभा चुनाव 2019 में राजस्थान की हाई प्रोफाइल सीट जयपुर ग्रामीण के नतीजे आ चुके हैं. जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र से भाजपा (BJP) के उम्मीदवार राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने बाज़ी मार ली है. 23 मई को जारी मतगणना में आए नतीजों के मुताबिक राठौड़ ने 63.8 फीसदी वोट हासिल कर जीत दर्ज की. राठौड़ के खिलाफ इस सीट से कांग्रेस की कृष्णा पूनिया प्रतिद्वंद्वी रहीं. रुझानों में भी राठौड़ लगातार पूनिया से आगे चलते रहे. नतीजों के आंकड़ों के मुताबिक राठौड़ को 2 लाख 68 हज़ार 325 वोट मिले जबकि पूनिया को 1 लाख 42 हज़ार 55 वोट हासिल हुए.

न्यूज़18 के साथ खास बातचीत में राठौड़ ने अपनी और भाजपा की जीत को ऐतिहासिक करार देते हुए दोहराया कि 'मोदी है तो मुमकिन है'. राठौड़ ने कहा कि भाजपा और केंद्र की मोदी सरकार ने जो उपलब्धियां दर्ज कीं, उन्हीं को देखकर देश ने इस तरह का विशाल जनमत दिया. राठौड़ ने कांग्रेस और पूरे विपक्ष पर हमला करते हुए ये भी कहा कि उनके पास कोई ऐसा नेता नहीं था, जिसे नेतृत्व के रूप में देश स्वीकार कर सके.

खेल और सेना में अपनी प्रतिभा दिखाने के बाद राजनीति में कदम रखने वाले राज्यवर्धन सिंह राठौड़ का मुकाबला इस बार अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी कृष्णा पूनिया से हुआ है. गत लोकसभा चुनाव से पहले राजनीति में कदम रखने वाले राज्यवर्धन भी उन चुनिंदा नेताओं में शुमार हैं, जिनका सियासी सफर केन्द्रीय मंत्री के रूप में शुरू हुआ है. जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र से दूसरी बार चुनाव लड़ने वाले राठौड़ पीएम मोदी के पसंदीदा नेताओं में माने जाते हैं.

राजस्थान: 200 कमरों में होगी काउंटिंग, 8:30 बजे से रूझान

29 जनवरी 1970 को जैसलमेर में जन्मे राज्यवर्धन राठौड़ प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज हैं. उन्होंने 2004 में हुए एथेंस ओलंपिक में पुरुष डबल–ट्रैप में पहला रजत पदक जीता था. यह उनकी जिंदगी का टर्निंग पाइंट रहा. इससे उनकी पूरे विश्व में पहचान बनी. पेरिस ओलंपिक में राठौड़ ने 2 रजत पदक जीते थे. राठौड़ भारत के पहले खिलाड़ी हैं, जिन्होंने देश के लिए एकल रजत पदक जीता.

परिवार के साथ राठौड़।


जैसलमेर से की शुरुआती पढ़ाई
Loading...

पारिवारिक पृष्ठभूमि सेना की होने के कारण राठौड़ भी सेना में भर्ती हुए. सेना में अपनी प्रतिभा के बल पर कर्नल बने. शुरुआती पढ़ाई जैसलमेर से करने के बाद अपने पिता के नक्शे कदम पर चलकर राठौड़ सेना में गए और वर्ष 1990 में मेजर बने. राज्यवर्धन ने 2002 में मेनचेस्टर में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में एकल डबल ट्रैप स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था.

2013 में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेकर राजनीति में कदम रखा
सेना और खेल में अपना भाग्य आजमाने के बाद राठौड़ ने वर्ष 2013 में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेकर राजनीति में कदम रखा और बीजेपी ज्वाइन की. 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में नरेन्द्र मोदी ने उन पर भरोसा जताते हुए उन्हें जयपुर ग्रामीण से सीट से लोकसभा चुनाव मैदान में उतारा. नए सफर को लेकर राठौड़ पहले कुछ नर्वस थे, लेकिन लोगों ने उनका साथ देते अच्छे समर्थन से लोकसभा में भेजा. वर्तमान में राठौड़ केन्द्रीय सूचना प्रसारण मंत्री है.

चुनाव प्रचार करते राठौड़।


खेल से जुड़ी गतिविधियों को दिया बढ़ावा
सांसद और केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने लगातार ग्रामीण इलाकों में जाकर लोगों की समस्याओं को दूर करने का प्रयास किया. 2014 में केन्द्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने धानक्या गांव को आदर्श ग्राम के तहत गोद लिया और विकास कार्य करवाए. खेल से जुड़े होने के कारण उन्होंने ग्रामीण इलाकों खेल से जुड़ी गतिविधियों को भी भरपूर बढ़ावा दिया. इस बार कांग्रेस ने उनके मुकाबले के लिए अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी चूरू के सादुलपुर से विधायक कृष्णा पूनिया को चुनाव मैदान में उतारा है. दोनों के बीच रोचक मुकाबला हुआ है.

अपने  WhatsApp  पर पाएं लोकसभा चुनाव के लाइव अपडेट्स

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2019, 2:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...