लाइव टीवी

राहत: गहलोत सरकार ने अनुकंपा नियुक्ति वाले कार्मिकों को टंकण परीक्षा नियमों में दी छूट

Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: December 7, 2019, 10:29 AM IST
राहत: गहलोत सरकार ने अनुकंपा नियुक्ति वाले कार्मिकों को टंकण परीक्षा नियमों में दी छूट
राज्य सरकार ने अब इसमें शिथिलता प्रदान करते हुए अंग्रेजी भाषा में गति 20 शब्द प्रति मिनट और हिंदी में 16 शब्द प्रति मिनट कर दी है.

प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) ने अनुकंपा नियुक्ति (Compassionate appointment) पाने वाले कार्मिकों को बड़ी राहत (Big relief) प्रदान की है. सरकार ने ऐसे कार्मिकों को टंकण गति परीक्षा (Typing speed test) उतीर्ण करने में छूट प्रदान की है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) ने अनुकंपा नियुक्ति (Compassionate appointment) पाने वाले कार्मिकों को बड़ी राहत (Big relief) प्रदान की है. सरकार ने ऐसे कार्मिकों को टंकण गति परीक्षा (Typing speed test) उतीर्ण करने में छूट प्रदान की है. ऐसे कार्मिकों को दो विशेष टंकण परीक्षा के साथ दो अतिरिक्त मौके (Two extra chances) मिलेंगे. वर्तमान में निर्धारित टंकण गति अंग्रेजी भाषा में 28 शब्द प्रति मिनट एवं हिंदी भाषा में 24 शब्द प्रति मिनट है.

समस्त वित्तीय परिलाभ मिल सकेंगे
राज्य सरकार ने अब इसमें शिथिलता प्रदान करते हुए अंग्रेजी भाषा में गति 20 शब्द प्रति मिनट और हिंदी में 16 शब्द प्रति मिनट कर दी है, ताकि ऐसे सभी कर्मचारियों द्वारा नियमानुसार टंकण परीक्षा उत्तीर्ण करने पर इन्हें समस्त वित्तीय परिलाभ दिए जा सकें. कार्मिक विभाग ने इस संबंध में परिपत्र जारी कर दिया है. इसके तहत 31 दिसंबर, 2016 से पूर्व  नियुक्त मृतक आश्रित अनुकंपा कर्मचारी जिनके द्वारा अभी तक टंकण परीक्षा उत्तीर्ण नहीं की गई है, वे निर्धारित समय अवधि के पश्चात टंकण परीक्षा उतीर्ण किए जाने के लिए अधिकृत होंगे. इसके लिए उन्हें दो अतिरिक्त अवसर प्रदान किए जाएंगे.

कार्मिक विभाग ने जिला कलेक्टर्स को निर्देश जारी किए

इस संबंध में कार्मिक विभाग ने सभी जिला कलेक्टर्स को निर्देश जारी कर दिए हैं. दरअसल सरकार के ध्यान में यह लाया गया था कि मृतक सरकारी कर्मचारियों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति नियम-1966 के अंतर्गत कनिष्ठ लिपिक के पद पर नियुक्तियों के बावजूद लंबे समय से नियमानुसार टंकण परीक्षा उत्तीर्ण नहीं कर पाने के कारण उन्हें आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है. सरकार ने यह स्पष्ट कर दिया है कि टंकण परीक्षा समाप्त नहीं की जाएगी, लेकिन उसमें राहत प्रदान की जाएगी.

कर्मचारियों को मिलेगी राहत
गहलोत सरकार के इस कदम से मृतक आश्रित उन कर्मचारियों को काफी राहत मिलेगी, जो लंबे समय से टंकण परीक्षा उर्तीण नहीं कर पाने के कारण कई देय वित्तीय लाभों से वंचित थे.यह है देश का सबसे आधुनिकतम और भव्य न्याय का मंदिर, राष्ट्रपति करेंगे उद्घाटन

प्रवासी राजस्थानी सम्मेलन: पायलट और पूनिया ने लंदन में साझा किया मंच

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 7, 2019, 10:00 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर