Home /News /rajasthan /

राजस्थान में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए सरकारी सिस्टम पर ही भरोसा, निजी सेंटर्स पर महज 2% ने ही लगवाए टीके

राजस्थान में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए सरकारी सिस्टम पर ही भरोसा, निजी सेंटर्स पर महज 2% ने ही लगवाए टीके

आमजन सरकारी अस्पतालों में ज्यादा लगवा रहे हैं वैक्सीन.

आमजन सरकारी अस्पतालों में ज्यादा लगवा रहे हैं वैक्सीन.

Corona Vaccination Campaign : सरकारी सिस्टम को लोग भले कितना ही कोसते हों, लेकिन एक मामले में सरकारी मशीनरी ने निजी से बाजी मार ली है. वो है कोरोना वैक्सीनेशन अभियान. प्रदेश में लोगों ने कोरोना वैक्सीन निजी सेंटर की तुलना में सरकारी सिस्टम में कई गुना ज्यादा लगवाई है.

अधिक पढ़ें ...

जयपुर. कोरोना की वैक्सीन (Vaccine) को लेकर बेशक शुरुआत में काफी सवाल खड़े किए गए हों, लेकिन अब लोग इस पर भरोसा जताते हुए बड़ी संख्या में वैक्सीन लगवा रहे हैं. खास बात यह है कि वैक्सीन लगवाने के लिए भी सरकारी सिस्टम (Government Hospitals) पर ही लोगों का विश्वास है. राजस्थान में महज 2 फीसदी लोगों ने ही निजी सेंटर्स (Private Centers) पर जाकर वैक्सीन लगवाई है. देश में 16 जनवरी से शुरू हुए वैक्सीनेशन अभियान (Vaccination Campaign) की शुरुआत में वैक्सीन लगाने को लेकर लोगों में उत्साह कम था. लेकिन दूसरी लहर में मचे कोहराम के बाद लोगों को वैक्सीनेशन की उपयोगिता समझ में आ गई.

यही कारण है कि अब वैक्सीनेशन सेंटर्स की तस्वीरें बिल्कुल जुदा हैं. लंबी-लंबी कतारें. अपनी बारी का इंतजार और वैक्सीन नहीं लग पाने की स्थिति में हंगामा करते लोग. अब यह आए दिन का आलम हो चुका है. खास बात यह है कि केन्द्र सरकार द्वारा निजी सेंटर्स पर सशुल्क वैक्सीन लगाने की सुविधा प्रदान की गई है उसके बावजूद वैक्सीनेशन के सरकारी सेंटर्स पर ही लोगों की भीड़ उमड़ रही है.

80 लाख को वैक्सीन की दोनों डोज लगीं
राजस्थान में अब तक लगाए गए कुल डोज में से 98 फीसदी लोगों ने सरकारी सेंटर्स पर ही वैक्सीन लगवाई है. महज 1.98 फीसदी लोगों ने निजी सेंटर्स पर जाकर वैक्सीन लगवाई है. प्रदेश की लक्षित आबादी 5 करोड़ 14 लाख 95 हजार 402 लोगों में से ढाई करोड़ से ज्यादा लोगों को पहली डोज लग चुकी है. जबकि 80 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लगाई जा चुकी है.

चार लाख लोगों ने निजी सेंटर पर लगवाई वैक्सीन
प्रदेश में कुल वैक्सीनेशन में से करीब 4 लाख लोगों ने ही निजी सेंटर्स पर जाकर वैक्सीन लगवाई है. इनमें भी दो लाख लोगों ने सिर्फ जयपुर के निजी सेंटर्स पर वैक्सीन लगवाई है. यानि प्रदेशभर में सरकारी सिस्टम पर ही लोगों को भरोसा है. जयपुर में 100 से अधिक निजी सेंटर्स इसके लिये अधिकृत हैं, लेकिन सिर्फ 45 सेंटर्स पर ही वैक्सीन लगाई जा रही है. जबकि प्रदेश के अन्य जिलों में ज्यादा निजी सेंटर्स नहीं हैं. हालांकि निजी सेंटर्स पर ज्यादा वैक्सीनेशन नहीं होने के अपने कारण हैं. एक तो सरकारी सेंटर्स पर बेहतर व्यवस्था, निजी सेंटर्स पर लगने वाला शुल्क और सरकारी सिस्टम पर भरोसे के कारण ही सरकारी सेंटर्स पर लोग ज्यादा वैक्सीनेट हो रहे हैं.

कोरोना संक्रमण का होना भी बड़ा कारण
सरकारी सेंटर्स पर जाकर वैक्सीनेशन करवाने के पीछे एक और बड़ा कारण भी है. कोरोना की दूसरी लहर में जब सरकारी अस्पतालों में जगह नहीं थी. तब कई लोगों ने निजी अस्पतालों में जाकर लाखों रुपए खर्च कर इलाज लिया. लेकिन अब जब कोरोना संक्रमण कम हो चुका है तब ज्यादातर सुविधा सम्पन्न और वीवीआईपी भी सरकारी सेंटर पर जाकर ही वैक्सीन लगवा रहे हैं.

Tags: 18 plus vaccination, 3rd Phase Vaccination, Corona 19, Corona third wave, Corona vaccine

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर