• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • मंदिर-मस्जिदों में पाबंदियों के साथ मिल सकती है दर्शन की इजाजत, पढ़ें- धर्मगुरुओं ने दिए क्या-क्या सुझाव?

मंदिर-मस्जिदों में पाबंदियों के साथ मिल सकती है दर्शन की इजाजत, पढ़ें- धर्मगुरुओं ने दिए क्या-क्या सुझाव?

राजस्थान के धार्मिक स्थलों को खोलने को लेकर प्लान तैयार किया जा रहा है. सांकेतिक फोटो.

राजस्थान के धार्मिक स्थलों को खोलने को लेकर प्लान तैयार किया जा रहा है. सांकेतिक फोटो.

राजस्थान (Rajasthan) में सभी धार्मिक स्थलों को खोलने का सुझाव देने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित समितियों ने अपनी रिपोर्ट तैयार कर ली है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) में सभी धार्मिक स्थलों को खोलने का सुझाव देने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित समितियों ने अपनी रिपोर्ट तैयार कर ली है. दो सप्ताह से अधिक चली मैराथन बैठकों में अधिकतर धार्मिक स्थलों को 31 जुलाई के बाद ही खोलने के सुझाव मिले. हालांकि, धर्मगुरुओं ने कुछ पाबंदियां जारी रखने की आवश्यकता जताई है. जिला कलेक्टर 25 जून को राज्य सरकार को अपनी-अपनी रिपोर्ट सौपेंगे. इसके बाद ही प्रदेश में धार्मिक स्थलों को खोलने पर राज्य सरकार निर्णय लेगी. फिलहाल कोरोना संक्रमण के चलते प्रदेश में धार्मिक स्थलों को खोलने पर पाबंदी है.

राज्य सरकार के गृह विभाग ने 8 जून को आदेश जारी कर सभी जिला कलेक्टर को धार्मिक स्थलों को खोलने के मामले पर विभिन्न धर्मगुरुओं, ट्रस्टों के अध्यक्ष, मंदिर प्रबंधन समिति के साथ बैठक कर विचार-विमर्श करने एवं सुझाव लेने के आदेश जारी किए थे. गृह विभाग के आदेश पर प्रदेश के अधिकतर कलेक्टर ने विचार-विमर्श कर अपनी रिपोर्ट तैयार कर ली.

ये भी पढ़ें: बिहार की पॉलीटिक्स में कोरोना की एंट्री, अब गया निगम के डिप्टी मेयर मिले संक्रमण के लक्षण

सालासरधाम बालाजी मंदिर 31 से पहले नहीं खुलेगा
आस्था के प्रतीक सालासरधाम बालाजी मंदिर के पुजारी ने कहा- 'कोरोना के कारण 31 जुलाई से पहले भक्तों के लिए नहीं खुलेगा. प्रबंधन ने श्रद्धालुओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए निर्णय लिया'. हाल ही में जिला कलेक्टर अध्यक्षता में बैठक में यह फैसला लिया गया. इसी कड़ी में पुष्कर में स्थित जगतपिता ब्रह्मा मंदिर के लिए जिला प्रशासन ने धर्मगुरुओं से चर्चा कर ली है. धर्म गुरुओं ने कुछ पाबंदियों को जारी रखने की आवश्यकता जताई है. इसी तरह सरवाड़ दरगाह में बड़ी संख्या में जायरीन आते हैं. यहां कोरोना के संबंध में जारी दिशा निर्देशों की पालना के संबंध में चर्चा की गई. दरगाह के प्रतिनिधियों ने कहा कि सरकार द्वारा दरगाह खोलने की अनुमति मिलने पर ही इसे खोला जाएगा.

कमेटी ने इन बिंदुओं पर की चर्चा
-कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए धार्मिक स्थलों पर  सुरक्षात्मक उपाय जनता के लिए क्या क्या और किस तरह से पूजा अर्चना, इबादत या जियारत इत्यादि के लिए अनुमति दी जाए.
-जिले में ऐसे धार्मिक स्थलों की सूची तैयार की गई जहां भारी संख्या में आवागमन होता है.
-भीड़भाड़ वाले धार्मिक स्थलों के अतिरिक्त अन्य स्थलों को भी किस तरह खोला जाए, क्या व्यवस्था की जाए।
-सभी जिलों से मिलने वाली रिपोर्ट के अध्ययन के बाद सरकार धार्मिक स्थलों को खोलने के संबंध में कोई निर्णय लेगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज