लाइव टीवी

पंचायत चुनाव से पहले तनाव में आए सरपंच, रिकॉर्ड तोड़ शिकायतों ने बढ़ाई धड़कनें

Babulal Dhayal | News18 Rajasthan
Updated: December 6, 2019, 4:49 PM IST
पंचायत चुनाव से पहले तनाव में आए सरपंच, रिकॉर्ड तोड़ शिकायतों ने बढ़ाई धड़कनें
प्रदेश के जिला कलक्ट्रेट कार्यालयों और संभागीय आयुक्त कार्यालयों में सरपंचों के खिलाफ शिकायतों ने इस बार रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. सांकेतिक फोटो।

पंचायत चुनाव (Panchayat Election) से पहले प्रदेश के मौजूदा सरपंच (Sarpanch) इन दिनों तनाव (Tension) में हैं. एक ओर खुद की गलतियां और दूसरी तरफ उनके खिलाफ साजिशों (Conspiracy) के दौर ने पंचायत के मुखियाओं की मुश्किलें बढ़ा (Problems increased) दी हैं.

  • Share this:
जयपुर. पंचायत चुनाव (Panchayat Election) से पहले प्रदेश के मौजूदा सरपंच (Sarpanch) इन दिनों तनाव (Tension) में हैं. एक ओर खुद की गलतियां और दूसरी तरफ उनके खिलाफ साजिशों (Conspiracy) के दौर ने पंचायत के मुखियाओं की मुश्किलें बढ़ा (Problems increased)  दी हैं. हालात ये हैं कि जिला कलक्ट्रेट से लेकर संभागीय आयुक्त कार्यालयों में सरपंचों के खिलाफ शिकायतों (Complaints) की बाढ़ सी आई हुई है. दूसरी तरफ पंचायत चुनाव में मुश्किल से दो महीने का वक्त बचा है.

जयपुर जिले में 90 फीसदी सरपंच विवादों में
प्रदेश के जिला कलक्ट्रेट कार्यालयों और संभागीय आयुक्त कार्यालयों में सरपंचों के खिलाफ शिकायतों ने इस बार रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. जयपुर जिले में तो 90 फीसदी सरपंच विवादों में हैं. 532 ग्राम पंचायतों में से 494 पंचायतों के मुखिया के खिलाफ शिकायतें दर्ज की जा चुकी हैं. कइयों पर मुकदमें दर्ज हुए हैं. एक दर्जन सरपंच निलंबित कर दिए गए हैं.

अलवर, सीकर और झुंझनूं में भी यही हाल

अलवर की 511 ग्राम पंचायतों में से 222 के खिलाफ शिकायतें आईं हैं. 16 सरपंच सस्पेंड कर दिए गए हैं. इनमें से 3 ने कोर्ट से स्टे ले लिया है. सीकर की 346 ग्राम पंचायतों में 224 के खिलाफ शिकायत आई हैं. आधा दर्जन सरपंच सस्पेंड किए गए हैं. वहीं एक सरपंच कोर्ट से स्थगन आदेश लेकर आ गया और अभी भी ग्रामीणों के विरोध के बावजूद कुर्सी पर काबिज है. झुंझुनूं जिले की 301 ग्राम पंचायतों में से 170 के खिलाफ शिकायतें आईं हैं. वहां भी 3 सरपंच सस्पेंड किए गए हैं.

कहीं पर गबन तो कहीं वित्तीय अनियमितताएं की शिकायतें
शिकायतों के अनुसार सरपंचों के खिलाफ कहीं पर गबन तो कहीं वित्तीय अनियमितताएं की शिकायतें सामने आई हैं. वहीं कइयों की शैक्षणिक योग्यता में खामियां हैं तो कई ग्राम पंचायत के मुखियाओं के दो से ज्यादा संतानें हैं. लेकिन दस्तावेजों में उन्होंने सही तथ्य छुपाए. कई सरपंच रिश्ते निभाने के चक्कर में परेशान हुए हैं. कई जगह चहेतों को लाभ पहुंचाया गया है तो कई जगह निर्दोष होने के बावजूद उन्हें विवादों में घसीट लिया गया है. चुनाव सिर पर हैं. लिहाजा शिकायत करने वाले चाहते हैं चुनाव से पहले ही अपने विरोधी को चारों खाने चित्त कर दिया जाए. इसलिए सरपंचों के खिलाफ शिकायतों की बाढ़ आई हुई है.पंचायत चुनाव: हट सकता है 2 से अधिक संतान होने पर चुनाव नहीं लड़ पाने का नियम

पंचायत चुनाव: तय समय पर होना मुश्किल ! नियुक्त हो सकते हैं प्रशासक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 6, 2019, 4:44 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर