Home /News /rajasthan /

सरकारी स्कूल का क्लर्क डमी कैंडिडेट बनकर दे रहा था पटवारी परीक्षा, 15 लाख में हुई थी डील

सरकारी स्कूल का क्लर्क डमी कैंडिडेट बनकर दे रहा था पटवारी परीक्षा, 15 लाख में हुई थी डील

गिरफ्तार राजेंद्र विश्नोई जोधपुर जिले के बिरामी का बताया जा रहा है

गिरफ्तार राजेंद्र विश्नोई जोधपुर जिले के बिरामी का बताया जा रहा है

Rajasthan Dummy candidate scam : दरअसल, वास्तविक कैंडिडेट दौसा का था. यह इलाका जयपुर से लगता है. जालोर क्षेत्र मारवाड़-गोड़वाड़ का है. जब LDC ने बातचीत की तो साफ लग गया कि वह दौसा का नहीं है. बोली में काफी फर्क था. पुलिस को भी पहले उसके बारे में इनपुट मिल चुका था.

अधिक पढ़ें ...

    जयपुर. अपनी भाषा-बोली के चलते एक डमी कैंडीडेट (Dummy Candidate) पुलिस के हत्थे चढ़ गया. सरकारी स्कूल का लोअर डिवीजन क्लर्क (LDC) डमी कैंडिडेट बनकर पटवारी परीक्षा  (Patwari Exam)  में अपने दोस्त की जगह परीक्षा देने पहुंच था. उसकी असली कैंडिडेट से फोटो बिल्कुल मैच कर रही थी. आधार कार्ड (Aadhar card) से लेकर अन्य दस्तावेज भी तैयार कर लिए थे. इससे पहले वह रीट (REET) में भी डमी कैंडिडेट बन एग्जाम दे चुका है.

    आरोपी सुनील गोदारा जालोर के एक सरकारी स्कूल में कार्यरत है. शनिवार को वह दोस्त की जगह एग्जाम देने आया था. रविवार को अपने दूसरे भाई की जगह वह फर्जी कैंडिडेट बनकर एग्जाम देने वाला था, लेकिन पुलिस ने उसे व उसके भाई दोनों को गिरफ्तार कर लिया है.
    डीसीपी हरेंद्र महावर ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि दो दिन चलने वाली पटवारी भर्ती में जालोर से फर्जी कैंडिडेट बनकर जयपुर में परीक्षा देने आए हैं. तब पुलिस लोकेशन के हिसाब से कुमावत क्षत्रिय सीनियर सेकेंडरी स्कूल के पास पहुंची. वहां पर एएसपी भरतलाल मीणा, डीएसपी भोपाल सिंह भाटी व सोडाला थानाधिकारी सत्यपाल सिंह के साथ अन्य पुलिसकर्मी पहुंच गए. पुलिस टीम आरोपियों की तलाश कर रही थी.

    पटवारी परीक्षा के अभ्यर्थियों से भरी बस खाई में गिरी, 4 बार पलटी खाई, 1 की मौत, 55 घायल

    प्रवेश पत्र व आधार कार्ड में लगे फोटो अलग
    कुमावत स्कूल के कमरा नंबर 6 में रोल नंबर 3252074 पर परीक्षा देने आए युवक से संदेह के आधार पर पूछताछ की गई. जांच में टीम ने देखा कि प्रवेश पत्र व आधार कार्ड़ सहित अन्य दस्तावेजों में लगे फोटो बिल्कुल अलग थे. पुलिस ने सुनील गोदारा व ओमप्रकाश को गिरफ्तार कर लिया. मुख्य अभ्यर्थी भूपेंद्र कुमार मीणा पुत्र बाबूलाल मीणा महुआ दौसा के स्थान पर डमी कैंडिडेट बनकर सुनील गोदारा आया था. जांच में भूपेंद्र फर्जी पाया गया.

    जालोर का युवक रामलाल है मास्टरमाइंड
    सुनील कुमार गोदारा पढ़ने में काफी होशियार है. वह एलडीसी के पद पर जालोर में है. जांच में सामने आया कि मास्टरमाइंड रामलाल बिश्नोई पुत्र जगमाला निवासी चितलवाना जालोर है. इनके पास से पुलिस को आधार कार्ड व काफी फर्जी कार्ड मिले हैं. इनपर नाम-पते किसी और के हैं. वह खुद आदमी अलग है. रामलाल राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, चितलवाना, जालोर में शरीरिक शिक्षक है. यह पढ़े-लिखे युवकों को लालच देकर उन्हें दूसरे की जगह पर परीक्षा देने भेज देता है. पुलिस रामलाल बिश्नोई की तलाश कर रही है.

    फॉर्म भरते समय ही डमी कैंडिडेट की फोटो
    गैंग के लोग फॉर्म भरते समय डमी कैंडिडेट की फोटो लगा देते हैं. आधार कार्ड पर डिटेल्स कैंडिडेट की होती है. ये आधार कार्ड पर फोटो डमी कैंडिडेट की स्कैन कर लगा देते हैं. फिर उसे लैमिनेट कर देते हैं. ये कैंडिडेट की डिटेल बता देते हैं, जिससे किसी को शक नहीं हो.

    रीट लेवल दो की परीक्षा फर्जी तरीके के दी
    सुनील बिश्नोई 24 अक्टूबर को पहली परीक्षा में भाई ओमप्रकाश के स्थान पर परीक्षा देने वाला था. इसके बाद वह श्रवण कुमार की परीक्षा देने जाने वाला था. जांच में पता लगा कि सुनील बिश्नोई रीट की परीक्षा में 26 सितम्बर को सांगानेर में अरविंद कुमार के स्थान पर फर्जी डमी कैंडिडेट बनकर परीक्षा देने आया था. सुनील के भाई ओमप्रकाश की रीट लेवल दो की परीक्षा महारानी कॉलेज जयपुर में किसी अन्य युवक ने आकर दी थी.

    Tags: Rajasthan news, Rajasthan news in hindi, REET exam

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर