राजस्थान में बारिश से अब तक 22 लोगों की मौत, कई छोटे बांध और सड़कें टूटी

लंबे समय समय तक बेरुखी के बाद प्रदेश पर मेहरबान हुआ मानसून करीब दो दर्जन लोगों पर भारी पड़ गया. बारिशजनित हादसों में प्रदेशभर में अब तक 22 लोग अकाल मौत के शिकार हो गए. ज्यादा बारिश वाले क्षेत्रों में कई बांध टूट गए.

News18 Rajasthan
Updated: July 29, 2019, 2:38 PM IST
राजस्थान में बारिश से अब तक 22 लोगों की मौत, कई छोटे बांध और सड़कें टूटी
कोटा बैराज से की जा रही पानी की निकासी। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
News18 Rajasthan
Updated: July 29, 2019, 2:38 PM IST
लंबे समय समय तक बेरुखी के बाद प्रदेश पर मेहरबान हुआ मानसून करीब दो दर्जन लोगों पर भारी पड़ गया. बारिशजनित हादसों में प्रदेशभर में अब तक 22 लोग अकाल मौत के शिकार हो गए. ज्यादा बारिश वाले क्षेत्रों में कई बांध टूट गए. मौसम विभाग ने पहले प्रदेश में सामान्य से कम बारिश की संभावना जताई थी, लेकिन 24 जुलाई से अब तक सामान्य से 10 फीसदी ज्यादा बारिश हो चुकी है. मौसम विभाग ने प्रदेश में मानसून का यह दौर 31 जुलाई तक सक्रिय रहने की संभावना जताई है.

सबसे ज्यादा सीकर और जयपुर में मारे गए लोग
इस बार मानसून ने प्रदेश में लगभग एक महीने की देरी से पूरी तरह से सक्रिय हुआ. लेकिन जब सक्रिय हुआ लोगों की सांसें फूला दी. राज्य सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार वर्षा जनित हादसों से 22 लोगों की मौत हो गई. इनमें सीकर और जयपुर जिलों में सबसे ज्यादा 6-6 लोग मारे गए हैं. वहीं पाली में 4, झुझुंनू में 3, बूंदी, भीलवाड़ा और जोधपुर में भी एक-एक व्यक्ति वर्षा जनित दुर्घटनाओं में अपनी जान गंवा बैठे हैं. यह आंकड़ा ज्यादा भी हो सकता है.

अभी तक सामान्य से 10 प्रतिशत तक ज्यादा बारिश

प्रदेश में अभी तक सामान्य से 10 प्रतिशत तक ज्यादा बारिश हो चुकी है. इनमें सीकर और झुझुंनू जिलों में तो सामान्य से दोगुनी बारिश हुई है. राजधानी जयपुर के साथ दौसा, सवाई माधोपुर, कोटा, बारां, झालावाड़, डूंगरपुर और बांसवाड़ा में भी सामान्य से ज्यादा बारिश हो चुकी है. बारिश के कारण सीकर, कोटा और बूंदी में बाढ़ के हालात पैदा हो गए थे, जिससे लोगों का काफी नुकसान हुआ है. वहीं भारी बारिश के कारण काफी स्थानों पर सड़के भी क्षतिग्रस्त हो गई.

कई छोटे बांध टूटे, बड़ों में पानी का इंतजार
ज्यादा बारिश वाले क्षेत्रों में छोटे बांध पानी को रोकने में नाकाम रहे. वे पानी का दबाव बढ़ते ही टूट गए. जयपुर के पास चाकसू में एक रात की बारिश से ही रावता समेत तीन बांध टूट गए. बस्सी में भी एक बांध टूट गया. इससे किसानों की खरीफ की फसल बर्बाद हो गई. खेतों में दलदल जमा होने से रबी की फसल की उम्मीद नहीं के बराबर है. दूसरी तरफ बड़े बांध अभी प्यासे हैं. उनमें पानी कम आया है.
Loading...

 

31 जुलाई तक प्रदेश में अच्छी बारिश की संभावना
मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में अभी 2-3 दिन मानसून और मेहरबान रहेगा. पहले मौसम विभाग ने इस दौर में केवल 29 जुलाई तक ही बारिश की सूचना दी थी, लेकिन अब 31 जुलाई तक प्रदेश में अच्छी बारिश की संभावना जताई है. सोमवार को भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ, डूंगरपुर, राजसमंद, सिरोही, उदयपुर, बाड़मेर, जालोर, जोधपुर और पाली में कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है. 30 जुलाई को डूंगरपुर, राजसमंद, सिरोही, उदयपुर, और पाली में एक-दो स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है. 31 जुलाई को बारां और झालावाड़ में भारी बारिश के आसार हैं.

कोटा में भारी बारिश से बाढ़ के हालात, देखें PHOTOS

इलाज से पहले बताना होगा धर्म, मेडिकल कॉलेज ने दिए ये तर्क

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 2:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...