राजस्थान में विकास कार्य अभी भी 'Lock', जानें जयपुर के प्रोजेक्ट्स के हालात

जेडीए आयुक्त गौरव गोयल का कहना है कि योजनाओं के काम में अब जल्द तेजी लाई जाएगी.

Development work Still locked: कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर पर लगभग काबू पाने के बाद अब प्रदेश में धीरे-धीरे सबकुछ अनलॉक (Unlock) होता जा रहा है. लेकिन विकास कार्य अभी भी लॉक हैं. इन्हें खोलने का अभी तक कोई प्लान सामने नहीं आया है.

  • Share this:
जयपुर. कोरोना काल में राजधानी जयपुर (Jaipur) सहित पूरे प्रदेशभर में विकास कार्यों की रफ्तार थम गई है. हालांकि अब कोरोना संकट पर काबू पा लिया गया है, लेकिन अधूरे विकास कार्यों को पूरा करने के लिए जयपुर विकास प्राधिकरण (Jaipur Development Authority) समेत कई विभागों के पास फिलहाल कोई प्लान तैयार नहीं है. जेडीए के करीब एक दर्जन प्रोजेक्ट अभी अधर में है. वे कब तक पूर होंगे इसकी अभी तक कोई नई डेटलाइन तय नहीं की गई है.

कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप कम होने के बाद धीरे धीरे सब कुछ अनलॉक होता जा रहा है. लेकिन विकास कार्य कब अनलॉक होंगे इसका प्लान किसी के पास नहीं है. राजधानी जयपुर में जयपुर विकास प्राधिकरण की जिम्मेदारी है कि वह शहर का समुचित विकास करे. लेकिन बीते काफी समय से कोरोना संक्रमण के कारण इनका पूरा शिड्यूल गड़बड़ाया हुआ है. हालात यह है कि जेडीए के कई प्रोजेक्ट्स पहले से ही सुस्त रफ्तार से चल रहे थे. उसके बाद कोरोना ने 'कोढ़ में खाज' का काम कर दिया. अब ये कब पूरे होंगे कुछ नहीं कहा जा सकता.

जयपुर में ये योजनायें पड़ी हैं अधूरी
- झोटवाडा एलीवेटेड प्रोजेक्ट.
- सोडाला हवा सड़क एलीवेटेड प्रोजेक्ट.
- सिविल लाइंस आरओबी का काम शुरू ही नहीं हो पाया है.
- बस्सी आरओबी का काम भी कछुआ चाल से चल रहा है.
- रामनिवास बाग पार्किंग का काम भी अधूरा है.
- शहर की सड़कों के मरम्मत के काम अधूरे हैं.
- दांतली आरओबी का अभी बाकी है.
- किशन बाग का काम भी अधर में झूल रहा है.
- द्रव्यवती नदी सौंदर्यीकरण योजना अधर में है.
- पृथ्वीराज नगर योजना में भी बिजली पानी से जुड़ी योजनाओं की चाल भी सुस्त पड़ी है.

जेडीसी बोले जल्द करेंगे अधूरे काम शुरू
जेडीए आयुक्त गौरव गोयल का कहना है कि इन योजनाओं के काम में अब तेजी लाई जाएगी. जल्द ही इन योजनाओं को जनता को सौंप दिया जाएगा. लेकिन इन कामों को कब तक पूरा किया जायेगा. जेडीए की इसके लिये क्या प्लानिंग इसका जवाब किसी के पास नहीं है. ऐसे में जब अधूरी परियोजनायें ही पूरी नहीं होंगी तो नई प्लानिंग का क्या होगा ? इसका अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.