लाइव टीवी

Big Action of SOG: सरकारी नौकरी का झांसा देकर ठगने वाले बड़े गिरोह का खुलासा, 3 आरोपी पकड़े

Rakesh sharma | News18 Rajasthan
Updated: November 16, 2019, 3:16 PM IST

स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सरकारी नौकरियों के नाम पर ठगी (Fraud in the name of government jobs) करने वाली बड़ी गैंग का पर्दाफाश (Revealing) किया है. गिरोह का मास्टर माइंड किशनगढ़-रेनवाल नगरपालिका का पूर्व चेयरमैन हरिप्रकाश तोतला (Hariprakash Totla, former chairman of Kishangarh-Renwal Municipality) है.

  • Share this:
जयपुर. स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सरकारी नौकरियों के नाम पर ठगी (Fraud in the name of government jobs) करने वाली बड़ी गैंग का पर्दाफाश (Revealing) किया है. एसओजी ने ठग गिरोह के मास्टर माइंड किशनगढ़-रेनवाल नगरपालिका का पूर्व चेयरमैन हरिप्रकाश तोतला (Hariprakash Totla, former chairman of Kishangarh-Renwal Municipality) समेत 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. एसओजी पूरे मामले की गहनता से पड़ताल (Investigation) में जुटी हुई है.

नगरपालिका का पूर्व चेयरमैन हरिप्रकाश तोतला है मास्टर माइंड
जानकारी के अनुसार पकड़ा गया गिरोह जयपुर ग्रामीण इलाके के बेरोजगारों को नौकरी का झांसा देकर उनसे ठगी कर रहा था. गैंग बेरोजगार युवकों से लाखों रुपए की ठगी कर चुका है. यह गैंग विद्युत निगम समेत विभिन्न विभागों में हेल्पर और एलडीसी सहित अन्य भर्तियों के नाम पर नौकरी का झांसा देकर वसूली करता था. इस गैंग का मास्टर माइंड किशनगढ़-रेनवाल नगरपालिका का पूर्व चेयरमैन हरिप्रकाश तोतला है. एसओजी ने सरगना हरिप्रकाश तोतला के साथ ही उसके साथी रामनारायण जीतरवाल और आशीष कुमार गोरा को गिरफ्तार कर लिया है.

जयपुर ग्रामीण इलाके में थे सक्रिय

इस गैंग के लोग जयपुर जिले के रेनवाल, जोबनेर, फुलेरा और कालाडेरा इलाके में सक्रिय रहते हैं. यह गिरोह बरसों से जेवीवीएनएल में हेल्पर, महिला सुपरवाइजर, सैकेंड ग्रेड टीचर, राजस्थान पुलिस और पशुधन सहायक जैसे पदों पर नौकरी के लिए ग्रामीण इलाके के बेरोजगारों को फंसाते हैं. बेरोजगारों को फंसाने के लिए गिरोह का सरगना हरिप्रकाश तोतला और उसके गुर्गे उन्हें सोशल मीडिया पर बड़े-बड़े नेताओं और अधिकारियों के साथ अपने फोटो दिखाते हैं. उसके बाद उन्हें इस बात का विश्वास दिलाते हैं कि वे अपने रसूखात से नौकरी दिला देंगे.

पोस्टडेटड चैक भी देते हैं
गिरोह के लोगों की पहली शर्त होती है कि नौकरी के लिए लाखों रुपए लगेंगे. अगर नौकरी नहीं लग पाई तो रुपये लौटा दिए जाएंगे. इसके लिए वे बेरोजगारों को पोस्टडेटड चैक भी देते हैं. इसके साथ ही बेरोजगारों से उनकी परीक्षाओं के प्रवेश-पत्र की कॉपी भी मंगवा लेते हैं.निकाय चुनाव: अलवर के भिवाड़ी में हरियाणा के बदमाशों की 'एंट्री', 4 गिरफ्तार

पूर्व PM इंदिरा गांधी के नाम पर अशोक गहलोत सरकार लाएगी 8 बड़ी योजनाएं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 16, 2019, 3:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर