अपना शहर चुनें

States

RSS की शाखा में जाने वाले कर्मचारियों का ब्यौरा जुटा रही सरकार, मंत्री ने रघु शर्मा ने यूं ठहराया सही

ऐसे सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों की जानकारी जुटाई जा रही है जो RSS की शाखा में भाग लेते हैं. (Getty Images)
ऐसे सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों की जानकारी जुटाई जा रही है जो RSS की शाखा में भाग लेते हैं. (Getty Images)

राजस्थान के सियासी गलियारों में अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Govt) के उस आदेश की चर्चा हो रही है जिसके बाद ऐसे सरकारी कर्मचारियों (Govt Employees) और अधिकारियों की जानकारी जुटाई जा रही है जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) की शाखा में भाग लेते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 6, 2019, 1:35 PM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Govt) ऐसे सरकारी कर्मचारियों (Govt Employees) और अधिकारियों की जानकारी जुटा रही है जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) की शाखा में भाग लेते हैं. इस संबंध में सरकार की ओर से जारी निर्देशों के बाद जिला कलेक्टरों ने अब सभी विभागों को सर्कुलर जारी कर ऐसे कर्मचारियों के बारे में जानकारी मांगी है. इस मसले पर जब  सूचना और जनसंपर्क मंत्री डॉ. रघु शर्मा से बात की गई तो उन्होंने इसे सही ठहराने की कोशिश करते हुए कहा कि विधानसभा में एक विधायक के पूछे गए सवाल के बाद ऐसी जानकारी की मांगे जाने की आवश्यकता है.

उधर, अजमेर जिला प्रशासन की ओर से जिले के ऐसे सरकारी कर्मचारियों की संख्या का पता लगाने की कवायद शुरू कर दी है जो राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की शाखाओं (RSS Shakhas) में जाते हैं. प्रशासन की इस पहल पर बीजेपी के स्थानीय विधायक और पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. उन्होंने आरोप लगाया कि यह सरकारी कर्मचारियों में डर का माहौल पैदा की कोशिश है.

अघोषित आपातकाल लगाने की कोशिश
पूर्व मंत्री देवनानी ने कहा कि राज्य सरकार कर्मचारियों पर अघोषित आपातकाल लगाने की कोशिश कर रही है. उन्होंने सरकार से सवाल पूछा कि जब सामाजिक संगठन में शामिल होने पर कोई प्रतिबंध नहीं है, तो इस तरह की स्व घोषणा क्यों मांगी जा रही है? उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार पक्षपाती तरीके से काम कर रही है और पूर्व में किसी कर्मचारी से किसी अन्य सामाजिक संगठन से संबद्धता के बारे में इस तरह की कोई घोषणा नहीं मांगी गई थी. हम इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे.





ये है पूरा मामला
गंगापुर (सवाईमाधोपुर) के निर्दलीय विधायक रामकेश ने 27 जून से 5 अगस्त तक चले विधानसभा के दूसरे सत्र के दौरान तारांकित प्रश्न के जरिए यह सवाल उठाया था. रामकेश ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की शाखाओं और राज्य में ऐसे सरकारी कर्मचारियों की सूची के बारे में जानकारी मांगी जो शाखा में जाते हैं. उनका कहना है कि सरकारी कर्मचारियों को इस तरह की किसी भी गतिविधि में शामिल नहीं होना चाहिए और इसी वजह से उन्होंने विधानसभा में ये सवाल उठाया था.

ये भी पढ़ें-
पटवार परीक्षा की तिथि, माह और स्थान, पढ़ें-पूरी खबर
दलित किशोरी का Video बनाकर कई बार किया था गैंगरेप, 4 युवक हिरासत में
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज