Home /News /rajasthan /

प्रदेश में जारी है हड़ताल, कार्य बहिष्कार, धरना प्रदर्शन और चेतावनी देने का सिलसिला

प्रदेश में जारी है हड़ताल, कार्य बहिष्कार, धरना प्रदर्शन और चेतावनी देने का सिलसिला

जयपुर प्रदर्शन करते कर्मचारी।

जयपुर प्रदर्शन करते कर्मचारी।

प्रदेशभर में कर्मचारियों का राज्य सरकार के प्रति गुस्सा कम होने का नाम नहीं ले रहा है. अपनी अपनी मांगों को लेकर हड़ताल और धरना प्रदर्शन कर रहे कर्मचारी संगठनों में रोजाना इजाफा हो रहा है.

    प्रदेशभर में कर्मचारियों का राज्य सरकार के प्रति गुस्सा कम होने का नाम नहीं ले रहा है. अपनी अपनी मांगों को लेकर हड़ताल और धरना प्रदर्शन कर रहे कर्मचारी संगठनों में रोजाना इजाफा हो रहा है. शुक्रवार को इस कड़ी में प्रदेशभर में करीब चार अधिकारियों ने सामूहिक अवकाश लेकर अपना विरोध जताया, वहीं कुछ और संगठनों ने सरकार को कार्य बहिष्कार व हड़ताल का अल्टीमेटम दिया है.

    अपनी सात सूत्री मांगों लेकर प्रदेशभर में राज्य की अन्य प्रशासनिक सेवाओं (आरएएस, आरपीएस और लेखा सेवा को छोड़कर) के अधिकारी शुक्रवार को सामूहिक अवकाश पर रहे. अधिकारी अपनी पदोन्नति और वेतन विसंगति संबंधी मांगों को लेकर आक्रोशित हैं. शुक्रवार को 17 सेवाओं के करीब चार हजार अधिकारियों ने सामूहिक अवकाश पर रहकर सरकार का ध्यान आकर्षित किया.

    अनिश्चितकालीन सामूहिक अवकाश पर जाने की चेतावनी
    उधर राजस्व विभाग के करीब 12 हजार अधिकारी-कर्मचारी भी शुक्रवार को सामूहिक अवकाश पर रहे. सरकार के साथ हुए लिखित समझौते की पालना नहीं होने से आक्रोशित तहसीलदार, नायब तहसीलदार, गिरदावर और पटवारियों ने सामूहिक अवकाश पर रहकर अपना विरोध दर्ज करवाया. राजस्थान राजस्व सेवा परिषद् ने राज्य सरकार को दो दिन का अल्टीमेटम दिया है और मांग नहीं माने जाने पर सोमवार से अनिश्चितकालीन सामूहिक अवकाश पर जाने की चेतावनी दी है.

    महापड़ाव नवें दिन भी रहा जारी
    वहीं मंत्रालयिक कर्मचारियों का जयपुर में महापड़ाव शुक्रवार को नवें दिन भी जारी रहा तो पंचायतीराज अधिकारियों-कर्मचारियों का सामूहिक अवकाश भी 12 सितंबर से लगातार जारी है.

    Tags: Jaipur news, Rajasthan news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर