होम /न्यूज /राजस्थान /विधानसभा चुनाव से पूर्व छात्रसंघ चुनाव परिणाम बताएंगे युवाओं का रुझान

विधानसभा चुनाव से पूर्व छात्रसंघ चुनाव परिणाम बताएंगे युवाओं का रुझान

फाइल फोटो।

फाइल फोटो।

प्रदेश में इस माह की आखिर में होने वाले छात्रसंघ चुनाव काफी अहम हैं. ये चुनाव इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुना ...अधिक पढ़ें

    प्रदेश में इस माह की आखिर में होने वाले छात्रसंघ चुनाव काफी अहम हैं. ये चुनाव इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए युवाओं के मूड को दर्शाने वाले साबित होंगे. छात्र राजनीति के जरिए वास्तविक राजनीति के लिए जमीन को तैयार करने वाले इन चुनावों पर दोनों प्रमुख राजनैतिक पार्टियों की नजरें भी टिकी हैं. खासकर राजधानी स्थित राजस्थान विश्वविद्यालय और जोधपुर विश्वविद्यालय पर.

    राजस्थान विश्वविद्यालय प्रदेशभर के युवाओं का प्रतिनिधित्व करता है. वहीं जोधपुर विश्वविद्यालय भले ही मारवाड़ का प्रतिनिधित्व करता हो, लेकिन यह विश्वविद्यालय भी प्रदेश के सबसे बड़े संभाग के युवाओं के मूड को काफी हद तक स्पष्ट कर देता है. ये दोनों विश्वविद्यालय ऐसे हैं जहां के छात्रसंघ अध्यक्ष आगे चलकर सक्रिय राजनीति में अपनी अहम भूमिका अदा करते हैं.

    राजस्थान विश्वविद्यालय से निकले ये नेता

    राजस्थान विश्वविद्यालय की अगर बात करें तो इसने प्रदेश को कई कद्दावर नेता दिए हैं. इस विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव को फतह कर निकले तीन पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष वर्तमान राज्य सरकार में मंत्री हैं. इनमें पंचायतराज मंत्री राजेन्द्र राठौड़, चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ और उद्योग मंत्री राजपाल सिंह शेखावत शामिल हैं. वहीं अशोक लाहोटी अभी जयपुर नगर निगम के मेयर हैं.


    कांग्रेस खेमे में भी हैं कई पूर्व अध्यक्ष
    कांग्रेस खेमे के कई पूर्व छात्र संघ अध्यक्षों ने भी अपना एक अलग मुकाम बनाया है. इनमें गहलोत सरकार में डॉ. राजकुमार शर्मा चिकित्सा मंत्री और रघु शर्मा राजस्थान विधानसभा के मुख्य सचेतक रह चुके हैं. डॉ. राजकुमार अभी नवलगढ़ से विधायक हैं तो रघु शर्मा अजमेर से सांसद. विश्वविद्यालय से निकले पूर्व छात्रसंघ हनुमान बेनीवाल, महेन्द्र चौधरी, प्रताप सिंह खाचरियावास, रणवीर गुढा भले ही विभिन्न पार्टियों से रहे हो, लेकिन ये राजस्थान विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनावों के जरिए विधानसभा तक पहुंचे हैं. राजस्थान विश्वविद्यालय के छात्रसंघ महासचिव रहे रामलाल भी भाजपा से विधानसभा सदस्य हैं. इन सभी ने अपनी एक अलग राजनीतिक पहचान बनाई है.

    जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय जोधपुर
    पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जोधपुर में छात्र राजनीति में सक्रिय रहे हैं. वे दो बार प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. वहीं जेएनवीयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष गजेन्द्र सिंह शेखावत अभी केन्द्र में मंत्री हैं. पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष बाबू सिंह राठौड़ और जालम सिंह रावलोत भी विधानसभा की चौखट पार कर चुके हैं.

    Tags: Jaipur news, News 18 Hindi Special, Rajasthan news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें