बोले मंत्री सराफ, स्वाइन फ्लू की दवा और जांच की सुविधा में कोई कमी नहीं

News18Hindi
Updated: September 13, 2017, 6:34 PM IST
बोले मंत्री सराफ, स्वाइन फ्लू की दवा और जांच की सुविधा में कोई कमी नहीं
फाइल फोटो.
News18Hindi
Updated: September 13, 2017, 6:34 PM IST
राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ ने स्वास्थ्य अधिकारियों को स्वाइनफ्लू की पर्याप्त जांच सुविधा के साथ ही दवाइयों की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने एसएमएस हास्पिटल में स्वाइनफ्लू के लिए अलग से काउंटर स्थापित करने और बच्चों के उपचार के लिए सीरप की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए.

मंत्री सराफ बुधवार को दोपहर राज्य स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण संस्थान में स्वाइन फ्लू की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे. बैठक में बताया गया कि प्रदेश में स्वाइनफ्लू के उपचार के लिए आवश्यक दवाइयां व जांच के लिए आवश्यक सामग्री पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं. इसके साथ ही स्वाइनफ्लू रोगियों के संपर्क में आने वाले चिकित्सा कर्मियों को लगाने के लिए वेक्सीन की भी समुचित व्यवस्था है.

मंत्री सराफ ने प्रदेश के सभी राजकीय चिकित्सा संस्थानों में स्वाइन फ्लू की दवा की उपलब्धता की विस्तार से समीक्षा की. उन्होंने दवा विक्रेताओं के पास भी पर्याप्त मात्रा में स्वाइन फ्लू दवा की नियमित आपूर्ति पर नजर रखने के निर्देश दिए. ड्रग कंट्रोलर अजय फाटक ने बताया कि दवा विक्रेता के पास स्वाइनफ्लू दवा पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है.

राजस्थान मेडिकल सर्विसेज कॉरपोरेशन के एम.डी. महावीर प्रसाद शर्मा ने बताया कि इस समय 75 एमजी के 5 लाख एवं बच्चों के लिए 30 एमजी के 4 लाख ऑसेल्टामिविर कैप्सूल उपलब्ध हैं. साथ ही बच्चों के उपचार के लिए 15 हजार सीरप भी उपलब्ध हैं.

चिकित्सा मंत्री ने विशेषज्ञ चिकित्सकों से विचार विमर्श के बाद बताया कि स्वाइन फ्लू का वायरस हर दो तीन वर्ष बाद अपना स्ट्रेन बदलता है. उन्होंने कहा कि स्वाइन फ्लू के मिशिगन वायरस से डरने की जरूरत नहीं है बल्कि लक्षण प्रतीत होते ही उपचार कि जरूरत है.

एसएमएस के प्रोफेसर डॉ. सी.एल. नवल ने बताया कि स्वाइन फ्लू का केलिफोर्निया स्ट्रेन की तुलना में इस वर्ष मिशिगन वायरस चिन्हि्त हुआ है. उन्होंने स्पष्ट किया कि स्वाइन फ्लू के मिशिगन वायरस के उपचार में भी वहीं दवा कारगर है, जो कैलिफोर्निया स्ट्रेन में कारगर थी.
First published: September 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर