टॉक जर्नलिज़्म: एक मंच पर जुटे देश-दुनिया के पत्रकार और लेखक, खुलकर हुई चर्चा
Jaipur News in Hindi

टॉक जर्नलिज़्म: एक मंच पर जुटे देश-दुनिया के पत्रकार और लेखक, खुलकर हुई चर्चा
टॉक जर्नलिज़्म में कांग्रेस सांसद शशि थरूर, जाने माने स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट अयाज मेनन, करण थापर, लेखक अयोध्या प्रसाद समेत कई वरिष्ठ पत्रकारों ने खुलकर चर्चा की। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

पत्रकारिता (Journalism) की अलग-अलग विधाओं और वर्तमान में पत्रकारिता की दशा और दिशा (Condition and direction) पर चर्चा करने के लिए शुक्रवार को जयपुर में देश व दुनिया से आए पत्रकार (Journalist) , लेखक (Author) , चिंतक (Thinker) और यूट्यबर्स (Youtubers) एक मंच पर इकठ्ठा हुए. मौका था टॉक जर्नलिज़्म (Talk journalism) के छठे संस्करण का.

  • Share this:
जयपुर. पत्रकारिता (Journalism) की अलग-अलग विधाओं और वर्तमान में पत्रकारिता की दशा और दिशा (Condition and direction) पर चर्चा करने के लिए शुक्रवार को जयपुर में देश व दुनिया से आए पत्रकार (Journalist) , लेखक (Author) , चिंतक (Thinker) और यूट्यबर्स (Youtubers) एक मंच पर इकठ्ठा हुए. मौका था टॉक जर्नलिज़्म (Talk journalism) के छठे संस्करण का. दिल्ली रोड़ स्थित फेयरमोंट होटल में आयोजित हो रहे इस तीन दिवसीय टॉक जर्नलिज्म कार्यक्रम में आज कई महत्वपूर्ण विषयों (Important topics) पर कई सत्र आयोजित हुए.

पत्रकारिता की दशा पर खुलकर हुई बात
इनमें कांग्रेस सांसद शशि थरूर (Shashi Tharoor), जाने माने स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट अयाज मेनन, लेखक अयोध्या प्रसाद, न्यूज18 राजस्थान के सीनियर एडिडर श्रीपाल शक्तावत और जाने माने यूट्यूबर्स सत्या सागर सहित कई दिग्गजों के सेशन हुए. इनमें अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, मीडिया की आजादी, सोशल जर्नलिज़्म सहित पत्रकारिता की अलग-अलग विधाओं और वर्तमान समय में उनकी चुनौतियों पर चर्चा की गई. शुक्रवार को आयोजित हुए विभिन्न सत्रों में स्पीकर्स ने पत्रकारिता की दशा पर खुलकर बात की.

वर्तमान में असहमति के लिए कोई जगह नहीं है
टॉक जर्नलिज्म में 'Shrinking Space for Dissent' विषय पर आयोजित पहले सत्र में सांसद शशि थरूर ने कहा वर्तमान में असहमति के लिए कोई जगह नहीं है. इस सेशन में करन थापर ने थरूर से खुलकर चर्चा की. दूसरा सत्र 'Is sports journalism more placed than political journalism' पर आयोजित हुआ. इस सत्र में अयाज मेनन, मिहिर वसवदा, नवनीत मुंद्रा और शारदा उरजा चर्चा में भाग लिया. तीसरे सेशन में 'The Vulture's Feast' किताब पर अविनाश कल्ला ने अयोध्या प्रसाद और रोशनी राजाराम से चर्चा की.



Talk journalism in jaipur- टॉक जर्नलिज़्म
न्यूज़18 राजस्थान के सीनियर एडिटर श्रीपाल शक्तावत ने कहा कि अब मीडिया में कई बदलाव आए हैं. फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।


आज न्यूज़रूम में जातिवाद नहीं दिखता
टॉक जर्नलिज्म में चौथा सत्र 'Cast in newsroom' पर हुआ. इसमें न्यूज़18 राजस्थान के सीनियर एडिटर श्रीपाल शक्तावत ने कहा कि अब मीडिया में कई बदलाव आए हैं. आज न्यूज़रूम में जातिवाद नहीं दिखता. आज दलित, अल्पसंख्यक सब खुश नजर आते हैं. यह बात सही है कि पहले एक जाति ही मीडिया में थी, लेकिन शायद इसका कारण यह था कि पहले एक जाति विशेष के लोग ही पढ़ाई करते थे. शक्तावत ने कहा कि उनकी हमेशा कोशिश रही है कि हर समुदाय और जाति के जर्नलिस्ट उनसे जुड़ें. क्योंकि इससे दर्शक को लगता है कि हमारा प्रतिनिधित्व करने वाला कोई है. इस सत्र में शिवम विज और तेजस हरड़ भी पैनल में शामिल रहे.

तीन दिन तक चलेगा आयोजन
टॉक जर्नलिज़्म के आयोजक अविनाश कल्ला ने बताया कि तीन दिवसीय इस कार्यक्रम में आगामी दो दिनों में कई स्पीकर्स के सत्र होंगे. इनमें वर्तमान समय में कई ज्वलंत बिन्दुओं, युवा पत्रकारों के लिए पॉलटिकल, स्पोर्ट्स और सोशल रिपोर्टिंग के सत्रों का भी आयोजन किया जाएगा.

आगामी दो दिन में आयोजित होने वाले महत्वपूर्ण सत्र
- इज सीरियस जर्नलिज़्म वाइबल ऑनलाइन- आकाश बनर्जी, जयराज सिंह
- ट्विटर वर्कशॉप- अर्मिता त्रिपाठी
- फेसबुक प्रजेंटेशन ऑन फेक न्यूज- तुषार बरोट
- राइटिंग ऑन सावरकर- आनंद रंगनाथन और विक्रम सम्पत
- इंस्टाग्राम वर्कशॉप- तिथि शर्मा
- लाइफ ऑफ फोटो जर्नलिस्ट- गौरव हज़ेला, पुरुषोत्तम दिवकार और सुमन सरकार
- एनआरसी और स्टेटलैसनेस- अरिजित सैन, प्रवीण धोनती, रोहिनी मोहन
- डेटलाइन कश्मीर- राजेश रैना, प्रफुल्ल केटकर

निकाय-पंचायत चुनाव: कांग्रेस कर रही कार्यकर्ताओं को 'बूस्ट अप', ये है एजेंडा

खुशखबरी- राजनीतिक नियुक्तियों की राह खुली, मंत्रियों से मांगे नाम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज