किसान आंदोलन: कर्ज माफी पर अटकी सरकार-किसान वार्ता, जारी रहेगा चक्का जाम!

Dinesh Sharma | ETV Rajasthan
Updated: September 13, 2017, 6:33 PM IST
किसान आंदोलन: कर्ज माफी पर अटकी सरकार-किसान वार्ता, जारी रहेगा चक्का जाम!
हालांकि किसान नेताओं ने एंबुलेंस और बीमार व्यक्तियों को रास्तों से आने-जाने के लिए इस जाम में छूट दी गई. बाकी सब वाहनों के लिए रास्ते बंद रखे गए.
Dinesh Sharma | ETV Rajasthan
Updated: September 13, 2017, 6:33 PM IST
राजस्थान में कर्ज माफी समेत 11 सूत्री मांगों को लेकर तीन दिन से चक्का जाम करने वाले किसानों की सरकार के साथ वार्ता अभी किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है.

किसान प्रतिनिधि मंडल और सरकार के मंत्री समूह के बीच पंत कृषि भवन में दूसरे दौर की इस वार्ता में कर्ज माफी को लेकर अभी तक बात नहीं बनी. दोपहर एक बजे बाद शुरू हुई इस वार्ता में किसानों की अधिकांश मांगों पर प्रारम्भिक सहमति बनती नजर आई लेकिन कर्जा माफी की मांग पर गतिरोध जारी रहा. शाम को फिर से वार्ता में सरकार और किसानों के बीच वार्ता के अगले दौर में इस मसले पर बात बनने की आसार है. हालांकि इस बीच किसानों ने गुरुवार से आंदोलन और तेज करने की चेतावनी भी दे डाली है.

यह भी पढ़ें- सीकर के किसान आंदोलन की लपटें बीकानेर पहुंचीं, देखें- आक्रोश की तस्वीरें

बता दें कि मंगलवार को सरकार और किसानों के बीच तीन घंटे तक वार्ता का दौर चला था. सरकार ने कर्जा माफी की मांग पर वित्तीय आंकलन करवाने की बात कही थी जिससे किसान असहमत थे. इसके बाद दूसरे दौर की वार्ता बधुवार को की गई. इस वार्ता में कृषि मंत्री डॉ. प्रभुलाल सैनी भी शामिल हुए. उनके नेतृत्व में मंत्री समूह और किसान प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों में वार्ता हुई.

किसानों की कर्जा माफी की मांग बरकरार है. उन्हें कर्जा माफी से कम कुछ भी मंजूर नहीं है. मांग माने जाने तक चक्काजाम जारी रहेगा.
पेमाराम, किसान नेता


Farmers Agitation

(फोटो- सरकार के साथ वार्ता)

पंत कृषि भवन स्थित कृषि मंत्री डॉ.प्रभुलाल सैनी के चैंबर में हुई इस वार्ता में मंत्री समूह और किसानों के प्रतिनिधि मंडल के साथ कृषि विभाग के आलाधिकारी भी मौजूद रहे. मंत्री समूह से 11 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल की वार्ता हुई. कृषि मंत्री डॉ.प्रभुलाल सैनी, जल संसाधन मंत्री डॉ.रामप्रताप, सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी की मौजूदगी में किसान कर्जा माफी की मांग पर अड़े रहे.

पतं कृषि भवन में किसान नेताओं के साथ वार्ता करके किसानों के हितों के अनुकूल सकारात्मक परिणाम निकालने का प्रयास किया.
अशोक परनामी, प्रदेशाध्यक्ष, बीजेपी
First published: September 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर