टैक्सी ड्राइवर ने 20 लाख लोगों को झांसा देकर 14,800 करोड़ रुपये डकारे, SOG ने पेश की चार्जशीट

News18 Rajasthan
Updated: September 11, 2019, 1:35 PM IST
टैक्सी ड्राइवर ने 20 लाख लोगों को झांसा देकर 14,800 करोड़ रुपये डकारे, SOG ने पेश की चार्जशीट
राजस्थान में कोऑपरेटिव सोसायटी से जुड़े एक बड़े घोटाले में विशेष अभियान दल (एसओजी) ने चार्जशीट पेश किया है.

आदर्श क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटी (Adarsh Credit Co-Operative Society) घोटाले में विशेष अभियान दल (एसओजी) ने 40 हजार पन्नों की चार्जशीट पेश की है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में कोऑपरेटिव सोसायटी (Co-operative Society) से जुड़े एक बड़े घोटाले (Big Scam) में विशेष अभियान दल (SOG) ने चार्जशीट (Chargesheet) पेश किया है. आदर्श क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटी (Adarsh Credit Co-Operative Society) घोटाले में विशेष अभियान दल (एसओजी) ने 40 हजार पन्नों की चार्जशीट पेश की है.

देश के सबसे बड़े आदर्श घोटाले में पेश किए गए चार्जशीट में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं. भास्कर में छपी खबर के अनुसार सिराेही शहर के वीरेंद्र मोदी (वीरू मोदी) ने अपने भाई मुकेश और भरत के साथ देश के 28 राज्यों में आदर्श सोसाइटी की 806 शाखाएं खोलीं. बता दें कि वीरू मोदी कभी टैक्सी ड्राइवर और कैसेट रिकॉर्डिंग का काम करते थे. इस सोसायटी में वीरू मोदी, मुकेश और भरत के परिवार के 11 लोगों समेत नौकर और ड्राइवर तक को डायरेक्टर बना दिया गया.

Adarsh Credit Cooperative Society Scam-आदर्श क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटी
आदर्श क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटी घोटाले में एसओजी ने चार्जशीट पेश की है.


दिसंबर 2018 में वीरू व अन्य के खिलाफ दर्ज हुआ था केस

एसओजी को वर्ष 2018 की जुलाई माह में इस सोसायटी के बारे में शिकायत मिली. 6 महीने की जांच में पता लगा कि सोसायटी ने देश के 20 लाख निवेशकों से 806 शाखाओं में रुपए जमा कराए. इन शाखाओं के जरिये सोसायटी ने करीब 14,800 करोड़ हड़प लिए. वर्ष 2018 के दिसंबर महीने में वीरू मोदी सहित अन्य के खिलाफ केस दर्ज हुआ.

धन दोगुना करने के नाम पर 20 लाख लोगों को ठगा

इस सोसायटी से जुड़े लोग धन दोगुना करने जैसे झांसे देकर लोगों से पैसे ठगती रहे. आदर्श सोसायटी ने करीब 20 लाख लोगों से ठगी ​की और करीब 14,800 करोड़ रुपए डकार लिए. इस सोसायटी ने निवेशकों के 12,414 करोड़ रुपये रिश्तेदारों और नौकरों की सैकड़ों फर्जी कंपनियों में बांटे. एसओजी ने 6 महीने की जांच के बाद मोदी परिवार के 11 के अलावा अन्य 3 लोगों को गिरफ्तार किया.
Loading...

वर्ष 1999 में खोली थी पहली शाखा

वीरेंद्र और मुकेश ने सिरोही में वर्ष 1999 में पहली शाखा खोली थी. इसके बाद 4 साल के अंदर राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में 309 शाखाएं खोलीं. मोदी बंधुओं ने 2012 तक 806 शाखाएं खोल लीं. इस सोसायटी ने नोटबंदी के दौरान 223 करोड़ रुपये की करेंसी बदलने का काम किया.

एसओजी ने चार्जशीट में दिया ये तर्क

एसओजी ने चार्जशीट में तर्क दिया है कि मोदी बंधुओं ने इटली के ठग चार्ल्स पाेंजी की तरह ठगी को अंजाम दिया है. चार्जशीट में इस बात का भी जिक्र है कि चार्ल्स पोंजी ने 1920 के दशक में उत्तर अमेरिका और कनाडा में फर्जी कंपनियां खोलकर 20 मिलियन डॉलर का घोटाला किया था. वीरेंद्र, मुकेश, भरत और राहुल समेत उनके परिवार के लोगों ने इसी तरह सोसायटी खोलकर इतने बड़े घोटाले को अंजाम दिया.

यह भी पढ़ें: कुख्यात तस्कर ने चप्पल में छिपाई थी एक करोड़ की ब्राउन शुगर, हुआ गिरफ्तार

अनचाहे फोन कॉल्स से परेशान होकर कॉलेज की छात्रा ने लगा ली फांसी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 12:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...