Home /News /rajasthan /

शहर की साफ-सफाई में फेल नजर आया विशेष स्वच्छता अभियान

शहर की साफ-सफाई में फेल नजर आया विशेष स्वच्छता अभियान

देश के शहरों को स्वच्छ बनाने के लिए राजस्थान सरकार द्वारा प्रदेश के सभी शहरी निकायों में 9 मार्च से 27 मार्च तक विशेष स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के दौरान शहरी क्षेत्रों की सड़कों, पार्कों, अस्पतालों और स्कूलों सहित अन्य स्थानों पर पड़े पुराने कचरे और मलबे को एक अभियान के तहत साफ किया जा रहा है, लेकिन प्रदेश की राजधानी जयपुर सहित अन्य बड़े शहरों में अभी भी कचरे के ढेर लगे दिखाई पड़ते दिख रहे हैं।

देश के शहरों को स्वच्छ बनाने के लिए राजस्थान सरकार द्वारा प्रदेश के सभी शहरी निकायों में 9 मार्च से 27 मार्च तक विशेष स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के दौरान शहरी क्षेत्रों की सड़कों, पार्कों, अस्पतालों और स्कूलों सहित अन्य स्थानों पर पड़े पुराने कचरे और मलबे को एक अभियान के तहत साफ किया जा रहा है, लेकिन प्रदेश की राजधानी जयपुर सहित अन्य बड़े शहरों में अभी भी कचरे के ढेर लगे दिखाई पड़ते दिख रहे हैं।

देश के शहरों को स्वच्छ बनाने के लिए राजस्थान सरकार द्वारा प्रदेश के सभी शहरी निकायों में 9 मार्च से 27 मार्च तक विशेष स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के दौरान शहरी क्षेत्रों की सड़कों, पार्कों, अस्पतालों और स्कूलों सहित अन्य स्थानों पर पड़े पुराने कचरे और मलबे को एक अभियान के तहत साफ किया जा रहा है, लेकिन प्रदेश की राजधानी जयपुर सहित अन्य बड़े शहरों में अभी भी कचरे के ढेर लगे दिखाई पड़ते दिख रहे हैं।

अधिक पढ़ें ...
    देश के शहरों को स्वच्छ बनाने के लिए राजस्थान सरकार द्वारा प्रदेश के सभी शहरी निकायों में 9 मार्च से 27 मार्च तक विशेष स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के दौरान शहरी क्षेत्रों की सड़कों, पार्कों, अस्पतालों और स्कूलों सहित अन्य स्थानों पर पड़े पुराने कचरे और मलबे को एक अभियान के तहत साफ किया जा रहा है, लेकिन प्रदेश की राजधानी जयपुर सहित अन्य बड़े शहरों में अभी भी कचरे के ढेर लगे दिखाई पड़ते दिख रहे हैं।

    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 से आगामी पांच वर्षों में भारत को साफ-सुथरा बनाने के लिए स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत की थी, जिसके बाद राज्य सरकार ने भी स्वच्छता सप्ताह और अब विशेष स्वच्छता अभियान चला कर स्वच्छ भारत मिशन के तहत सफाई कराई जा रही है। प्रदेश की राजधानी जयपुर में भी निगम ने 12 टीमें बनाकर विशेष स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत शहर में खाली भूखंडों में पड़े कचरे व मलबे को हटाया जा रहा है। शहर के सभी अस्पतालों, सरकारी स्कूलों और पार्कों की योजनाबद्ध तरीके से सफाई की जा रही है।

    अभी भी राजधानी का 20 प्रतिशत से अधिक हिस्सा कचरे और गंदगी से ढेर से जूझ रहा है। कहीं तो आलम यह है कि लोगों को अपने घरो से नाक बंद करके निकलना पड़ रहा है। वहीं, शहर की सड़कों पर घूमते आवारा पशु और जगह-जगह टूटे नाले नालियां भी दुर्घटनाओं को खुलेआम न्यौता दे रहे हैं। इसके साथ ही परकोटे के अधिकतर क्षेत्र में कचरे की वजह से सीवर जाम की समस्या से भी लोगों को आए दिन दो-चार होना पड़ता है।

    आठ हजार सफाई कर्मी, फिर भी साफ सफाई नहीं

    निगम के आठ हजार सफाई कर्मचारियों का अमला इस मामले में फेल होता नजर आता है और जगह -जगह कचरे के ढेर नजर आते हैं। हालांकि निगम महापौर निर्मल नाहटा का इस मामले में कहना है कि बीते चार माह में स्थिति में सुधार हुआ है। डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण योजना के शुरूआत होने के बाद इस स्थिति में आश्चर्यजनक रूप से सुधार होगा, लेकिन अभी तक कचरे और गंदगी से शहर को निजात नहीं मिलती दिखाई दे रही है।

    आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर