SMS मेडिकल कॉलेज की छात्रा को समझ नहीं आई पढ़ाई तो काटा खुद का गला, बची जान

जयपुर एसएमएस अस्पताल के नर्सिंग के प्रथम वर्ष की छात्रा को पढ़ाई समझ नहीं आने के कारण खुदा का गला काटकर आत्हत्या करने की कोशिश की.
जयपुर एसएमएस अस्पताल के नर्सिंग के प्रथम वर्ष की छात्रा को पढ़ाई समझ नहीं आने के कारण खुदा का गला काटकर आत्हत्या करने की कोशिश की.

जयपुर एसएमएस अस्पताल (SMS Hospital) के नर्सिंग (Nursing Student) के प्रथम वर्ष की छात्रा ने पढ़ाई समझ नहीं आने के कारण खुदा का गला काटकर आत्महत्या करने की कोशिश की. डॉक्टरों की टीम ने छात्रा की बहुत मशक्कत से जान बचाई.

  • Share this:
जयपुर. जयपुर एसएमएस अस्पताल (SMS Hospital) के नर्सिंग (Nursing Student) के प्रथम वर्ष की छात्रा को पढ़ाई समझ नहीं आई तो उसने खुद का गला काटकर आत्महत्या (Suicide) करने की कोशिश की. छात्रा बहुत ही गरीब घर से है. छात्रा ने खेतड़ी में आकर सुनसान जगह पर गला काट कर आत्महत्या करने की कोशिश की. खेतड़ी नगर पालिका ईओ उदय सिंह और हेमंत वर्मा ने छात्रा को राजकीय अजीत अस्पताल पहुंचाया, जहां पर सर्जन रणजीत सिंह जाखड़ व अन्य डॉक्टरों की टीम ने बहुत मशक्कत से छात्रा की जान बचाई.

धोबी घाट में लहूलुहान पड़ी थी छात्रा

एडिशनल एसपी मोहम्मद अयूब ने बताया कि एक छात्रा वार्ड नंबर 1 धोबी घाट में लहूलुहान स्थिति में पड़ी है. इस सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची. वहीं मौके पर मौजूद नगर पालिका ईओ उदय सिंह और हेमंत कुमार वर्मा ने मीडियाकर्मियों को सूचित किया. मौके पर पहुंचकर पुलिस की टीम, मीडियाकर्मियों और प्रशासनिक अधिकारियों ने रेस्क्यू कर छात्रा को गंभीर हालत में खेतड़ी अजीत अस्पताल पहुंचाया, जहां पर 4 डॉक्टर आरस जाखड़, डॉक्टर शेर सिंह निर्वाण, डॉक्टर मधुसूदन, डॉक्टर सुरेश कुमार मिल ने छात्रा का ऑपरेशन किया.



21 वर्ष की है छात्रा 
डॉ आर. एस. जाखड़ ने बताया कि छात्रा का गला पूरी तरह से कट गया था. यही वजह है कि उसका ऑपरेशन किया गया. वहीं एडिशनल एसपी मोहम्मद अयूब ने बताया कि छात्रा गुड़िया पुत्री उमाशंकर, उम्र 21 वर्ष, निवासी सिवानपुर जिला बलिया, उत्तर प्रदेश की रहने वाली है.

छात्रा के पिता करते हैं खेती 

छात्रा ने लिखित बयान में कहा कि, 'मेरे पिता यूपी में खेती-बाड़ी करते हैं. मेरे चाचा मुझे पढ़ा रहे थे. जयपुर एसएमएस अस्पताल में नर्सिंग प्रथम वर्ष की छात्रा हूं, लेकिन मुझे पढ़ाई समझ में नहीं आ रही थी. मैं अपनी बहन के पास केकड़ी जा रही थी. गलती से बस में बैठकर खेतड़ी आ गई. पढ़ाई समझ में नहीं आने के कारण चाकू से मैंने अपना गला काट लिया. मुझे किसी ने डराया, धमकाया नहीं है और ना ही इसमें किसी की गलती है.' छात्रा की स्थिति में सुधार हो रहा है.

यह भी पढ़ें: ATM कार्ड बदलने का आरोपी भीड़ के हत्थे चढ़ा, उसे पिटती देखती रही पुलिस

कोटा: नाबालिग छात्रा से गैंगरेप, रेपिस्टों को जीवन की अंतिम सांस तक जेल की सजा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज