बोरे में भरकर साइकिल से ले जा रहा था दोस्त का शव, भीड़ ने पीटा

राजस्थान की राजधानी जयपुर (Jaipur) में शुक्रवार को मॉब लिंचिंग (Mob lynching) की एक घटना होते-होते रह गई. एक व्यक्ति अपने दिवंगत दोस्त के शव को बोरे में भरकर साइकिल पर ले जा रहा था. रास्ते में लोगों ने उसे पकड़कर जमकर पीट दिया.

News18 Rajasthan
Updated: August 31, 2019, 7:24 PM IST
बोरे में भरकर साइकिल से ले जा रहा था दोस्त का शव, भीड़ ने पीटा
पैसे नहीं थे, बोरे में भरकर साइकिल से ले जा रहा था शव, पुलिस ने शख्स को भीड़ से बचाया.
News18 Rajasthan
Updated: August 31, 2019, 7:24 PM IST
राजस्थान (Rajasthan) की राजधानी जयपुर (Jaipur) में शुक्रवार को मॉब लिंचिंग (Mob lynching) की एक घटना होते-होते रह गई. एक व्यक्ति अपने दिवंगत दोस्त के शव को बोरे में भरकर साइकिल से ले जा रहा था. रास्ते में लोगों ने उसे पकड़कर जमकर पीट दिया. गनीमत यह रही कि समय रहते मौके पर पुलिस पहुंच गई और उसने युवक को भीड़ के चंगुल से बचा लिया. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के राजकुमार गुप्ता अपने दोस्त के शव को बोरे में भरकर अंत्येष्टि के लिए ले जा रहे थे. विश्वकर्मा चौराहे के पास साइकिल पर रखे बोरे से निकलता सिर देखकर लोगों ने उसे घेर लिया.

राजकुमार अपने दोस्त की शराब पीने से मृत्यु होने की दुहाई देता रहा, लेकिन भीड़ ने उसकी बात नहीं सुनी और उसकी पिटाई शुरू कर दी. गनीमत यह थी कि समय रहते मौके पर पुलिस पहुंच गई. पुलिस ने उसे भीड़ के चंगुल से बचा लिया और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में शराब पीने की वजह से उसकी मौत होने की पुष्टि हुई है.

पैसे नहीं थे इसलिए साइकिल से श्मशान ले जा रहा था शव
राजकुमार ने बताया कि उसका दोस्त हीरालाल यादव (35) मूल रूप से बिहार का रहने वाला था. उसने बताया कि वह अंत्येष्टि के लिए कोई वाहन किराए पर नहीं ले सका क्योंकि उसके पास पैसे नहीं थे, इसलिए वह शव को बोरे में भरकर साइकिल से ही श्मशान ले जा रहा था.

राजकुमार ने बताया कि मृतक हीरालाल की पत्नी और बच्चे जयपुर में ही रहते हैं. उसकी शराब की लत से परेशान होकर उसके घरवालों ने उसे घर से निकाल दिया था. वह उसके साथ ही रहता था. उसने बताया कि सुबह जब वह मजदूरी करने जा रहा था तो हीरालाल शराब पी रहा था. दोपहर में जब राजकुमार लौटा तो कमरे में उसके दोस्त की मौत हो चुकी थी.

मामला संदिग्ध नहीं: एसीपी
असिस्टेंट पुलिस कमिश्नर (एसीपी) बजरंग सिंह शेखावत ने कहा कि उन्होंने राजकुमार गुप्ता से पूछताछ की है, मामला संदिग्ध नहीं है. उन्होंने अधिक शराब पीने को मौत की वजह बताते हुए कहा कि मृतक के शरीर पर किसी तरह की चोट के निशान नहीं हैं. एसीपी ने बताया कि कांवटिया अस्पताल में मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराया गया. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी शराब के सेवन को उसके मौत की वजह बताया गया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2019, 6:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...