होम /न्यूज /राजस्थान /राजस्थान संकट के स्क्रिप्ट राइटर थे गहलोत गुट के ये 3 नेता! कांग्रेस ने जारी किया कारण बताओ नोटिस

राजस्थान संकट के स्क्रिप्ट राइटर थे गहलोत गुट के ये 3 नेता! कांग्रेस ने जारी किया कारण बताओ नोटिस

राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच  सीएम अशोक गहलोत ने मंगलवार शाम जयपुर में सीएम आवास पर कुछ मंत्रियों और विधायकों के साथ अनौपचारिक बैठक की.

राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच सीएम अशोक गहलोत ने मंगलवार शाम जयपुर में सीएम आवास पर कुछ मंत्रियों और विधायकों के साथ अनौपचारिक बैठक की.

इस रिपोर्ट में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गुट के शांति धारीवाल, महेश जोशी और धर्मेंद्र राठौड़ को राजस्थान कांग्रेस में जारी ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

नीरज कुमार
नई दिल्ली.
कांग्रेस की राजस्थान इकाई में जारी संकट को लेकर पार्टी पर्यवेक्षकों अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे ने मंगलवार को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को अपनी लिखित रिपोर्ट सौंप दी है. इस रिपोर्ट में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गुट में बताए जा रहे शांति धारीवाल, महेश जोशी और धर्मेंद्र राठौड़ को विधायकों की इस बगावत का जिम्मेदार ठहराया है. इस रिपोर्ट के आधार पर राजस्थान कांग्रेस के इन तीनों नेताओं को पार्टी हित के खिलाफ काम करने के आरोप में कारण बताओ नोटिस जारी किया गया.

शांति धारीवाल को कांग्रेस की अनुशासनात्मक समिति द्वारा जारी नोटिस में कहा गया है कि 10 दिन के अंदर अपने ऊपर लगे आरोपों का जवाब दें. नोटिस में कहा गया है कि आप संसदीय कार्य मंत्री होते हुए पार्टी के आधिकारिक प्रक्रिया के तहत बुलाई गई मीटिंग में ना बैठकर आपने अलग से मीटिंग बुलाई. आप डायस पर बैठे, बयान दिया, जो कि घोर अनुशासनहीनता है. धारीवाल के साथ ही महेश जोशी और राठौड़ को भी कांग्रेस की अनुशासनात्मक समिति ने नोटिस जारी करते हुए जवाब तलब किया गया है.

राजस्थान संकट पर सोनिया गांधी को सौंपी रिपोर्ट
कांग्रेस पार्टी के महासचिव और राजस्थान के प्रभारी अजय माकन ने राज्य के सियासी घटनाक्रम को लेकर सोनिया गांधी को मंगलवार शाम हार्ड कॉपी में अपनी रिपोर्ट भेज दी. इससे पहले उन्होंने राजस्थान भेजे गए पर्यवेक्षक मल्लिकार्जुन खड़गे को भी पहले अपनी रिपोर्ट दिखाई. यह रिपोर्ट दो भाग में हैं. एक भाग में पूरा घटनाक्रम है और दूसरा भाग अनुशासनात्मक कार्रवाई से जुड़ा है.

सूत्रों ने बताया कि पर्यवेक्षकों की इस रिपोर्ट में मुख्यमंत्री गहलोत का सीधे तौर पर कोई हवाला नहीं दिया गया है. हालांकि इस बात का जिक्र जरूर है कि अशोक गहलोत की सहमति और पूरी जानकारी के बाद ही विधायक दल की बैठक रखी गई थी.

बता दें कि सोनिया गांधी ने सोमवार को जयपुर से लौटे दोनों पर्यवेक्षकों मल्लिकार्जुन खड़गे और अजय माकन से वहां के हालात पर लिखित रिपोर्ट सौंपने को कहा था. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थक विधायकों के बागी रुख अपनाने के कारण जयपुर में विधायक दल की बैठक नहीं हो पाने के बाद खड़गे और माकन सोमवार को दिल्ली लौटे थे और 10 जनपथ पहुंचकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी.

दरअसल राजस्थान में कांग्रेस विधायक दल की बैठक रविवार शाम को मुख्यमंत्री आवास पर होनी थी, लेकिन गहलोत के वफादार कई विधायक बैठक में नहीं आए. उन्होंने संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल के बंगले पर बैठक की और फिर वहां से विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी से मिलने चले गए और उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया था. कांग्रेस विधायकों की इस हरकत को अजय माकन ने सीधे तौर अनुशासनहीनता करार दिया था.

Tags: Ashok gehlot, Rajasthan Congress

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें