लाइव टीवी

रोचक: कोहरे में ट्रेनों को दुर्घटनाओं से बचाता है यह डिवाइस, धमाका कर सतर्क करता है

Asif Khan | News18 Rajasthan
Updated: December 2, 2019, 6:24 PM IST
रोचक: कोहरे में ट्रेनों को दुर्घटनाओं से बचाता है यह डिवाइस, धमाका कर सतर्क करता है
इस डिवाइस को क्लिप के सहारे रेल की पटरियों में स्टक किया जाता है.

सर्दियों का मौसम शुरू हो चुका है और उत्तर पश्चिम रेलवे (North Western Railway) ने कोहरे से निपटने के लिए व्यापक तैयारियां शुरू कर दी है.

  • Share this:
जयपुर. सर्दियों का मौसम शुरू हो चुका है और उत्तर पश्चिम रेलवे (North Western Railway) ने कोहरे से निपटने के लिए व्यापक तैयारियां शुरू कर दी है. कोहरे (Fog) के दौरान रेल सेवाएं अक्सर देरी से चलती है या फिर रद्द हो जाती हैं. वहीं कई बार दुर्घटनाएं (Accidents) भी हो जाती है. इन स्थितियों से बचने के लिए रेलवे की ओर से मुक्कमल तैयारियों का दावा किया जा रहा है. इन्हीं तैयारियों के तहत रेलवे की ओर से एक ऐसे डिवाइस (Device) का इस्तेमाल भी किया जा रहा है जो ट्रेन को इन सब परिस्थितियों से बचाने में सहायक साबित होता है.

चकरी या ज़मीन चक्कर जैसा होता है यह डिवाइस
दिखने में ये डिवाइस दीपावली में आतिशबाज़ी के दौरान काम आने वाली चकरी या ज़मीन चक्कर जैसा है. इस डिवाइस को क्लिप के सहारे रेल की पटरियों में स्टक किया जाता है. इसे रेलवे फाटक या स्टेशन आने से पहले ही कुछ दूरी पर लगाया जाता है. जैसे ही इस डिवाइस पर से रेल का ईंजन गुजरता है तो इसमें ज़ोरदार धमाका होता है. इसकी साफ आवाज़ रेल ड्राईवर को सुनाई देती है. इस धमाके को सुनने का मतलब है कि ड्राइवर समझ जाता है कि अब कुछ ही दूरी पर रेलवे फाटक या स्टेशन आने वाला है और वो गाड़ी की रफ्तार धीमी कर लेता है.

किसी तरह का धुंआ या नुकसान नहीं पहुंचता

उत्तर पश्चिम रेलवे सीपीआरओ अभय शर्मा का कहना है कि ये डिवाइस बेहद सुरक्षित है और इसके धमाके से बस शोर होता है. किसी तरह का धुंआ या नुकसान नहीं पहुंचता. ये डिवाइस कोहरे के समय ही काम में लिया जाता है जब रेल ड्राइवर को पटरियों पर आगे कुछ भी नज़र नहीं आता.

ट्रेन के गुजरने तक कर्मचारी वहीं पर खड़ा रहता है
इस डिवाइस को कोहरे के समय रेल कर्मचारी ट्रेन आने से कुछ समय पहले ही पटरी पर इंस्टॉल करता है. इसे इंस्टॉल करने वाला कर्मचारी तब तक वहीं खड़ा रहता है जब तक ट्रेन वहां से गुज़र ना जाए. क्योंकि इस बात की आशंका बनी रहती है कि कोई इसे पटरी से खोल कर ले जा सकता है.राजस्थान: 6 साल की बच्ची की रेप के बाद हत्या, स्कूल बेल्ट से घोटा गला 

Tonk Rape and Murder Case: पीड़ित परिवार को 5 लाख की आर्थिक सहायता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 2, 2019, 6:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर