Rajasthan: इस बार 98.30 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में होगी रबी की बुवाई, खाद-बीज की नहीं होगी किल्लत

वर्तमान में राज्य के पास मांग से ज्यादा बीज की उपलब्धता है.
वर्तमान में राज्य के पास मांग से ज्यादा बीज की उपलब्धता है.

1 अक्टूबर से रबी सीजन (Rabi season) की शुरुआत हो चुकी है. इस बार 98.30 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बुवाई का टारगेट (Sowing target) रखा गया है. कृषि विभाग का कहना है कि किसान निश्चिंत रहें खाद-बीज की कोई किल्लत नहीं होगी.

  • Share this:
जयपुर. कोरोना (COVID-19) के साये के बीच ही प्रदेश में रबी सीजन (Rabi season) की तैयारियां भी जोर- शोर से चल रही हैं. प्रदेश में आधिकारिक रूप से एक अक्टूबर से लेकर 31 मार्च तक रबी सीजन होता है. रबी सीजन में इस बार प्रदेश में 98.30 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बुवाई का टारगेट (Sowing target) रखा गया है. हालांकि अनियमित बारिश का असर रबी की बुवाई पर भी नजर आ सकता है.

इस बार खरीफ की बुवाई 15 लाख हेक्टेयर में कम हुई थी. सावन सूखा जाने के बाद हालांकि भादौ में प्रदेश में अच्छी बारिश हुई थी, लेकिन जल स्रोतों में पर्याप्त पानी नहीं आया. इसका असर रबी की बुवाई पर पड़ सकता है. कृषि विभाग ने खाद - बीज की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए बड़े स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी है. कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने बीज और उर्वरक की पर्याप्त आपूर्ति रखने तथा कालाबाजारी की शिकायत मिलने पर तुंरत कार्रवाई करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं.

Alwar Gangrape Case: पति को बंधक बनाकर पत्‍नी से गैंगरेप करने वाले 5 आरोपियों की सजा का ऐलान, 4 को उम्रकैद



साढ़े 14 लाख क्विंटल बीज की जरूरत
कृषि विभाग के आयुक्त डॉ. ओमप्रकाश के मुताबिक रबी सीजन में 32 लाख हैक्टेयर में गेहूं की बुवाई संभावित है. वहीं 16 लाख हैक्टेयर में चना और 3 लाख हैक्टेयर में जौ की बुवाई संभावित है. बुवाई के इस अनुमान के अनुसार 14.5 लाख क्विंटल बीज की जरूरत पड़ेगी. बीज की इतनी मात्रा में आपूर्ति को लेकर कृषि विभाग निश्चिंत है. वर्तमान में राज्य के पास मांग से ज्यादा बीज की उपलब्धता है. अभी राज्य में 19 लाख क्विंटल बीज उपलब्ध है.

Alwar gangrape case: वारदात से सजा तक की पूरी दास्तां, देखें, कहां, कब और कैसे हआ ये सब, PHOTOS

इतनी खाद की होगी आवश्यकता
रबी सीजन के लिए कृषि विभाग की ओर से केंद्र सरकार को 14 लाख टन यूरिया, 3.5 लाख टन डीएपी और 3 लाख टन एसएसपी की मांग भिजवाई गई है. यह मांग केंद्र सरकार द्वारा स्वीकृत भी की जा चुकी है. कृषि आयुक्त डॉ. ओमप्रकाश के मुताबिक वर्तमान में प्रदेश में 4.35 लाख टन यूरिया और 3.10 लाख टन डीएपी उपलब्ध है. इसी महीने 1 लाख 13 हजार टन डीएपी और 3 लाख 23 हजार टन यूरिया विभिन्न कंपनियों द्वारा राज्य में आपूर्ति किया जाएगा. पूर्वी राजस्थान में चूंकि सरसों की बुवाई की तैयारियां शुरू हो गई है लिहाजा पहले वहां खाद और बीज की आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज