राजस्थान: इस बार भारी बारिश में नहीं बिगड़ेंगे हालात, गहलोत सरकार ने बनाया ये बड़ा 'एक्शन प्लान'

गत बार प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश के कारण हालात बिगड़ गये थे. (सांकेतिक तस्वीर )

Gehlot Government made Strong Action Plan: मानसून के दौरान होने वाले हादसों से बचने के लिये राज्य की अशोक गहलोत सरकार ने इस बार पहले ही मेगा एक्शन प्लान तैयार कर लिया है. इसे अमली जामा भी पहना दिया गया है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में मानसून (Monsoon) दस्तक देने वाला है. पिछले साल जयपुर समेत राज्य के कई जिलों में मूसलाधार बारिश (Heavy rain) के चलते बाढ़ की स्थिति का सामना करना पड़ा था. भारी बारिश के कारण राजधानी जयपुर ठहर गयी थी. प्रदेशभर में वर्षाजनित हादसों (Accidents) में करीब 10 हजार से अधिक पशु धन की हानि हुई और सैकड़ों लोग मारे गए थे. सरकारी आंकड़ों के अनुसार करीब 50 हजार कच्चे-पक्के मकान ढह गए थे. फिर से ऐसे हालात का सामना नहीं करना पड़े इसके लिये सरकार ने इस बार पहले ही एक्शन प्लान (Action Plan) तैयार कर लिया है.

इस बार प्रदेश की गहलोत सरकार ने पुरानी गलतियों से सबक लेते हुए बारिश के दौरान जन-धन की हानि से बचने के लिए पुख्ता इंतजाम किए हैं. सरकार हर चुनौती से निपटने के लिए तैयार है. राज्य सरकार ने इस बार ऐसी व्यवस्थाएं की है जिसे संभावनाएं जताई जा रही है कि इस बार पुराने जैसे हालात नहीं होंगे.

यह है गहलोत सरकार का 'एक्शन प्लान'
- उन क्षेत्रों में जहां पानी भरता है और नाले बंद हो जाते हैं उनकी पहचान पूरी कर ली गई है.
- जर्जर व पुरानी इमारतों की पहचान कर उन्हें खाली करवाने के निर्देश दे दिये गये हैं.
- ऐसी पुलिया जहां वर्षा का पानी आ जाता है या किसी बांध से पानी छोड़े जाने पर उनके ऊपर पानी आ जाता है चिन्हित कर ली गई है.
- इन पुलियाओं पर सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता रहेगी.
- सचिवालय में वेदर वॉच ग्रुप का गठन किया गया है.
- वेदर वॉच ग्रुप की नियमित बैठकें होंगी. वह तैयारियों की समीक्षा करेगी.
- नालों की सफाई एवं मरम्मत का कार्य शुरू कर दिया गया है.
- जिलों में बाढ़ बचाव के लिये टीमों का गठन कर दिया गया है.
- राज्य एवं जिला स्तर पर नियंत्रण कक्ष स्थापित कर दिये गये हैं.
- पड़ोसी राज्यों से वार्ता कर उनके यहां से पानी नहीं छोड़ने के निर्देश दिये गये हैं.
- सेना के प्रतिनिधियों ने राज्य सरकार को बताया है कि बाढ़ बचाव के लिए वह पूर्ण रूप से तैयार है.
- आपात स्थिति आने पर तुरंत सेना की टीम उपलब्ध करवा दी जाएगी.
- हेलीकॉप्टर और दूरसंचार की भी जरूरत पड़ेगी तो उपलब्ध करवाया जाएगा.
- जिन क्षेत्रों में भारी वर्षा की संभावना होती है वहां विशेष चौकसी रहेगी.
- स्काउट एवं गाइड के प्रतिनिधि प्रत्येक जिले में स्वयं सेवक के रूप में मौजूद रहेंगे.
- अप्रिय हालात होने पर जरूरतमंदों को भोजन-पानी की व्यवस्था सुनिश्चित की जायेगी.
- राज्य स्तर पर नियंत्रण कक्ष सक्रिय जिसका टोल फ्री नंबर 1017 जारी कर दिया गया है.
- विद्युत विभाग के अधिकारियों को आंधी तूफान के समय अलर्ट रहने के निर्देश दिये गये हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.