राजस्थान: सरकारी अस्पताल में इलाज कराना है तो पहले बताना पड़ेगा अपना धर्म

राजस्थान के सबसे बड़े सवाई मान सिंह अस्पताल में मरीज को सबसे पहले ये एक रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरना पड़ता है. इसी फॉर्म में एक धर्म का कॉलम भी है जिसे बिना भरे आपकी पर्ची नहीं बनेगी और बिना पर्ची इलाज संभव नहीं है.

News18 Rajasthan
Updated: July 26, 2019, 10:16 PM IST
राजस्थान: सरकारी अस्पताल में इलाज कराना है तो पहले बताना पड़ेगा अपना धर्म
जयपुर के इस अस्पताल में इलाज से पहले बताना पड़ेगा धर्म
News18 Rajasthan
Updated: July 26, 2019, 10:16 PM IST
जाति-धर्म के वाद विवाद के बीच एक खबर राजस्थान के सरकारी अस्पतालों से आ रही है. आरोप है कि राजस्थान के सबसे बड़े सवाई मान सिंह अस्पताल में मरीजों को इलाज से पहले अपना धर्म बताना पड़ता है. जी हां यहां अगर आप इलाज कराना चाहते हैं तो अस्पताल की पर्ची में आपको बताना पड़ेगा कि आप किस धर्म से हैं.

वहीं इस डॉक्टरों का अपना तर्क है, उनका कहना है कि धर्म की जानकारी रिसर्च के लिए इकट्ठा करना शुरू किया है. इससे हमें लोगों के इलाज में मदद मिलेगी. राजस्थान के सबसे बड़े सवाई मान सिंह अस्पताल में मरीज को सबसे पहले ये एक रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरना पड़ता है. इसी फॉर्म में एक धर्म का कॉलम भी है जिसे बिना भरे आपकी पर्ची नहीं बनेगी और बिना पर्ची इलाज संभव नहीं है.

हालांकि अस्पताल प्रशासन के इस फैसले पर जनता हैरानी जता रही है. उनका कहना है कि बीमारियों का मजहब से क्या लेना देना. खासकर मुस्लिम समुदाय में इस बात को लेकर संशय बना हुआ है. लोगों का कहना है कि उन्हें जानबूझकर तंग करने के लिए इस तरह के फार्म भरवाए जा रहे हैं. इलाज सिर्फ नाम लिखकर कर सकते हैं मगर धर्म का कॉलम भरवा कर परेशान किया जा रहा है.

इस मुद्दे पर राजस्थान सरकार का कहना है कि पिछले साल बीजेपी सरकार में यह शुरू हुआ था. हम पता करवाएंगे कि आखिर सरकार ने क्यों शुरू किया था उसके बाद ही कुछ कह पाएंगे.

ये भी पढ़ें: 

अगले 48 घंटे पूर्वी राजस्थान पर भारी, तेज बारिश का अलर्ट

नाबालिग ने दिया बच्ची को जन्म तो दर्ज हुई Rapist पर एफआईआर
Loading...

 
First published: July 26, 2019, 10:16 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...